होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /Corona in UP : अमेठी के गांव में एक के बाद एक 20 मौतें, डरे हुए ग्रामीणों ने कहा- 'कारण नहीं पता!'

Corona in UP : अमेठी के गांव में एक के बाद एक 20 मौतें, डरे हुए ग्रामीणों ने कहा- 'कारण नहीं पता!'

अमेठी के हारीमऊ  गांव में पसरा सन्नाटा.

अमेठी के हारीमऊ गांव में पसरा सन्नाटा.

ग्रामीणों का आरोप है कि स्वास्थ्य विभाग की टीम ने कोई जांच नहीं की इसलिए मौतों की वजह स्पष्ट नहीं है, वहीं सरकारी दावा ...अधिक पढ़ें

अमेठी. रहस्यमय तरीके से मौतों का सिलसिला जारी है लेकिन अधिकारी कागजों पर सब कुछ ठीक होने का दावा कर कर रहे हैं. कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर का कहर गांवो में टूट रहा है तो सबसे बड़ी मुश्किल यह है कि पोस्टमार्टम के अभाव में मौतों की वजह पता नहीं चल रही है. अमेठी के एक गांव में एक महीने के भीतर 20 लोगों की मौतों का कारण पता नहीं चल सका है क्योंकि न स्वास्थ्य विभाग की टीम यहां पहुंची, न ही कोई जांच हुई!

अमेठी के जगदीशपुर ब्लॉक के हारीमऊ गांव में 20 लोगों की मौत के मामले में जानकारी लेने के लिए स्वास्थ्य कर्मचारी मौके पर पहुंचे तो लेकिन केवल खानापूर्ति के लिए ही. ग्रामीणों का आरोप है कि टीम अस्पताल में आकर दवाइयां देकर चली जाती है. अब तक किसी ग्रामीण की जांच नही हुई, जिससे पता चल सके कि आखिर लगातार मौतों की वजह क्या है.

ये भी पढ़ें : उत्तराखंड के 9 जिले खतरनाक, मई के 14 दिनों में पिछले 1 साल से ज्‍यादा कोविड मौतें!

ग्रामीणों ने कहा 'कोई जांच नहीं हुई'
गांव के एक बुज़ुर्ग ने न्यूज़18 से बातचीत में कहा 'इतनी मौतें जीवन काल में एक साथ पहले कभी नहीं देखीं, जितनी पिछले एक महीने में हो चुकी हैं.' वहीं, गांव के युवाओं की मानें तो स्वास्थ्य विभाग की टीम गांव कभी नहीं आई और न ही कोई जांच की. टीम सिर्फ अस्पताल तक आती है और दवाइयां देकर चली जाती है।.

uttar pradesh news, amethi news, corona in uttar pradesh, corona in up villages, उत्तर प्रदेश न्यूज़, अमेठी न्यूज़, उत्तर प्रदेश में कोरोना, उप्र के गांवों में कोरोना
अमेठी के हारीमऊ गांव में पिछले एक महीने के दौरान करीब 20 मौतें हुईं.


'एक-एक घर से उठीं तीन-तीन लाशें'
इन मौतों ने ग्रामीणों को दहला दिया है तो दूसरी तरफ, स्वास्थ्य विभाग के काम करने का तरीका यह है कि टीम ने जांच करने की ज़हमत नहीं उठाई. ग्रामीण बताते हैं कि एम्बुलेंस आती है पर मरीज़ को लिये बगैर चली जाती है. गांव में तैनात आशा बहू घर-घर दवाइयां दे जाती हैं. ग्रामीणों के मुताबिक एक एक घर से तीन तीन मौतें हो जाने से दहशत इतनी हो गई है कि लोग खुद को घरों में डरकर बंद कर लेने पर मजबूर हैं.

ये भी पढ़ें : प्रेम प्रसंग में घर से भागी मां ने ही आखिर क्यों ली नन्ही-सी बेटी की जान?

कैसे शुरू हुआ गांव में मौतों का सिलसिला?
हारीमऊ ग्रामसभा के ग्राम प्रधान की मानें तो उनके गांव में मौतों की वजह की जानकारी तो किसी को नहीं है, लेकिन पिछले दिनों गांव का एक व्यक्ति दिल्ली से लौटा था. वह बीमार था और अस्पताल से लौटने के बाद उसकी मौत हुई थी. 'बस इस घटना के बाद से ही ताबड़तोड़ कई लोग खत्म हो गए.' प्रधान के मुताबिक यह बात मीडिया में आने के बाद स्वास्थ्य विभाग की टीम आई, लेकिन कोई सैंपलिंग नहीं की.

क्या कह रहे हैं अमेठी सीएमओ?
मुख्य चिकित्साधिकारी आशुतोष दुबे ने बताया कि गांव में लगातार मौतों की जानकारी उन्हें अखबारों से मिली थी. जगदीशपुर सीएचसी प्रभारी को निर्देशित करने के साथ ही दो दिनों तक गांव में सैनेटाइजेशन कराया गया. "संदिग्धों की सैंपलिंग के साथ ही दवाएं भी दी गईं. 6 लोग होम आइसोलेशन में ठीक भी हुए. गांव में 14 लोगों की मौत उम्र के चलते हुई जबकि एक मौत की वजह कोरोना संक्रमण रहा."

आपके शहर से (अमेठी)

अमेठी
अमेठी

Tags: Amethi news, Corona in Village, Coronavirus in Uttar Pradesh, Covid-19 deaths, Uttar pradesh news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें