Home /News /uttar-pradesh /

UP Panchayat Chunav: अमेठी में महिलाओं के हाथों होगी 232 ग्राम पंचायतों की कमान

UP Panchayat Chunav: अमेठी में महिलाओं के हाथों होगी 232 ग्राम पंचायतों की कमान

मेरठ जिले के कुल 479 ग्राम पंचायतों में 171 पद अनारक्षित घोषित हुए हैं. (सांकेतिक फोटो)

मेरठ जिले के कुल 479 ग्राम पंचायतों में 171 पद अनारक्षित घोषित हुए हैं. (सांकेतिक फोटो)

UP Panchayat Chunav: 2021 में होने वाले त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में गांव की पंचायत की कमान संभालने के लिए महिलाएं सामने आ रही है. अमेठी में ग्राम पंचायत के चुनाव में एक तिहाई से ज्यादा सीटें महिलाओं के लिए आरक्षित हैं.

अमेठी. उत्तर प्रदेश के त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव (UP Panchayat Chunav) से पहले निदेशालय की ओर से जारी निर्देश में आरक्षण (Reservation) की स्थिति काफी हद तक साफ हो गई है. जिले में कुल 232 सीटों पर अलग-अलग वर्ग की महिलाओं को गांव की सरकार बनाने के लिए चुनाव लड़ने का मौका मिलेगा. इन सीटों में से 56 सीटें अनुसूचित जाति की महिला, 64 सीटें अन्य पिछड़ा वर्ग की महिला तो 112 सीटें सामान्य वर्ग की महिलाओं के खाते में जाएंगी. प्रदेश सरकार के निर्देश पर निदेशालय पंचायती राज विभाग द्वारा आरक्षण की स्थिति स्पष्ट करने से संबंधित निर्देश जारी कर दिया गया है.

आरक्षण की सूची के सार्वजनिक होने के बाद न सिर्फ प्रशासन बल्कि गंवई राजनीति में रुचि रखने वालों की सक्रियता बढ़ गई है. निदेशालय की ओर से जारी सूची में बताया गया है कि जिले की कुल 682 ग्राम पंचायतों में से कितनी ग्राम पंचायतें किस वर्ग के खाते में जाएंगी. जारी सूची के अनुसार अमेठी में ग्राम प्रधान के 682 पदों में से 156 पद अनुसूचित जाति के लोगों के लिए आरक्षित होंगे. इनमें 100 सीटें अनुसूचित जाति व 56 सीटें अनुसचित जाति की महिलाओं के लिए आरक्षित की जाएंगी. इसी तरह अन्य पिछड़ा वर्ग के लिए आरक्षित होने वाली 181 सीटो में से 64 सीटें अन्य पिछड़ा वर्ग की महिला व 117 सीटें अन्य पिछड़ा वर्ग के लिए आरक्षित होंगी. 112 सीटें ऐसी होंगी जो महिलाओं के लिए आरक्षित की जाएंगी. इन सीटों पर किसी भी वर्ग की महिला को चुनाव लड़ने का अधिकार है.

अमेठी जिले में 682 सीटों में 233 सीटें रहेंगी अनारक्षित
अमेठी जिले में 233 सीटें अनारक्षित रहेंगी. इन सीटों पर सामान्य श्रेणी से लेकर अन्य पिछड़ा वर्ग, अनुसूचित जाति या फिर किसी भी वर्ग की महिलाएं चुनाव लड़ सकेंगी. निदेशालय की ओर से सूची जारी होने के बाद जिले का पंचायती राज विभाग सक्रिय हो गया है. स्थानीय स्तर पर आरक्षण प्रक्रिया को अंतिम रूप दिया जा सके. इसके लिए पूर्व के आरक्षण के अलावा जनसंख्या आदि का ब्यौरा जुटाया जा रहा है.

गांव की सरकार बनाने के लिए शुरू हुआ जोड़तोड़
आरक्षण को अंतिम रूप देने के संबंध में निर्देश जारी होने के बाद गंवई राजनीति में जोर आइमाइश की तैयारी के साथ सियासत भी तेज हो गई है. गांव में किसकी सरकार बनेगी इसके लिए लोगों की धड़कनें बढ़ गई हैं. लोगों ने अपने गांव की सीट अपने हिसाब से आरक्षित कराने की कोशिश भी शुरू कर दी है.

अगले महीने मार्च में जारी होगा आरक्षण
निदेशालय से जारी निर्देश के अनुसार विभिन्न पदों के लिए आरक्षण सूची को अंतिम रूप देने का कार्य जिले में 20 फरवरी से शुरू होगा. प्रस्तावित आरक्षण सूची का 2 से 3 मार्च के बीच प्रकाशन होगा. 4 से 8 मार्च तक इस पर दावे व आपत्तियां ली जाएंगी. 10 से 12 मार्च के बीच आपत्तियों व दावों का निस्तारण करने के बाद पंचायती राज विभाग 14 मार्च को अंतिम आरक्षण सूची का प्रकाशन कर 15 मार्च को इसे निदेशालय को वापस भेजेगा.

अमेठी जिले की प्रथम नागरिक बनेगी महिला
अमेठी में जिला पंचायत अध्यक्ष की सीट महिला के लिए आरक्षित होने के बाद त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में घमासान बढ़ने के साथ सियासत तेज होने के आसार नज़र आने लगा हैं. महिला के लिए सीट आरक्षित होने से ऐसे नेता भी इस चुनाव में सक्रिय दिखेंगे जो अनारक्षित या महिला के लिए सीट आरक्षित नहीं होने पर चुप बैठे रहते। सीट पर आरक्षण की स्थिति तय होने के बाद सत्ताधारी दल भारतीय जनता पार्टी के साथ इस पद पर पहले से काबिज समाजवादी पार्टी व पिछले चुनाव में अपना नामांकन वापस लेने वाली कांग्रेस भी तैयारियों में जुट गई है. बसपा के लोग भी पीछे नहीं दिख रहे. गौरतलब होगा कि वर्ष 2010 में जिले का गठन होने के तत्काल बाद हुए जिला पंचायत चुनाव में जिला पंचायत अध्यक्ष का पद अनुसूचित जाति महिला के लिए आरक्षित था. इस चुनाव में कांग्रेस की कमला सरोज जिला पंचायत अध्यक्ष चुनी गई थीं. हालांकि साल 2012 में प्रदेश में सपा सरकार बनने के बाद इन्होंने सपा का दामन थाम लिया था. साल 2015 में ये सीट पिछड़ा वर्ग महिला के लिए आरक्षित हुई. इस चुनाव में गौरीगंज के सपा विधायक ने शिवकली मौर्य का तो कांग्रेस ने कृष्णा चौरसिया का नामांकन कराया. बाद में कृष्णा चौरसिया के नामांकन वापस लेने से शिवकली निर्विरोध अध्यक्ष निर्वाचित हुईं.

अमेठी में ब्लॉक प्रमुख पद की ब्लॉकवार आरक्षण की स्थिति
ब्लॉक प्रमुख पद का आरक्षण भी पंचायती राज निदेशालय ने जारी कर दिया है. जारी सूची में जिले की 13 सीटों में अनुसचित जाति व अन्य पिछड़ा वर्ग महिला के लिए एक-एक, अनुसचित जाति व अन्य पिछड़ा वर्ग के लिए दो-दो तो स्त्री के लिए 3 सीटें आरक्षित की गई हैं. 4 सीटें अनारक्षित रखी गई हैं.

ब्लॉक का नाम:
बाजारशुक्ल- महिला, मुसाफिरखाना- अनारक्षित, जगदीशपुर- महिला, भादर- महिला, भेटुआ- अनारक्षित, संग्रामपुर- ओबीसी महिला, अमेठी- ओबीसी, शाहगढ़- ओबीसी, जामो- एससी महिला, गौरीगंज- अनारक्षित, बहादुरपुर- एससी, सिंहपुर- एससी, तिलोई- अनारक्षित

तय समय पर सूची होगी सार्वजनिक
डीपीआरओ श्रेया मिश्रा ने कहा कि निदेशालय से जारी निर्देश मिला है. जिला पंचायत व ब्लॉक प्रमुख का आरक्षण जारी हो चुका है. जिला पंचायत सदस्य के 36, ग्राम प्रधान के 682, क्षेत्र पंचायत सदस्य के 880 व ग्राम पंचायत सदस्य पद के 8,613 पदों के लिए आरक्षण की स्थिति निर्धारित तिथि पर जारी कर दी जाएंगी.

Tags: Amethi news, Amethi Panchayat election, UP panchayat election, UP Panchayat Elections 2021, UP Panchayat poll

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर