Union Budget 2018-19 Union Budget 2018-19

इंदिरा गांधी राष्ट्रीय उड़ान अकादमी विवादों में, ट्रेनी पायलट ने निदेशक के खिलाफ दर्ज कराई FIR

ETV UP/Uttarakhand
Updated: January 14, 2018, 2:32 PM IST
इंदिरा गांधी राष्ट्रीय उड़ान अकादमी विवादों में, ट्रेनी पायलट ने निदेशक के खिलाफ दर्ज कराई FIR
इंदिरा गांधी राष्ट्रीय उड़ान अकादमी
ETV UP/Uttarakhand
Updated: January 14, 2018, 2:32 PM IST
अमेठी के फुरसतगंज स्थित इंदिरा गांधी राष्ट्रीय उड़ान अकादमी के प्रशिक्षु पायलट ने संस्थान के निदेशक समेत 3 कर्मचारियों पर उत्पीड़न समेत कई गंभीर धाराओं में फुरसतगंज थाने में मुकदमा दर्ज कराया है. प्रशिक्षु पायलट का आरोप है की संस्थान के निदेशक समेत स्टाफ ने उसके साथ गलत बरताव किया.

प्रशिक्षु पायलट अनुपम वर्मा उन्नाव के भाउमऊ असोहा के रहने वाले हैं. उन्होंने संस्थान के निदेशक वीके वर्मा, लेखाधिकारी सचिन टंडन व स्टाफ सुरेश कुमार के खिलाफ तहरीर देते हुए आरोप लगाया है.

अनुपम वर्मा के अनुसार उन्होंने व्यवसायिक पायलट लाइसेंस पाठ्यक्रम के तहत वर्ष 2015 में संस्थान में दाखिला लिया था. रिश्वत नहीं देने के चलते प्रशिक्षण संबंधी आवश्यक उपकरण उसे नहीं दिए गए.

इतना ही नहीं उसे लगातार प्रताडि़त करते हुए मानसिक विक्षिप्त करार देते हुए बर्खास्त कर दिया गया, जबकि आईआईएम बेंगलुरू द्वारा उसे पूर्ण स्वस्थ्य बताया गया था.

प्रशिक्षु पायलट अनुपम वर्मा. Photo: ETV Network


पीड़ित का आरोप है कि संस्थान के किसी भी छात्र की बर्खास्तगी के लिए एक विशेष समिति गठित है, जिसने ने मेरी बर्खास्तगी न करने का आदेश दिया था. बावजूद इसके संस्थान के निदेशक द्वारा नियमों को ताक पर रखकर मुझे बर्खास्त कर दिया गया.

छात्र ने संस्थान के निदेशक के साथ ही स्टाफ पर कई अन्य गंभीर वित्तीय आरोप लगाए हैं. पीड़ित का कहना है कि उसने मामले की शिकायत स्थानीय थाने पर 18 दिसंबर को ही की थी, लेकिन पुलिस मामला दर्ज करने के बजाय जांच का बहाना बना टालमटोल करती रही. इसके बाद एससीएसटी आयोग के दखल के बाद पुलिस ने मामला दर्ज किया.

वहीं इस मामले पर अमेठी के अपर पुलिस अधीक्षक बलरामाचारी दुबे ने कहा कि प्रशिक्षु पायलट अनुपम वर्मा की तहरीर पर फुरसतगंज थाने में बीते 12 जनवरी को 419, 420, 120 बी समेत कई धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है. पूरे मामले की जांच पुलिस उपाअधीक्षक तिलोई बीनू सिंह को सौंपी गई है. जांच के बाद निष्पक्ष कार्यवाही की जाएगी.

वहीं इंदिरा गांधी राष्ट्रीय उड़ान अकादमी के पूर्व भारतीय मजदूर संघ के नेता नागेश सिंह आरोप लगाते हैं कि इंदिरा गांधी उड़ान अकादमी में लगातार भ्रष्टाचार चल रहा है. सीऐजी की रिपोर्ट में भी भ्रष्टाचार सामने आ चुका है. पिछले 8 सालों से पत्राचार किया गया लेकिन कहीं कुछ नहीं हुआ है. संस्थान के निदेशक समेत 6 लोग 60 साल से ऊपर हैं, जो 5 लाख से ज्यादा तनख्वाह ले रहे हैं.

(रिपोर्ट: पप्पू पांडेय)
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर