अपना शहर चुनें

States

कानपुर के अमित जैसा कोई नहीं, 6 विषयों में NET परीक्षा क्वालीफाई करने वाले देश में इकलौते

अलग-अलग 6 विषयों में नेट (NET) क्वालीफाई कर इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स में अपना नाम दर्ज कराने वाले कानपुर के अमित कुमार निरंजन. (फोटो- साभार फेसबुक)
अलग-अलग 6 विषयों में नेट (NET) क्वालीफाई कर इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स में अपना नाम दर्ज कराने वाले कानपुर के अमित कुमार निरंजन. (फोटो- साभार फेसबुक)

छत्रपति शाहू जी महाराज विश्वविद्यालय (Chhatrapati Shahu Ji Maharaj University) कानपुर के पूर्व छात्र लाल बंगला निवासी अमित कुमार निरंजन ने 6 विषयों में नेट (NET Exam) क्वालीफाई कर नया रिकॉर्ड बनाया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 14, 2021, 6:27 PM IST
  • Share this:
कानपुर.उत्तर प्रदेश में कानपुर के एक पूर्व छात्र अमित कुमार निरंजन इन दिनों देश के मीडिया की सुर्खियों में क्यों छाए हैं? इस सवाल का जवाब तलाशेंगे तो जवाब मिलेगा कि अमित ने राष्ट्रीय पात्रता परीक्षा (National Eligibility Test) के 6 विषयों में क्वालीफाई कर दांतों तले ऊंगली दबा लेने वाला वो कारनामा कर दिखाया है, जो देश में अब तक कोई न कर सका। छत्रपति शाहू जी महाराज विश्वविद्यालय (Chhatrapati Shahu Ji Maharaj University) के इस पूर्व छात्र ने अपनी प्रतिभा से सबको हैरत में डालते हुए अपना नाम इंडिया इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स में दर्ज कराने में कामयाबी हासिल की है. इस कामयाबी पर अमित का कहना है कि किसी भी विषय की तैयारी के लिए उसे रटने की नहीं बल्कि समझने की जरूरत होती, जो मैंने धैर्यपूर्वक किया.

भारत में दो से तीन विषयों में नेट क्वालीफाई करने वाले कई छात्र आपको मिल जाएंगे, लेकिन 6 विषयों में ऐसा कमाल करने वाले अमिल देश के पहले युवा है, जिन्‍होंने वाणिज्य, अर्थशास्त्र, प्रबंधन, शिक्षा शास्त्र, राजनीति विज्ञान व समाजशास्त्र विषयों में नेट परीक्षा को क्वालीफाई किय. विश्वविद्यालय के कुलपति बुधवार को उन्हें हासिल रिकार्ड का प्रमाण पत्र सौंपा.

ऐसे बना सफलता का रास्ता
अपनी कामयाबी का राज खोलते हुए एक सवाल के जवाब में अमित ने बताया कि किसी भी विषय की तैयारी के लिए उनको रटने की जरूरत नहीं होती है, बल्कि समझने की जरूरत होती है. किसी विषय की तैयारी करते समय चीजों को लिखकर तैयार करने की आदत डालनी चाहिए. अभ्यर्थियों को हर विषय को बराबर समय देना चाहिए, कमजोर विषय पर विशेष ध्यान दें. अगर कोई विषय आपको कठिन लगता है और आप उसमें खुद को कमजोर महसूस करते हैं तो उसके सभी सूत्र, परिभाषाएं और प्रश्न धीरे-धीरे समझने का प्रयास करें. अमित 2010 में आईआईटी कानपुर में अर्थशास्त्र विषय के साथ पीएचडी के लिए चुने जा चुके हैं. वह 2013 में बैंक पीओ पद के लिए चयनित हो चुके हैं.
ऐसे पास की जा सकती है कोई भी परीक्षा


अमित ने कहा कि लोगों का धारण होती है कि मार्क्स लाना ही बच्चों का क्राइटेरिया होता है.बच्चे भी सिर्फ और सिर्फ मार्क्स के उद्देश्य से ही पढ़ते हैं. मैं इन बच्चों को संदेश देना चाहता हूं कि कोई भी सब्जेक्ट हो, जब आप उसको उसके कॉन्टेंट और समझ से पढ़ेंगे, जब आप ये समझेंगे कि उस सब्जेक्ट का अर्थ क्या है? तब आप उस सब्जेक्ट से जुड़ पाएंगे. तभी आप उस सब्जेक्ट से जुड़ जाएंगे तो कोई भी परीक्षा या एग्जाम आसानी से निकाल पाएंगे.

शिक्षा का सफरनामा
अमित ने कक्षा 1 से 12वीं तक की अपनी पढ़ाई एयरफोर्स स्कूल चकेरी से पूरी की थी. ग्रेजुएशन और पोस्ट ग्रेजुएशन पीपीएन पीजी कॉलेज कानपुर से किया. वहीं 2009 में कानपुर यूनिवर्सिटी से एमफिल में टॉप किया. साल 2010 में मेरा सिलेक्शन आईआईटी कानपुर से इकोनॉमिक्स में पीएचडी के लिए हुआ था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज