कमाल का कुंभ: 10 महीने की उम्र से तपस्या ! जानें बाल साधुओं का रहस्य

कुंभ नगरी में ऐसे कई बाल नागा साधु है जिन्हें 10 महीने 12 महीने की उम्र में अखाड़ों को सौंप दिया जाता है. कई माता-पिता अपनी पहली संतान को संत महात्मा बनाने के लिए संतों के बीच ही छोड़ देते हैं.

News18Hindi
Updated: February 5, 2019, 3:20 PM IST
News18Hindi
Updated: February 5, 2019, 3:20 PM IST
'मुझे इंजीनियर, डॉक्टर, पायलट नहीं बल्कि महात्मा बनना है, यहां मेरे गुरू भक्ति भावना में लीन रहते हैं और अब मुझे भी इस तरह ही रहना है.' ये शब्द हैं प्रयागराज में चल रहे कुंभ में मौजूद महज 14 साल के बाल नागा के जिन्हें बचपन में ही अखाड़े में सौंप दिया गया था. महंत मनीष महाराज 5 साल की उम्र में अखाड़े में आए थे. इन्होंने बताया कि इनके माता-पिता इन्हें आशीर्वाद के रूप में अखाड़ों को सौंप गए थे. बाल नागा साधु महंत मनीष महाराज को अखाड़े की तरफ से सर्टिफिकेट मिला है और यह सारे संस्कार भी पूरे कर चुके हैं.

कुंभ नगरी में ऐसे कई बाल नागा साधु है जिन्हें 10 महीने 12 महीने की उम्र में अखाड़ों को सौंप दिया जाता है. कई माता-पिता अपनी पहली संतान को संत महात्मा बनाने के लिए संतों के बीच ही छोड़ देते हैं. आखिर कोई माता पिता अपने बच्चे को अखाड़ों में कैसे सौंप देता है और क्यों सौंप देता है ? इसके पीछे भी कई रहस्य हैं. ये बाल नागा अखाड़ों में ही बड़े होते हैं और नागा साधु बनकर अखाड़ों में ही आखिरी सांस लेते हैं.

ये भी देखें- गैंगवॉर का लाइव VIDEO, एके 47 से हुई फायरिंग तो थर्रा गया बस स्टैंड
6 साल के चौदस महाराज जी के विचार निराले हैं. चौदस के माता पिता कौन है, यह खुद चौदस भी नहीं जानते और अपने गुरु को ही माता पिता गुरु ईश्वर सब कुछ समझते हैं. चौदस महाराज को उनके माता-पिता 10 महीने की उम्र में अखाड़े को सौंप गए थे और तब से इसका लालन-पालन अखाड़े में हुआ. इस बच्चे की सारी जिम्मेदारी अखाड़े ने ही उठाई अखाड़े में ही खेलते कूदते चौदस महाराज 6 साल के हो गए. आज भी वो खिलौनों के साथ खेलते हुए अखाड़ों में अपने गुरु जी के साथ नजर आ जाते हैं.

14 साल के एक नन्हें नागा अमर महाराज को अपने जन्म और परिवार के बारे में कुछ नहीं मालूम, सिर्फ इतना मालूम है कि उनके गुरु ही उसके लिए सब कुछ हैं. नागा साधु के गुरु का कहना है कि यह बच्चे उनकी जिंदगी है और इनसे बढ़कर उनके लिए कोई और नहीं.



ऐसी ही अजब-ग़ज़ब कहानियों और VIDEOS के लिए क्लिक करें
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...