तीन बेटियां को जन्म देना बना अभिशाप, पति ने घर से निकाला

बेबस महिला की गलती सिर्फ इतनी है कि वो अपनी कोख से एक बेटे को जन्म नहीं दे पाई. इसी बात से नाराज उसके पति ने तीन बेटियों के साथ महिला को घर से निकाल दिया.

ETV UP/Uttarakhand
Updated: December 20, 2017, 10:50 PM IST
ETV UP/Uttarakhand
Updated: December 20, 2017, 10:50 PM IST
अम्बेडकर नगर में एक महिला इस भयंकर ठंड में अपनी तीन बेटियों के साथ दर-दर की ठोकरें खा रही है. इस बेबस महिला की गलती सिर्फ इतनी है कि वो अपनी कोख से एक बेटे को जन्म नहीं दे पाई. इसी बात से नाराज उसके पति ने तीन बेटियों के साथ महिला को घर से निकाल दिया.

ये पूरा मामला जिले के अलीगंज थाना क्षेत्र के महरीपुर गांव का है जहां की रहने वाली अनीता ने एक बाद एक तीन बेटियों को जन्म दिया. महरीपुर गांव निवासी बिन्दु अपनी पत्नी अनीता को बेटा ना पैदा करने के आरोप में काफी दिनों से कोसता और मारता पीटता चला आ रहा था. लेकिन तीन दिन पहले आक्रोशित पति ने पत्नी अनीता पर फावड़े से जान लेवा हमला तक किया और फिर अनीता को तीनों पुत्रियों के साथ घर से निकाल दिया.

ठंड व कोहरे के मौसम में पीड़िता तीन दिन से अपनी मासूम बेटियों को लेकर सड़कों पर मारी-मारी फिर रही है. फिलहाल अनीता ने अपनी बेटियों के साथ पुलिस क्षेत्राधिकारी टाण्डा के समक्ष पेश होकर न्याय की गुहार लगाई है. भारत सरकार 'बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ' योजना को आम जन तक पहुंचाने के लिए हर स्तर प्रचार प्रसार कर रही है वहीं कुछ लोग ऐसे भी हैं जिन्हें वंश आगे बढ़ाने के लिए बेटा ही चाहिए.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर