अपना शहर चुनें

States

राहुल का विजयी रथ रोकने के बाद बोलीं स्मृति- कौन कहता है कि आसमां में सुराख नहीं होता

स्मृति ईरानी (फाइल फोटो)
स्मृति ईरानी (फाइल फोटो)

केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी को निर्णायक बढ़त मिल गई है. उन्होंने ट्वीट किया, ‘कौन कहता है आसमां में सुराख नहीं हो सकता...’

  • Share this:
उत्तर प्रदेश में कांग्रेस का गढ़ कहे जाने वाली अमेठी सीट पर 21 साल बाद बड़ा उलटफेर हुआ है. यहां केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पीछे छोड़ दिया है. स्मृति ईरानी 48 हजार 78 वोटों से आगे चल रही हैं. ईरानी को 4 लाख 10 हजार 326 वोट मिले हैं, जबकि  राहुल गांधी 3 लाख 62 हजार 248 वोट पड़े हैं. इस बीच स्मति ने शायराना अंदाज में ट्वीट किया, ‘कौन कहता है आसमां में सुराख नहीं हो सकता...’.  इससे पहले राहुल गांधी ने उन्हें जीत की बधाई दी और अमेठी का ख्याल रखने को कहा.

राहुल गांधी ने कहा कि मैं अपनी हार स्वीकार करता हूं और स्मृति ईरानी को बधाई देता हूं कि वो अब अमेठी की अच्छे से देखभाल करें. हार की वजह के सवाल पर राहुल गांधी ने कहा कि मैं इस पर बाद में बोलूंगा. बता दें कि सपा-बसपा गठबंधन ने कांग्रेस का समर्थन करते हुए यहां से अपना प्रत्याशी नहीं उतारा था. राहुल अमेठी से चौथी बार चुनाव मैदान में थे. अमेठी को छोड़कर राहुल ने केरल की वायनाड सीट से भी चुनाव लड़ा और रिकॉर्ड तोड़ 8 लाख से अधिक वोटों से जीत दर्ज की है.


2014 में हार गईं थी स्मृति
2014 में जब पहली बार स्मृति ईरानी चुनाव लड़ने अमेठी पहुंची थीं तो एक बात ने सभी का ध्यान वहां खींचा था. जिले में एक चुनावी रैली के दौरान तब के बीजेपी के पीएम प्रत्याशी नरेंद्र मोदी ने कहा था कि स्मृति उनकी छोटी बहन की तरह हैं. एक लोकप्रिय पीएम कैंडिडेट द्वारा यह बात कहे जाने के बाद पूरे देश में इसे लेकर खूब चर्चाएं हुई थीं. कहा जाता है कि अमेठी में उस बार नरेंद्र मोदी की उस रैली का बहुत असर पड़ा था और राहुल गांधी अब तक के सबसे छोटे अंतर से जीते थे.



ये भी पढ़ें-

चुनावी नतीजों पर कुमार विश्वास का मजेदार ट्वीट, आत्ममुग्ध फ्यूज बल्बों की चमकदार विदाई

कैप्टन अमिरंदर ने सिद्धू पर फोड़ा हार का ठीकरा, बोले- बाजवा को गले लगाने से हुआ नुकसान

PM मोदी और अमित शाह के वो 10 फैसले जिसने बदल दी चुनाव की तस्वीर
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज