Home /News /uttar-pradesh /

प्रयागराज स्थित त्रिवेणी पुष्प, बोट क्लब बन रहा पर्यटन का प्रमुख केंद्र

प्रयागराज स्थित त्रिवेणी पुष्प, बोट क्लब बन रहा पर्यटन का प्रमुख केंद्र

X

त्रिवेणी संगम सदियों से प्रयागराज की पहचान रहा है.संगम यानी प्रयाग की पवित्र धरती का स्मरण. संगम तट पर अनेकों पर्यटन स्थल मौजूद हैं,इनमें से कुछ बेहद प्राचीन हैं और कुछ वर्तमान में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए बनाए गए हैं . इन्हीं में त्रिवेणी पुष्प और बोर्ड क्लब प्रमुख है. जहां सालों से विदेशी तथा देशी पर्यटक भारी संख्या में सुबह शाम घूमने आते हैं

अधिक पढ़ें ...

    Prayagraj: त्रिवेणी संगम सदियों से प्रयागराज की पहचान रहा है.संगम यानी प्रयाग की पवित्र धरती का स्मरण. संगम तट पर अनेकों पर्यटन स्थल मौजूद हैं,इनमें से कुछ बेहद प्राचीन हैं और कुछ वर्तमान में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए बनाए गए हैं . इन्हीं में त्रिवेणी पुष्प और बोर्ड क्लब प्रमुख है. जहां सालों से विदेशी तथा देशी पर्यटक भारी संख्या में सुबह शाम घूमने आते हैं.यमुना तट पर स्थित ये स्थान बेहद शांत और खुशनुमा है. त्रिवेणी पुष्प और बोट क्लब की आपस मे दूरी कुछ ही किलोमीटर की है.आपको बता दें कि त्रिवेणी पुष्प एक तीन मंजिला इमारत है जो अरैल नामक स्थान पर स्थित है,वहीं बोट क्लब वह स्थान है जहां पर भारी संख्या में सैलानी बोट पर बैठकर संगम के नजारे का लुत्फ लेते हैं.

    यमुना तट पर स्थित ये स्थान है बेहद शांत और खुशनुमा
    अगर बात करे त्रिवेणी पुष्प की तो यह स्थान बहुत पुराना नहीं है, 2001 में राज्यपाल आचार्य विष्णुकांत शास्त्री द्वारा इसका उद्घाटन किया गया था. यह तीन मंजिला इमारत देखने में खूबरसूरत है.एक बड़े से परिसर में के बीचो-बीच बनी इस इमारत को देखने लोग सुबह-शाम आते हैं, अंदर मौजूद पार्क लोगों को सुकून देता है .इसी के पास महर्षि महेश योगी का एक आश्रम है और इसी संस्था द्वारा मीनार की स्थापना की गई थी. त्रिवेणीपुष्प के परिसर में राम जन्मभूमि, बद्रीनाथ , केदारनाथ और कई मंदिर के मॉडल रखे गए हैं लेकिन जब आप यहां घूमने जाएंगे तो हकीकत आपको अलग मिलेगी. इस स्थान का सौंदर्यीकरण हो चुका है लेकिन रखरखाव अच्छे से ना होने के कारण यह स्थान धीरे-धीरे स्थानीय लोगों के बीचअपनी लोकप्रियता खोता जा रहा है.बोट क्लब,जैसा कि नाम से ही पता चल रहा है यह वह स्थान है जहां आप बोट पर बैठकर संगम का चक्कर लगा सकते हैं, उसकी लहरों को करीब से देख सकते हैं , महसूस कर सकते हैं. बोट क्लब 11:30 से 4:30 तक आम लोगों के लिए खुला रहता है. यहां अलग-अलग तरह की बोट उपलब्ध है. त्रिवेणी बोट, सरस्वती बोट, गंगा बोट, पैडल वोट जैसी अलग-अलग क्षमता वाली बोट अलग-अलग किराए में उपलब्ध है.

    (रिपोर्ट- प्राची शर्मा)

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर