मेरी जीत रॉकेट साइंस नहीं, विकास चाहते थे अमेठी के लोग: स्मृति ईरानी

स्मृति ईरानी ने 2014 में भी राहुल गांधी को कड़ी चुनौती दी थी. बीजेपी ने एक बार फिर उन्हें उसी सीट पर उतारा और इस बार वह 55000 वोटों से जीत गई.

News18Hindi
Updated: May 24, 2019, 11:46 PM IST
मेरी जीत रॉकेट साइंस नहीं, विकास चाहते थे अमेठी के लोग: स्मृति ईरानी
स्मृति ईरानी (फाइल फोटो)
News18Hindi
Updated: May 24, 2019, 11:46 PM IST
लोकसभा चुनाव में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को उनके गढ़ अमेठी में हराकर बड़ा उलटफेर करने वाली स्मृति ईरानी ने शुक्रवार को कहा कि उनकी जीत कोई 'रॉकेट साइंस' नहीं है, क्योंकि अमेठी के लोगों को ऐसा प्रतिनिधि चाहिए था जो उनके लिए अगले पांच साल काम कर सके.

निवर्तमान केंद्रीय मंत्री ने कहा कि मोदी सरकार के विकास के एजेंडे के चलते उन्हें जीत मिली. ईरानी ने कहा, "अमेठी के लोगों ने 2014 में बीजेपी के लिए बड़ी संख्या में मतदान करके उन पर भरोसा जताया और उस भरोसे को कायम रखने के लिए मैंने पिछले पांच साल वहां काम किया."



स्मृति ईरानी ने 2014 में भी राहुल गांधी को कड़ी चुनौती दी थी. बीजेपी ने एक बार फिर उन्हें उसी सीट पर उतारा और इस बार वह 55000 वोटों से जीत गई.

उनकी जीत के बारे में पूछने पर ईरानी ने टीवी चैनलों से कहा कि यह कोई रॉकेट साइंस नहीं है, क्योंकि अमेठी के लोगों को विकास चाहिए और ऐसा प्रतिनिधि चाहिए जो अगले पांच साल उनके लिए काम कर सके.

बीजेपी की शानदार जीत के बारे में उन्होंने कहा कि यह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विकास के एजेंडे के कारण संभव हुआ, क्योंकि वह चाहते थे कि लोग उनकी सरकार को इस कसौटी पर परखें. उन्होंने कहा कि पिछले पांच साल में जन प्रतिनिधि के मायने बदल गए हैं.

ईरानी ने गांधी पर अमेठी के विकास पर ध्यान नहीं देने का तंज कसते हुए कहा कि उन्होंने अमेठी में वहां काम करना शुरू कर दिया है, जहां सुविधाओं का अभाव है. उन्होंने कहा कि केंद्र और उत्तर प्रदेश की बीजेपी सरकार अमेठी के विकास के लिए काम कर रही है.

ये भी पढ़ें: कांग्रेस की हार पर बोले रामचंद्र गुहा - अब तक राहुल गांधी के इस्तीफा नहीं देने से हैरान हूं
Loading...

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...