महिला सशक्तिकरण की मिसाल बनीं अमेठी सांसद स्मृति ईरानी, पहली बार 250 महिलाओं को मिली इस पद पर तैनाती

केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के संसदीय क्षेत्र में महिला सशक्तिकरण को बढ़ावा

Amethi News: अमेठी में पंचायत चुनाव संपन्न होने के बाद गांवो में विकास कार्य शुरू हो गए हैं. प्रधान अपने क्षेत्रों में सड़क, तालाब, नाली और खड़ंजा का निर्माण करा रहे हैं. ये सभी विकास कार्य महात्मा गांधी रोजगार गारंटी योजना (मनरेगा) के तहत हो रहा है.

  • Share this:
अमेठी. अमेठी (Amethi) जिले में महिला सशक्तिकरण (Women Empowerment) की मिसाल देखने को मिल रही है, जहां केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी (Smriti Irani) के निर्देशन में महिलाओं को मनरेगा योजना में बड़ी जिम्मेदारी दी गई है. जिले की 682 ग्रांम पंचायतों में मनरेगा में 250 से अधिक महिलाओं की मेड के पद पर तैनाती की गई हैं. इस पद पर पहले पुरुषों को तैनात किया जाता था, लेकिन केंद्रीय मंत्री और सांसद स्मृति ईरानी की पहल के बाद महिलाओं को भी इस पद तैनात किया गया है.

अमेठी में पंचायत चुनाव संपन्न होने के बाद गांवो में विकास कार्य शुरू हो गए हैं.  प्रधान अपने क्षेत्रों में सड़क, तालाब, नाली और खड़ंजा का निर्माण करा रहे हैं. ये सभी विकास कार्य महात्मा गांधी रोजगार गारंटी योजना (मनरेगा) के तहत हो रहा है. मनरेगा के तहत गांव के मजदूरों को काम मिल रहा है. ऐसे में शासन स्तर पर 15 से 20 मजदूरों पर एक मेड रखने का प्रावधान है. जिसकी देख-रेख में काम कराया जाता है. वैसे तो इस पद पर पुरुषों की तैनाती होती रही है. इस बार शासन ने महिला सशक्तिकरण को बढ़ावा देने के लिए महिला मेड के चयन का निर्देश दे रखा है.

महिला सशक्तिकरण पर बोले जिलाधिकारी
वहीं अमेठी जिलाधिकारी अरुण कुमार ने बताया कि महिला को सशक्त करने के लिए शासन से निर्देश भी है कि महिलाओं की भागीदारी को बढ़ाया जाए. ऐसे में मनरेगा योजना में महिलाओं को शामिल किया जा रहा है. इसके साथ ही जिले के गांवों में जो काम चल रहे हैं, उसमें बड़ी संख्या में मजदूर काम कर रहे है, जिसमे महिलाओं की संख्या को बढ़ाने का काम किया जा रहा है. अभी तक ढाई सौ से अधिक महिलाएं मेड के रूप में काम कर रही है. इसके अतिरिक्त गांवों में सामुदायिक शौचालय और पंचायत भवन का काम भी तेजी से किया जा रहा है. शासन के मंशानुरूप महिलाओं को काम दिया जा रहा है.

मनरेगा में 35 फीसदी होगी महिलाओं की भागीदारी
वहीं अमेठी सीडीओ अंकुर लाठर ने बताया कि महिला को सशक्त करने के लिए हमें शासन से निर्देश मिला है. मेड का चयन महिलाओं में से ही करना है. मनरेगा कार्य मे मेड का चयन महिला में से ही किया जा रहा है. अब तक जिले में 682 ग्राम पंचायतों में 250 के आसपास महिला मेड का चयन किया जा चुका है. मनरेगा मजदूरों में 35 प्रतिशत मजदूर महिलाएं हैं. ऐसे में महिला मेड होगी तो महिला मजदूर और आगे आकर काम करेंगी.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.