अमेठी: एंटी भू-माफिया टास्क फोर्स का चला डंडा, गायत्री प्रजापति का कब्जा गिराया

गैंगरेप के आरोप में जेल में बंद पूर्व खनन मंत्री गायत्री प्रजापति की मुश्किलें बढ़ गई हैं. अमेठी प्रशासन ने गायत्री द्वारा अवैध रूप से कब्जा की गई जमीनों पर शिकंजा कसना शुरू कर दिया है.

ETV UP/Uttarakhand
Updated: December 7, 2017, 6:16 PM IST
अमेठी: एंटी भू-माफिया टास्क फोर्स का चला डंडा, गायत्री प्रजापति का कब्जा गिराया
सपा कार्यालय के बगल में तालाब पर कर लिया था कब्जा. Phto: ETV Network
ETV UP/Uttarakhand
Updated: December 7, 2017, 6:16 PM IST
गैंगरेप के आरोप में जेल में बंद पूर्व खनन मंत्री गायत्री प्रजापति की मुश्किलें बढ़ गई हैं. अमेठी प्रशासन ने गायत्री द्वारा अवैध रूप से कब्जा की गई जमीनों पर शिकंजा कसना शुरू कर दिया है.

इसी क्रम में अमेठी के आवास विकास कालोनी स्थित सपा कार्यालय के बगल के तालाब पर अवैध निर्माण को एसडीएम ने गुरुवार को भारी पुलिस बल की मौजूदगी में गिरवा दिया.

कार्यवाही के दौरान मौके पर मौजूद कार्यालय प्रभारी और गायत्री के निजी सचिव ने पूरे मामले को गलत बताया और एसडीएम अमेठी पर सत्ता पक्ष के इशारे पर काम करने का आरोप लगाया.

अमेठी के आवास विकास कालोनी में सपा कार्यालय पर गुरुवार को एसडीएम भारी पुलिस बल और जेसीबी के साथ पहुंचे. उन्होंने कार्यालय के बगल तालाब पर बनी करीब 200 मीटर लंबी बाउंड्रीवाल को गिरवा दिया. बाउंड्रीवाल गिरने की सूचना मिलते ही बड़ी संख्या में सपा कार्यकर्ता पहुंच गए. इस दौरान काफी देर तक कार्यकर्ताओ और एसडीएम में बहस भी हुई.

दीवार गिराने को लेकर कार्यालय प्रभारी और गायत्री के निजी सचिव विजयपाल उपाध्याय ने कहा कि प्रशासन ने गलत तरीके से सत्ता पक्ष के इशारे पर काम किया है. जिस जमीन पर बाउंड्रीवाल बनी है, ये उनकी जमीन है. जिसका बैनामा उनके पास है.

वहीं एसडीएम शैलेंद्र मिश्रा ने कहा कि सपा कार्यालय के बगल जो दीवार बनी थी, वो तालाब में बनी थी. एंटी भू माफिया एक्ट के तहत ये कार्यवाही की गई है. जो आरोप प्रशासन पर लगाये जा रहे है वो बिल्कुल ही निराधार हैं.

(रिपोर्ट: पप्पू पांडेय)
Loading...
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर