होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /Amethi Election Result Update: कांग्रेस के गढ़ अमेठी में सपा का लहराया परचम, महाराजी देवी जीतीं

Amethi Election Result Update: कांग्रेस के गढ़ अमेठी में सपा का लहराया परचम, महाराजी देवी जीतीं

अमेठी से महाराजी देवी सपा की उम्मीदवार हैं.

अमेठी से महाराजी देवी सपा की उम्मीदवार हैं.

Amethi Election Result Update: अमेठी विधानसभा सीट पर कड़े मुकाबले में सपा उम्मीदवार महाराजी देवी (SP Candidate Maharaji ...अधिक पढ़ें

Amethi Election Result Update: अमेठी विधानसभा सीट पर कड़े मुकाबले में सपा उम्मीदवार महाराजी देवी (SP Candidate Maharaji Devi) ने जीत दर्ज की है. उन्होंने भाजपा के डॉ. संजय सिंह ( BJP Candidate Dr. Sanjay Singh) को हराया है. एक प्रकार से देखें तो कांग्रेस के गढ़ अमेठी में सपा ने जीत का परचम लहराया है. भाजपा से बगावत कर कांग्रेस पार्टी में शामिल हुए आशीष शुक्ला (Congress Candidate Ashish Shukla) को कांग्रेस ने प्रत्याशी बनाकर ब्राह्मण बाहुल्य क्षेत्र में दांव खेल था. इसके साथ समाजवादी पार्टी ने सरकार में पूर्व मंत्री और सजायाफ्ता गायत्री प्रसाद प्रजापति की पत्नी महाराजी देवी को उम्मीदवार बनाया. बसपा ने ब्राह्मण नेत्री रागिनी तिवारी  (BSP Candidate Ragini Tiwari) पर विश्वास जताया था.

अमेठी विधानसभा सीट का वोट गणित
सपा: महाराजी देवी, 66598 वोट
भाजपा: डॉ. संजय सिंह, 56002 वोट
कांग्रेस: आशीष शुक्ला, 11816 वोट
बसपा: रागिनी तिवारी, 6641 वोट

दोपहर 02:15 बजे तक का रिजल्ट अपडेट
सपा: महाराजी देवी, 41938 वोट
भाजपा: डॉ. संजय सिंह, 36974 वोट
कांग्रेस: आशीष शुक्ला, 7135 वोट
बसपा: रागिनी तिवारी, 3273 वोट

सुबह 12:50 बजे तक का रिजल्ट अपडेट
सपा: महाराजी देवी — 3,871 से अधिक वोटों से आगे
भाजपा: डॉ. संजय सिंह— दूसरे नंबर पर

सुबह 10:00 बजे तक का रिजल्ट अपडेट
सपा: महाराजी देवी — 1,100 से अधिक वोटों से आगे
भाजपा: डॉ. संजय सिंह— दूसरे नंबर पर

अमेठी में पांचवें चरण में 27 फरवरी को वोट डाले गए थे. यहां 54.2 फीसदी मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया.  2017 के विधानसभा चुनाव में 56.14 फीसदी वोटरों ने वोट डाले थे. यहां पर 3,33,944 मतदाता हैं.

यह भी पढ़ें:  UP Election Results 2022 Live Update: कमल खिलेगा या दौड़ेगी साइकिल या फिर हाथी करेगा कमाल, फैसला आज

भाजपा को 2017 में मिली जीत

2017 विधानसभा चुनाव में भाजपा नेत्री गरिमा सिंह को 64226 वोट मिले थे, तो उनकी प्रतिद्वंदी रहे सपा के पूर्व मंत्री गायत्री प्रसाद प्रजापति को 59,161 वोट मिले थे. भाजपा प्रत्याशी ने 5065 मतों से जीत हासिल की थी. 2012 के विधानसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी के गायत्री प्रसाद ने कांग्रेस की अमीता सिंह को 8,760 वोटों से हराया था. गायत्री प्रसाद को 58,434 वोटममिले थे जबकि अमीता सिंह को 49,674 मत प्राप्‍त हुए थे. 2007 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की अमीता सिंह ने बसपा के आशीष को 12,424 वोटों से हराया था.

यह भी पढ़ें: उत्तर प्रदेश की कुल 403 विधानसभा सीटों का हाल

भाजपा ने मौजूदा विधायक का काटा टिकट

भाजपा ने मौजूदा विधायक गरिमा सिंह का टिकट काटकर अमेठी रियासत के राजा डॉ. संजय सिंह को भाजपा का प्रत्याशी बनाया है. वह राजनीति के माहिर खिलाड़ी हैं. 80 के दशक के शुरुआत में राजनीति में एंट्री करने वाले संजय सिंह कई बार विधायक और कैबिनेट मंत्री रह चुके हैं. इसके अलावा दो बार राज्यसभा और दो बार लोकसभा के साथ वह केंद्रीय मंत्री भी रह चुके हैं. करीब तीन दशक बाद डॉ. संजय सिंह एक बार फिर विधानसभा के लिए चुनाव मैदान में हैं. वहीं, उनकी पत्नी अमिता सिंह जिला पंचायत अध्यक्ष के अलावा तीन बार विधायक और तत्कालीन सरकार में प्राविधिक शिक्षा मंत्री स्वतंत्र प्रभार रह चुकी हैं.

यह भी पढ़ें: उत्तर प्रदेश समेत सभी 5 राज्यों के चुनावों का परिणाम आज

अमेठी रियासत के इर्द गिर्द घूमता रहा चुनाव

आजादी के बाद से अमेठी विधानसभा का चुनाव अमेठी रियासत के इर्द गिर्द घूमता रहा है. वहीं, कांग्रेस ने भी अंतिम समय में भाजपा नेता आशीष शुक्ला को अपने पाले में लाकर विधानसभा का प्रत्याशी बना दिया है. वह ब्राह्मणों के बड़े नेता हैं और अमेठी विधानसभा से बीजेपी के टिकट के दावेदार माने जा रहे थे, लेकिन बीजेपी ने उन्हें टिकट नहीं दिया. शुक्‍ला बीएसपी सरकार में खादी ग्रामोद्योग के उपाध्यक्ष दर्जा प्राप्त राज्यमंत्री थे.

यह भी पढ़ें: UP Election Result 2022: उत्तर प्रदेश में कौन लगाएगा जीत का गुलाल? यूपी चुनाव के नतीजे आज, पढ़ें काउंटिंग से जुड़े हर अपडेट

अमेठी के ये हैं मुद्दों

वैसे तो अमेठी जिले की चारों विधानसभा सीटों पर बड़े मुद्दों पर लड़ाई है, लेकिन इसके साथ स्थानीय प्रत्याशी भी बेहद अहम हैं. अमेठी विधानसभा में विधायक के खिलाफ नाराजगी का माहौल है. इसके अलावा अधूरे पड़े प्रोजेक्ट, रोजगार के साधनों का अभाव, आवारा पशु, बढ़ती घूसखोरी और पुलिसिया उत्पीड़न को लेकर लोग परेशान हैं. वहीं, जेल में बंद सपा के पूर्व मंत्री के परिवार के प्रति सहानुभूति की लहर दिख रही है.

Tags: Assembly elections, Uttar Pradesh Assembly Elections, Uttar Pradesh Elections

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें