लाइव टीवी

UP Board Exam: पैरों के सहारे 12वीं की परीक्षा दे रहा है छात्र, 10वीं में आए थे इतने अंक
Amethi News in Hindi

News18 Uttar Pradesh
Updated: February 26, 2020, 10:31 PM IST
UP Board Exam: पैरों के सहारे 12वीं की परीक्षा दे रहा है छात्र, 10वीं में आए थे इतने अंक
अमेठी के रणवीर इंटर कॉलेज में परीक्षा दे रहा है छात्र.

अमेठी (Amethi) का छात्र अमर बहादुर दोनों हाथ न होने के बावजूद पैरों से लिखकर उत्‍तर प्रदेश बोर्ड (Uttar Pradesh Board) की इंटरमीडिएट की परीक्षा दे रहा है. इस छात्र ने इसी तरह हाई स्कूल में 59 प्रतिशत अंक हासिल किए थे.

  • Share this:
अमेठी. 'मंजिल उन्हीं को मिलती है जिनके सपनों में जान होती है, पंखों से कुछ नहीं होता हौसलों से उड़ान होती है.' इस कहावत को चरितार्थ कर दिखाया है 12वीं के छात्र अमर बहादुर ने. अमेठी (Amethi) का यह छात्र दोनों हाथ न होने के बावजूद पैरों से लिखकर उत्‍तर प्रदेश बोर्ड (Uttar Pradesh Board) की इंटरमीडिएट की परीक्षा दे रहा है. आपको बता दें कि अमर बहादुर हाई स्कूल में 59 प्रतिशत अंक हासिल कर चुका है. हालांकि इस छात्र की चाहत टीचर बनना चाहता है, लेकिन गरीबी के कारण मामला बिगड़ता दिखाई दे रहा है.

शिक्षा की चाहत में दिव्यांग ने पार की बाधाएं
अगर कुछ करने का जज्‍बा और दिल में काम करने की लगन हो तो कुछ भी असंभव नहीं होता है. कुछ इसी तरह अमेठी जिले के करेहेगी गांव के रहने वाले छात्र अमर बहादुर ने कर दिखाया है. यह छात्र दोनों हाथ से दिव्यांग हैं, लेकिन इंटरमीडिएट की परीक्षा अमेठी के रणवीर इण्टर कॉलेज में दे रहे हैं. यही नहीं, अमर बहादुर ने हाईस्कूल परिक्षा में 59 फीसदी अंक हासिल किए थे और इनका सपना अध्यापक बनने का है. वह अध्यापक बनकर लोगों की मदद करना चाहता है.

अमेठी के इस कॉलेज परीक्षा दे रहा है छात्र



अमेठी थाना क्षेत्र के एक छोटे से गांव करेहगी के रहने वाला छात्र अमर बहादुर रणवीर इंटर कॉलेज में इंटरमीडिएट की परीक्षा दे रहा है. इस छात्र के दोनों हाथ नहीं है लेकिन वो पैरों के सहारे परीक्षा दे रहा है. यही नहीं, इलाके के लोग भी इस छात्र के जज्‍बे को सलाम कर रहे हैं. इतना ही नहीं अमर बहादुर ने घर में ही पढ़ाई करके हाई स्‍कूल में 59 फीसदी नंबर हासिल किए थे. हालांकि छात्र की आर्थिक हालत खराब है और उसके पास खिताब खरीदने के पैसे भी नहीं हैं. जबकि उसके माता-पिता किसी तरह बस पेट पालते हैं. अमर बहादुर का कहना है कि अगर सरकार की तरफ से कोई मदद मिलती है तो हम कुछ कर सकेंगे. वैसे ये छात्र मोबाइल रिपेयरिंग का काम भी जानता है.



मां ने कहा मेरा बेटा पढ़ना चाहता है
अमर बहादुर के मां केवला देवी की मानें तो उसके जन्म से ही दोनों हाथ नहीं हैं, लेकिन वह पढ़ाई में अच्‍छा है और टीचर बनना चाहता है. लेकिन हम लोग बहुत ही गरीब हैं और इसको पढ़ाने के लिए पैसा नहीं है. अगर सरकार की तरफ से आर्थिक सहायता मिलती है तो वो आगे की भी पढ़ाई कर सकेगा.
डीएम अमेठी अरुण कुमार ने कही ये बात
इस दिव्यांग छात्र को लेकर अमेठी के जिलाधिकारी अरुण कुमार ने कहा कि मेरे संज्ञान में मामला आया. एक दिव्यांग छात्र जो अमेठी के रणवीर इण्टर कॉलेज में दोनों हाथ ना होने के बावजूद परीक्षा दे रहा है. हमारे सचल दल द्वारा देखा गया. ये बच्चा प्रदेश के अन्य बच्चों के लिए प्रेरणा की वजह है. आखिर इस तरह की अक्षमता के बावजूद उसके द्वारा प्रयास किया जा रहा है. हम इसके उज्जवल भविष्य की कामना करते है और उसे जिला प्रशासन द्वारा सभी तरह की अपेक्षित सहायता भी प्रदान की जाएगी.

 

ये भी पढ़ें-

दिल्‍ली हिंसा के बाद WEST UP में हाई अलर्ट, अर्द्धसैनिक बल की 20 कंपनी तैनात



विधानसभा में बोले CM योगी- विपक्ष को राम के नाम पर लगता है करंट, जानिए भाषण की 10 बड़ी बातें

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अमेठी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 26, 2020, 10:16 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading