गुजरात के 'शिवभक्त' राहुल गांधी का अमेठी के मदरसे में लंच बना चर्चा का विषय

तिलोई विधानसभा में स्थित इस गांव के लोगों ने बताया कि 10 साल पहले भी राहुल गांधी अपनी बहन प्रियंका गांधी के साथ यहां आए थे. गांववालों ने बताया कि जहां इस समय मदरसा है, उस समय बाग हुआ करता था. दोनों ने यहीं लंच किया था.

Ajayendra Rajan | News18Hindi
Updated: July 5, 2018, 2:16 PM IST
गुजरात के 'शिवभक्त' राहुल गांधी का अमेठी के मदरसे में लंच बना चर्चा का विषय
किसान अब्दुल सत्तार के परिवार से मुलाकात करते राहुल गांधी. Photo: News 18
Ajayendra Rajan
Ajayendra Rajan | News18Hindi
Updated: July 5, 2018, 2:16 PM IST
गुजरात चुनाव के दौरान कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी शिवभक्त के रूप में नजर आए. उन्होंने सोमनाथ मंदिर के साथ ही तमाम मंदिरों के दर्शन किए. कुछ महीने पहले राहुल गांधी उत्तर प्रदेश पहुंचे तो उन्होंने रायबरेली के चुरवा में हनुमान मंदिर में दर्शन किए. अब राहुल गांधी एक बार फिर 4 जुलाई से दो दिन के अमेठी दौरे पर हैं. दौरे के पहले दिन राहुल गांधी ने किसी मंदिर में दर्शन तो नहीं किया लेकिन उनका एक मदरसे में लंच चर्चा का विषय बना हुआ है.

यह भी पढ़ें: गुजरात के शिवभक्त राहुल गांधी उत्तर प्रदेश में हुए हनुमान भक्त!

दिलचस्प बात यह है कि करीब 10 साल पहले प्रियंका गांधी के साथ उन्होंने इसी जगह लंच किया था लेकिन तब यहां मदरसा नहीं बाग था. उधर राहुल गांधी के कई किलोमीटर की यात्रा कर खासतौर पर मदरसे में लंच को लेकर तरह-तरह के कयास लगाए जा रहे हैं.

बता दें कि अमेठी दौरे पर बुधवार को पहुंचे कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने सबसे पहले फुरसतगंज में कार्यकर्ताओं से मुलाकात की. इस दौरान उन्होंने कांग्रेसजनों के लिए शक्ति प्रोजेक्ट लॉन्च किया. इसके बाद वह सीधे जायस के ​धिंगई गांव रवाना हो गए. यहां वह किसान अब्दुल सत्तार के घर पहुंचे. यहां उन्होंने परिजनों से मुलाकात कर शोक संवेदना व्यक्त की. साथ ही राहुल गांधी ने किसान के परिवार को हर संभव मदद देने का भरोसा दिया.

ये भी पढ़ें: गेहूं बेचने के इंतजार में दम तोड़ने वाले किसान अब्दुल सत्तार के घर पहुंचे राहुल गांधी

दरअसल मई में जायस मंडी में गेहूं बेचने गए किसान अब्दुल सत्तार की कई दिनों तक इंतजार के बाद मौत हो गई थी. पता चला था कि अधिकारी के मनमाने रवैया के कारण किसान के गेंहू की कई दिनों तक खरीद नहीं हो सकी थी. पीड़ित के परिवार का आरोप है कि उन्हें किसी तरह की आर्थिक सहायता नहीं दी गई थी.

मदरसा में लंच के लिए पहुंचते राहुल गांधी

Rahul Gandhi at madarsa in Amethi
अमेठी में दूनी का पुरवा गांव स्थित मदरसा फ़ातिमतुल कुबरा पहुंचते राहुल गांधी. Photo: News 18


इसके बाद राहुल गांधी दूनी का पुरवा गांव पहुंचे. यहां गांव में स्थित मदरसा फ़ातिमतुल कुबरा में राहुल गांधी ने लंच किया. तिलोई विधानसभा में स्थित इस गांव के लोगों ने बताया कि 10 साल पहले भी राहुल गांधी अपनी बहन प्रियंका गांधी के साथ यहां आए थे. गांववालों ने बताया कि जहां इस समय मदरसा है, उस समय बाग हुआ करता था. दोनों ने यहीं लंच किया था. अब दोबारा इसी जगह फिर से राहुल के आने और मदरसे में लंच करने को लेकर ग्रामीणों में तमाम तरह की चर्चाएं रहीं. गांव के निवासी फौजदार बताते हैं कि 10-15 साल पहले राहुल गांधी प्रियंका गांधी के साथ आए थे. आज भी आए हैं, अभी मदरसे में खाना खा रहे हैं.

यह भी पढ़ें: कांग्रेस के गढ़ अमेठी में राहुल गांधी को घेरने में जुटी बीजेपी, बनाया ये प्लान

इस संबंध में कांग्रेस एमएलसी दीपक सिंह कहते हैं कि राहुल गांधी या प्रियंका गांधी जहां भी जाते हैं, वहां निश्चित रूप से कुछ न कुछ काम जरूर होते हैं. राहुल गांधी प्रियंका गांधी के साथ पहले वहां गए थे तो वहां स्कूल नहीं था, स्कूल बन गया. आज आए हैं तो फिर कुछ न कुछ होगा. अमेठी उनका परिवार है. परिवार का विकास नेता का कर्तव्य बनता है. जब उनसे पूछा किया कि इतनी दूरी तय कर मदरसे में लंच करने का ​कोई विशेष कारण है? तो इस पर दीपक सिंह ने कोई जवाब नहीं दिया.

(इनपुट: पप्पू पांडेय)

ये भी पढ़ें: 

2019 रण के लिए यूपी में खिंचीं तलवारें, बीजेपी और कांग्रेस उतरीं मैदान में

कांग्रेसजनों से सीधे संवाद के लिए राहुल गांधी ने अमेठी में लॉन्च ​किया शक्ति प्रोजेक्ट
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर