5 सालों में यूपी की हाई-प्रोफाइल अमेठी व रायबरेली जिलों पर इन सांसदों ने की धनवर्षा

बता दें एक सांसद को एक साल में पांच करोड़ रुपये अपने संसदीय क्षेत्रों में विकास के लिए मिलते हैं. पांच साल में 25 करोड़ रुपये दिए जाते हैं.

Amit Tiwari | News18 Uttar Pradesh
Updated: January 4, 2019, 12:17 PM IST
5 सालों में यूपी की हाई-प्रोफाइल अमेठी व रायबरेली जिलों पर इन सांसदों ने की धनवर्षा
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल और सोनिया गांधी की फाइल फोटो
Amit Tiwari
Amit Tiwari | News18 Uttar Pradesh
Updated: January 4, 2019, 12:17 PM IST
यूपी में कांग्रेस के गढ़ माने जाने वाले अमेठी व रायबरेली संसदीय सीटों पर पिछले साढ़े चार साल में कांग्रेस के अलावा बीजेपी और सपा के सांसदों ने अपने सांसद निधि से विकास के लिए धनवर्षा की है. लिहाजा लोकसभा चुनाव 2019 में यूपी की इन दो संसदीय सीट पर सबकी निगाहें रहेंगी. अमेठी से कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी सांसद हैं तो वहीं रायबरेली से उनकी मां व यूपीए की चेयरपर्सन सोनिया गांधी सांसद हैं. बीजेपी और आरएसएस का इन दोनों ही सीटों पर सेंधमारी का सपना लंबे अरसे से है. हालांकि 2014 के मोदी लहर में कांग्रेस को सूबे में करारी शिकस्त मिली. बावजूद इसके वह अपने इन दो किलों को बचाने में सफल रही.

अयोध्या विवाद: तीन जजों की स्पेशल बेंच 10 जनवरी को तय करेगी रोजाना सुनवाई होगी या नहीं

हालांकि पिछले लोकसभा चुनावों में अमेठी में बीजेपी की स्मृति ईरानी ने राहुल गांधी को कड़ी टक्कर दी. इसके बाद से लगातार वे अमेठी के विकास के लिए सक्रिय होकर राहुल गांधी के लिए चुनौती खड़ी करती रही हैं. उनका दावा है कि उनकी वजह से ही कभी एक बार चेहरा दिखाने वाले राहुल गांधी को उन्होंने यहां बार-बार आने पर मजबूर कर दिया. शुक्रवार को 2014 के बाद पहली बार स्मृति ईरानी और राहुल गांधी एक ही दिन अमेठी के दौरे पर हैं.

वहीं दूसरी तरफ रायबरेली सीट पर भी बीजेपी की नजर है. यही वजह है कि सांसद सोनिया गांधी के संसदीय क्षेत्र पर संसद सदस्यों की निधि मेहरबान है. पिछले करीब पांच साल में अब तक मुंबई, कानपुर, लखनऊ, प्रतापगढ़ और बाराबंकी आदि जिलों के 10 संसद सदस्यों ने 61 करोड़ से अधिक की धनराशि अपनी निधि से दी है. इनमें कांग्रेस के साथ ही सपा और बीजेपी के संसद सदस्य भी सोनिया गांधी के क्षेत्र को निधि से बजट देने में पीछे नहीं रहे.

बता दें, एक सांसद को एक साल में पांच करोड़ रुपये अपने संसदीय क्षेत्रों में विकास के लिए मिलते हैं. पांच साल में 25 करोड़ रुपये दिए जाते हैं. चालू पंचवर्षीय के चार साल गुजर गए हैं. सोनिया के संसदीय क्षेत्र को निधि से तीन गुना अधिक धनराशि मिल चुकी है.

किसकी निधि से सोनिया के क्षेत्र को मिला बजट
संसद/ संसद सदस्य--मिला बजट (करोड़ों में)
सोनिया गांधी (कांग्रेस)--17.50
सतीश शर्मा (कांग्रेस)--28.50
कपिल सिब्बल (कांग्रेस)--7.50
रेखा गणेशन (कला क्षेत्र)--5.26
पीएल पुनिया (कांग्रेस)--0.25

प्रमोद तिवारी (कांग्रेस)--0.05
नरेश अग्रवाल (सपा)--0.10
अरविंद सिंह (कांग्रेस)--0.15
सुखराम सिंह यादव (सपा)--0.05
अरुण जेटली (भाजपा)--2.50

किसकी निधि से राहुल के क्षेत्र को मिला बजट
राहुल गांधी (कांग्रेस)- 7.5 करोड़
कपिल सिब्बल (कांग्रेस)- 2.7 करोड़
रेखा गणेशन (कला क्षेत्र)- 2.30 करोड़
पीएल पुनिया (कांग्रेस)- 2.80 करोड़

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी WhatsApp अपडेट्स

यह भी पढ़ें: 

राम मंदिर के पक्षकार महंत धर्मदास ने PM मोदी, राहुल गांधी को लिखा पत्र, रखी ये मांग

राम मंदिर: मोदी के बयान से बैकफुट पर VHP, कहा-धर्म संसद में तय होगी आगे की रणनीति

सभी राम भक्तों को मंदिर पर मोदी की टिप्पणी से सहमत होना चाहिए : उमा भारती

राममंदिर पर प्रधानमंत्री मोदी का क्लीयर स्टैंड, 2024 तक पीएम पद की वेकेंसी नहीं: रामविलास पासवान
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...