अम्बेडकरनगर- शराब पीने से 5 लोगों की मौत, आबकारी निरीक्षक सहित चार निलम्बित

अम्बेडकर नगर में शराब पीने से मौतों के बाद निलंबन की कार्रवाई हो रही है. . (प्रतीकात्मक तस्वीर)

अम्बेडकर नगर में शराब पीने से मौतों के बाद निलंबन की कार्रवाई हो रही है. . (प्रतीकात्मक तस्वीर)

Ambedkar Nagar News: अंबेडरकनगर डीएम के पत्र पर आबकारी आयुक्त ने आबकारी निरीक्षक कौशलेंद्र प्रताप सिंह, प्रधान आबकारी सिपाही दीप नारायण वर्मा, आबकारी सिपाही सर्वेश कुमार व प्रदीप कुमार सिंह को निलंबित कर दिया है.

  • Share this:

अम्बेडकरनगर. उत्तर प्रदेश के अम्बेडकर नगर (Ambedkar Nagar) में शराब (liquor) पीने से 5 लोगों की मौत के मामले में कार्रवाई शुरू हो गई है. मामले में डीएम के पत्र के बाद अबकारी आयुक्त ने ने आबकारी निरीक्षक सहित चार को निलंबित (Suspend) कर दिया है. निलंबित होने वालों में आबकारी निरीक्षक कौशलेंद्र प्रताप सिंह, प्रधान आबकारी सिपाही दीप नारायण वर्मा, आबकारी सिपाही सर्वेश कुमार व प्रदीप कुमार सिंह के नाम प्रमुख हैं.

बता दें जैतपुर थाना क्षेत्र के मखदूमपुर का ये मामला है. मामले में पहले ही एसओ समेत 4 पुलिसकर्मियों पर गाज गिर चुकी है.

ये है पूरा मामला

बता दें अम्बेडकर नगर में शराब पीने से 5 लोगों की मौत हो गई है, जबकि चार की हालत गम्भीर है. आशंका जताई जा रही है कि शराब पीने के बाद ही इनकी तबियत बिगड़ी. ग्रामीणों ने आनन-फानन में तीन लोगों का अंतिम संस्कार भी कर दिया जबकि दो युवकों के शव पुलिस ने अपने कब्जे में लेकर पुलिस ने पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है.
मामला थाना जैतपुर के मखदूमपुर और शिवपाल गावों का है. शराब पीने से मौत की सूचना पर जलालपुर से सपा विधायक गांव में पहुंच गए. इसके बाद पुलिस भी गांव पहुंची. मरने वाले चार लोग एक ही गांव के हैं, जबकि एक बगल के दूसरे गांव का रहने वाला है. बताया जा रहा है कि लॉक डाउन के बाद भी यही व्यक्ति शराब लेकर आया था. जिला अस्पताल में भर्ती मरीज जैसराज के साथ आये परिजनों ने बताया कि गांव के एक दर्जन लोगों ने ये शराब पी थी, जिसके बाद इनकी तबियत खराब हुई. जिसमे से मखदूमपुर गांव के 4 लोगों की मौत हो गई है. जबकि शिवपाल गांव निवासी एक की मौत हुई है. जिसके बारे में बताया जा रहा है कि उसके द्वारा ही लोगों को शराब उपलब्ध कराई गयी थी.

आजमगढ़ से लाई गई शराब!

बताया जा रहा है कि शराब आजमगढ़ से लाई गई थी. लॉकडाउन में जब शराब की बिक्री बन्द थी तो ये कैसे बेची जा रही थी? ये भी जांच का विषय है. आबकारी विभाग और स्थानीय पुलिस की भूमिका पर भी सवाल खड़े हो रहे हैं कि क्षेत्र में शराब बेची जा रही थी तो ये कहां थे? वहीं जिलाधिकारी सैमुअल पॉल एन के आदेश पर इस पूरे मामले पर जांच शुरू हो गई है. शराब से मौतों के मामले में प्रशासन ने बड़ी कार्यवाही करते हुए जहां 5 लोगों को गिरफ्तार कर लिया है. जैतपुर एसओ पंडित त्रिपाठी और हल्का इंचार्ज सहित दो अन्य सिपाहियों को एसपी ने निलंबित कर दिया है. जबकि डीएम द्वारा आबकारी विभाग के कर्मचारियों पर कार्यवाही की तैयारी चल रही है.



मामले में मुख्य आरोपी सहित 4 गिरफ्तार हैं

जैतपुर थानाक्षेत्र के शिवपालपुर और मखदूमपुर गांव में जहरीली शराब से एक के बाद एक मौतों की सूचना जब जिले के प्रशासनिक अधिकारियों तक पहुंची तो प्रशासनिक अमला अलर्ट हो गया. आनन-फानन में जिले के डीएम सैमुवल पॉल एन और एसपी आलोक प्रियदर्शी ने अपने दल-बल के साथ मृतकों के गांव पहुंच गए और एक-एक घर मे सर्च अभियान चलाकर शराब की तलाशी ली. साथ ही स्थानीय लोगो से पूछताछ की. डीएम और एसपी आजमगढ़ जिले के पवई बाजार पहुंचे, जहां से जहरीली शराब लाई गई थी. इसके बाद पुलिस ने शराब कांड के मुख्य आरोपी मोतीलाल सहित 4 अन्य आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया. एसपी ने इस मामले में जैतपुर एसओ पंडित त्रिपाठी और हल्का इंचार्ज सहित 4 पुलिस कर्मियों को निलंबित कर दिया. जहरीली शराब से बीमार 3 लोग जिला अस्पताल में भर्ती हैं. एसपी ने कहा कि आगे की जांच जारी है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज