सरकारी सिस्टम से हारा कल्लू, पत्नी की लाश ठेले पर रखकर 45 किमी तक चला पैदल
Allahabad News in Hindi

सरकारी सिस्टम से हारा कल्लू, पत्नी की लाश ठेले पर रखकर 45 किमी तक चला पैदल
सरकारी सिस्टम से हारा कल्लू, पत्नी की लाश को ठेले पर रखकर 45 KM तक चला पैदल

इलाज के दौरान सोना नाम की महिला मरीज की मौत हो गई. लेकिन एंबुलेंस की सुविधा न मिल पाने के कारण मजबूर पति अपनी पत्नी की लाश को 45 किलोमीटर तक ठेले पर रखकर घर पहुंचा.

  • Share this:
प्रयागराज. शव ढोने के लिए सरकारी शव वाहन की उपलब्धता नहीं है और उसे देने में आनाकानी, सिस्टम के मकड़जाल में फंसे एक किसान की सिसकियां द्रवित करने वाली थीं. मानवता को शर्मसार कर देने वाला ये मामला उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में सामने आया है. यहां इलाज के दौरान एक महिला मरीज की मौत हो गई. लेकिन एंबुलेंस की सुविधा न मिल पाने के कारण मजबूर पति अपनी पत्नी की लाश को 45 किलोमीटर तक ठेले पर रखकर घर पहुंचा.

बता दें कि एसआरएन अस्पताल में पांच दिन पहले शंकरगढ़ से आए कल्लू ने पत्नी सोना देवी को सिर में लगी चोट का इलाज कराने को भर्ती कराया था. जहां गुरुवार को इलाज के दौरान सोना की मौत हो गई. पत्नी की मौत से अकेला पड़ गया कल्लू बच्चों के साथ दहाडे़ं मारकर रोया. उसने शव को ले जाने के लिए अस्पताल प्रशासन से एंबुलेंस मांगी लेकिन नहीं मिली, बताया गया कि शव वाहन भी उपलब्ध नहीं है.

निजी एंबुलेंस चालक तीन हजार रुपये मांगने लगे तो गरीब कल्लू भटकने लगा. मजबूरी में उसने रिक्शा ट्राली पत्नी का शव रखा और घर की ओर निकल पड़ा. रास्ते में उसकी हालत देखने वालों ने अफसोस जताया लेकिन कोई मदद को आगे नहीं आया. गरीबी और लाचारी में एसआएन अस्पताल से रिक्शा ट्राली में पत्नी का शव रखकर वो उसे शहर से लगभग 45 किलोमीटर दूर शंकरगढ़ तक ले गया. लगभग 45 किमी ट्रॉली खींचकर शव घर ले जाते हुए देखकर लोग हैरान रह गए. लेकिन पत्नी की मौत के बाद सरकारी सिस्टम से हारा कल्लू दुखी मन से चलता रहा.



ये भी पढ़ें:
CM योगी आज काशी समेत कई बाढ़ प्रभावित इलाकों का करेंगे हवाई सर्वेक्षण

लॉ स्टूडेंट यौन शोषण मामला: आरोपी चिन्मयानंद को SIT ने आश्रम से किया गिरफ्तार
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading