Home /News /uttar-pradesh /

अमेठी में 5 साल से स्‍मृति ईरानी की जमीन मजबूत करने में जुटा है RSS, जानें रणनीति

अमेठी में 5 साल से स्‍मृति ईरानी की जमीन मजबूत करने में जुटा है RSS, जानें रणनीति

संघ का पिछले पांच सालों से अमेठी के गांव-गांव में पहुंचने का जो सिलसिला शुरू हुआ वो दिन ब दिन बढ़ता ही जा रहा है.

    लोकसभा चुनाव 2019 को लेकर कांग्रेस के गढ़ अमेठी में एक बार फिर से राजनीति तेज हो गई है. इस बार की राजनीति विकास को लेकर नहीं बल्कि अमेठी के मजबूत दावेदारी पेश करने की तैयारियों को लेकर है. दरअसल अमेठी में अपनी मजबूत पकड़ बनाने और ज्यादा से ज्यादा लोगों से जुड़ने के लिए संघ ने 2014 के लोकसभा चुनाव के बाद से ही कवायद शुरू कर दी है. अमेठी में करीब 250 संघ की शाखाएं संचालित हो रही हैं. लोकसभा चुनाव में राहुल गांधी को उनके ही घर में मात देने के लिए और स्मृति ईरानी की जमीन मजबूत करने के लिए संघ के नेता और कार्यकर्ता दिन लगातार प्रयासरत और गांव-गांव जाकर प्रचार-प्रसार में जुटे हुए हैं.

    बता दें, कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष और अमेठी सांसद राहुल गांधी के संसदीय क्षेत्र अमेठी का है. जहां संघ के ही इशारे पर 2014 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस की सबसे सुरक्षित सीट मानी जाने वाली अमेठी से स्मृति ईरानी को मैदान में उतारा गया था. 2014 के लोकसभा चुनाव में भाजपा के टिकट पर स्मृति ने कांग्रेस के सबसे मजबूत गढ़ अमेठी में जमीन तैयार की और उन्होंने 23 दिन के प्रचार में ही तीन लाख से अधिक वोट मिले थे. लेकिन उन्हें हार का मुंह देखना पड़ा.

    2019 में एक बार फिर राहुल और स्मृति आमने सामने हैं. 2014 में भाजपा की हार के बाद से अमेठी में स्मृति की स्थिति को और मजबूत करने के लिए राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (RSS) भी लगातार मेहनत कर रहा है. इसी के तहत भाजपा के साथ अधिक से अधिक लोगों को जोड़ने के लिए पूरे जिले में तीन सौ से अधिक संघ की शाखाएं संचालित हो रही हैं. शाखा में शामिल होने वाले लोगों को रणनीति का पाठ पढ़ाया जा रहा है. जिससे आगामी लोकसभा चुनाव में अच्छा प्रदर्शन किया जा सके और कांग्रेस के मजबूत किले में सेंध लगाई जा सके.

    सांकेतिक तस्वीर


    अमेठी में ऐसा पहली बार हुआ है कि इतनी बड़ी संख्या में शाखाएं लगाई जा रही है. अमेठी संसदीय क्षेत्र को संघ ने दो जिलों जगदीशपुर और अमेठी में बांटा है. 47 मंडलों को 7 खंडों में बांट रखा है. अमेठी संसदीय क्षेत्र का कुछ भाग काशी तो कुछ अवध क्षेत्र में आता है और अमेठी में 47 मण्डल हैं. जिसमें 110 शाखाएं संघ की चलती हैं तो वहीं जगदीशपुर विधानसभा क्षेत्र में 51 मंडल को 7 खंडों में विभाजित किया गया है. जिसमें 90 शाखाएं संचालित हो रही हैं.

    वहीं भाजपा के कई बड़े दिग्गज नेताओं के साथ-साथ खुद भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने कई बार मंच से कहा भी है कि इस बार अमेठी और रायबरेली से एक सीट भाजपा को जरूर मिलेगी. भाजपा की ये बहुत पुरानी हरसत भी है कि वो राष्ट्रीय अध्यक्ष के संसदीय क्षेत्र में कमल खिलाएं. 2014 के चुनाव में भाजपा के बेहतर प्रदर्शन के बाद से तो संघ की उम्मीद और बढ़ गई है और 6 मई को होने वाले चुनाव के लिए अमेठी में संघ इसकी तैयारी पिछले पांच साल से कर रहा है.

    अमेठी में संघ अपनी ताकत बढ़ाने में लगा हुआ है. संघ समय-समय पर अमेठी संसदीय क्षेत्र में कार्यक्रमों के आयोजन के जरिये पहुंच रहा है. संघ प्रचारक उमेश मिश्रा का खास जुड़ाव अमेठी से बना हुआ है और अमेठी कस्बे के स्टेशन रोड पर संघ का कार्यालय भी पिछले पांच सालों से संचालित हो रहा है, जहां संघ से जुड़े नेताओं और कार्यकर्ताओं का रोज जमावड़ा लग रहा है. संघ का पिछले पांच सालों से अमेठी के गांव-गांव में पहुंचने का जो सिलसिला शुरू हुआ वो दिन-ब-दिन बढ़ता ही जा रहा है.

    राहुल गांधी (File Photo)


    वहीं कांग्रेस को उसी के घर मे घेरने की कवायद को लेकर आरएएस के स्वंम सेवक पिछले पांच साल से अमेठी में सक्रिय है. इस बारे में संघ संवय सेवक औऱ भाजपा नेता सुधांशु शुक्ला कहते हैं कि अमेठी में संघ 2014 से लगातार काम कर रहा है. अमेठी में 250 से अधिक शाखाएं चल रही हैं. इसके साथ ही प्रत्येक ग्राम सभा में शाखाए चलाई जा रही हैं. आज संघ की स्थिति काफी मजबूत है. आज के समय में संघ प्रत्येक ग्रामसभाओं में अपने स्वयं सेवकों को बना चुका है. अमेठी में 47 तो जगदीशपुर में 51 मंडल बनाए गए हैं. दोनों मंडलो में शाखाएं निरन्तर काम कर रही हैं.

    वहीं संघ से जुड़े अन्य कार्यकर्ताओं की माने तो 2014 के चुनाव के बाद से ही संघ ने जमीनी स्तर पर बहुत बड़ा काम स्मृति ईरानी के लिए किया है.
    संघ के कार्यकर्ता और बीजेपी नेता विष्णु मिश्रा ने कहा, "जिस तरह भारतीय सेना ने सर्जिकल स्ट्राइक किया था वैसे ही इस बार अमेठी में भाजपा सर्जिकल स्ट्राइक करेगा. संघ के कार्यकर्ताओं ने गांव-गांव जाकर लोगों को जोड़ा है. निचले तबके के लोगों को संघ से जोड़कर संघ की नीतियां बताई जा रही हैं. राहुल गांधी की नीति इस बार अमेठी में फेल हो जाएगी और स्मृति ईरानी इस बार जरूर चुनाव जीतेंगीं."


    वहीं भाजपा की अमेठी में मजबूत दावेदारी को लेकर कांग्रेस का कहना है कि आरएसएस के लोग चाहे जितना अमेठी में घूम लें लेकिन अमेठी के लोगों की समझ में सच्चाई आ चुकी है. कांग्रेस के जिलाध्यक्ष योगेंद्र मिश्रा कहते हैं कि आज अमेठी का हर युवा, किसान और नौजवान संघ और भाजपा की बातों को जान चुका है. अभी तक हुए सभी चुनाव की तुलना में हमारे सांसद इस बार भी सबसे अधिक वोटों से जीतेंगे. गांधी परिवार के प्रति अमेठी के लोगों का एक विश्वास है. यहां की जनता भाजपा के खोखले वादों को जान चुकी है और आने वाले चुनाव में राहुल गांधी जी देश में प्रधानमंत्री बनेंगे.

    (रिपोर्ट- पप्पू पांडेय)

    ये भी पढ़ें--

    लोकसभा चुनाव: प्रियंका ने BJP से निपटने के लिए कार्यकर्ताओं को दिया ये 'गुरुमंत्र'

    अमेठी में प्रियंका ने पूछा- राहुल जी आते हैं? महिलाएं बोलीं- कौनो नहीं आत

    महागठबंधन का सस्पेंस खत्म, RJD ने किया लालू के 'हिट फॉर्मूले' पर अधिक भरोसा

    'नाराज दामाद' की तल्‍खी पर बोले ससुर- तेजप्रताप स्‍टार प्रचारक, मेरे खिलाफ नहीं लड़ेंगे चुनाव​

    एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

    Tags: Amethi news, Amethi S24p37, BJP, Congress, Lok Sabha Election 2019, Rahul gandhi, RSS, Smriti Irani

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर