रियलिटी चेक में फेल हो गया अम्बेडकर नगर का ये स्कूल

लापरवाही से चलते बच्चे वाहन के खुले दरवाजे पर खड़े होकर स्कूल जाने को मजबूर हैं

ETV UP/Uttarakhand
Updated: September 12, 2017, 3:09 PM IST
ETV UP/Uttarakhand
Updated: September 12, 2017, 3:09 PM IST
रायन इंटरनेशनल स्कूल में एक बच्चे की निर्मम हत्या के बाद से स्कूल में बच्चों की सुरक्षा को लेकर गंभीर सवाल खड़े हो रहे हैं. इन्हीं सवालों के जवाब जानने के लिए अम्बेडकर नगर जिले के सबसे बड़े शिक्षण संस्थान डॉ अशोक स्मारक का रियलिटी चेक किया गया.

रियलिटी चेक में जो हकीकत सामने आई वो चौंका देने वाली थी. 6 स्कूलों वाले इस शिक्षण संस्थान के बच्चे घर से स्कूल जाने के लिए बसों में पर्याप्त सीट ना होने के कारण खड़े होकर जाते हैं.

इतना ही नहीं बसों में सीट से दोगुने बच्चे भरे जाते हैं. लापरवाही से चलते, बच्चे वाहन के खुले दरवाजे पर खड़े होकर स्कूल जाने को मजबूर होते हैं. जबकि विद्यालय प्रबंधन, अभिभावकों से इसके नाम पर भारी भरकम रकम वसूल करते हैं.

इतना ही नहीं डॉ अशोक स्मारक स्कूल के किसी भी विद्यालय में न तो सीसीटीवी कैमरे लगे हैं और न ही किसी बस ड्राइवर का पुलिस वेरीफिकेशन कराया गया है.

स्कूलों की मनमानी से अभिभावक अपने बच्चों की सुरक्षा को लेकर काफी चिंता हैं लेकिन मजबूरी ये है कि अभिभावक विद्यालय प्रबंधन से इस लापरवाली की शिकायत करने से डरते हैं
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर