अमेठी: 55 वर्षीय महिला की मौत से नाराज परिजनों ने डॉक्टरों को दौड़ा-दौड़ाकर पीटा, जमकर की तोड़फोड़

अमेठी जिला अस्पताल में मरीज परिजनों ने जमकर किया बवाल

अमेठी जिला अस्पताल में मरीज परिजनों ने जमकर किया बवाल

Amethi News: परिजनों का आरोप था कि बुजुर्ग महिला की इलाज में डॉक्टरों ने देरी की जिससे उसकी मौत हो गई. वहीं डॉक्टरों के अनुसार महिला पहले ही मृत अवस्था में अस्पताल लाई गई थी.

  • Share this:

अमेठी. एक तरफ जहां कोरोना के लगातार बढ़ते मामलों के बीच डॉक्टर अपनी जान जोखिम में डालकर संक्रमित मरीजों का इलाज कर रहे हैं, तो वहीं दूसरी तरफ डॉक्टरों पर हमले भी बढ़ते जा रहे हैं. अमेठी (Amethi) के जिला अस्पताल (District Hospital) में इलाज के लिए लाई गई एक अधेड़ महिला की मौत से नाराज परिजनों और ग्रामीणों ने जमकर उत्पात मचाया और डॉक्टरों को दौड़ा-दौड़ा कर पीटा. इतना ही नहीं मृतका के परिजनों ने जिला अस्पताल के इमरजेंसी समेत कई ऑफिसों में जमकर तोड़फोड़ भी की. परिजनों का आरोप था कि बुजुर्ग महिला की इलाज में डॉक्टरों ने देरी की जिससे उसकी मौत हो गई. वहीं डॉक्टरों के अनुसार महिला पहले ही मृत अवस्था में अस्पताल लाई गई थी.

मामला अमेठी जिला अस्पताल का है, जहां मुंशीगंज थाना क्षेत्र के छोटी गरथोलिया गांव के रहने वाले पुलिस लाइन में सफाई कर्मचारी के पद पर तैनात मंजीत कुमार की 55 वर्षीय मां सोना देवी को उसके परिजन अचानक सीने में दर्द की शिकायत के बाद इलाज के लिए जिला अस्पताल लेकर पहुंचे, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया. डॉक्टरों के मृत घोषित करने के बाद उग्र हुए परिजनों और ग्रामीणों ने मौके पर मौजूद डॉक्टर और फार्मासिस्ट को पीटना शुरू कर दिया. किसी तरह दोनों ने मौके से भागकर अपनी जान बचाई. इसके बाद ग्रामीणों ने इमरजेंसी समेत कई ऑफिसों में जमकर तोड़फोड़ की. इसी बीच किसी ने पुलिस को सूचना दी. जिसके बाद मौके पर पहुंची भारी पुलिस फोर्स ने किसी तरह स्थिति को नियंत्रित किया.

मौत की बात सुनकर भड़के तीमारदार

प्रत्यक्षदर्शियों की माने तो कुछ लोग एक महिला को लेकर अस्पताल आये थे और जब डॉक्टर ने कहा कि इनकी पहले ही मौत हो गई है तो उन लोगों ने डॉक्टरों को पीटना शुरू कर दिया और जमकर तोड़फोड़ की. वहीं पीड़ित फार्मासिस्ट की माने तो ब्राड डेड बॉडी आई थी, जिसके बाद मैंने डॉक्टर को फोन किया और डॉक्टर मौके पर पहुंचे. डॉक्टर के कहते ही सभी उत्तेजित हो गये और महिलाएं चप्पलों से पिटाई करने लगी. किसी तरह डॉक्टर मौके से भागे.
सीएमओ ने कही कार्रवाई की बात

वहीं पूरे घटनाक्रम पर सीएमओ ने कहा कि अभी कुछ देर पहले ही मैं यहां से गया था. जिसके बाद फोन आया कि अस्पताल में कुछ बवाल हो रहा है. जब मैं यहां पहुचा तो डॉक्टर ने बताया कि महिला मृत अवस्था मे आई थी और जैसे ही परिजनों को बताया परिजन उग्र हो गये और तोड़फोड़ करने के साथ ही डॉक्टरों को पीटने लगे. पूरे मामले पर कड़ी करवाई की जाएगी.

वही मृतक के छोटे बेटे की माने तो उसकी माँ को अचानक सीने में दर्द हुआ और जब वो लोग उसे लेकर जिला अस्पताल पहुंचे तो डॉक्टरों ने घंटों तक उसका इलाज नहीं किया जिससे उसकी मौत हो गई.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज