बांदा: एंटी करप्शन की टीम ने रोडवेज के क्षेत्रीय प्रबंधक को 10 हजार की रिश्वत लेते किया गिरफ्तार

एंटी करप्शन टीम की गिरफ्त में घूंस लेने का आरोपी आरएम.

एंटी करप्शन टीम की गिरफ्त में घूंस लेने का आरोपी आरएम.

बांदा (Banda) में एंटी करप्शन की टीम (Anti Corruption Team) ने रोडवेज (Roadways) के क्षेत्रीय प्रबंधक को 10 हजार रुपए की रिश्वत (Bribe) के साथ गिरफ्तार किया है. आरोपी आरएम अपने नीचे काम करने वाले सभी कर्मचारियों से रिश्वत लेता था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 24, 2020, 7:09 PM IST
  • Share this:

बांदा. यूपी (UP) के बांदा (Banda) में रोडवेज के क्षेत्रीय प्रबंधक (Regional Manager) को एंटी करप्शन (Anti Corruption) की टीम ने 10 हजार रुपए की रिश्वत (Bribe) लेते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार किया है. भष्टाचार (Corruption) में संलिप्त अधिकारी पर आरोप है कि वह विभाग के लोगों को प्रताड़ित करता था और किसी भी सरकारी कार्य को करने के लिए मोटी रकम की मांग करता था. RM से पीड़ित विभागीय अधिकारी ने एंटी करप्शन टीम को मामले की सूचना दी जिसके बाद एंटी करप्शन टीम बांदा पहुंची और रिश्वत के रुपयों के साथ आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है. फिलहाल आरोपी अधिकारी से टीम कोतवाली में पूछताछ कर रही है.

संविदा कर्मचारी और तमाम रोडवेज के ड्राइवर और कर्मचारियों से संजीव कुमार किसी भी कार्य को करने के लिए रिश्वत मांगता था. पैसे मिलने के बाद ही वह काम करता था,जिससे पूरा विभाग संजीव के भ्रष्टाचार से परेशान था. इसके बाद विभाग के लोगोन ही उसकी शिकायत एंटी करेप्शन टीम से की.

यूपी में अब आतंकियों और अपराधियों की खैर नहीं, काशी में 'फेस रिकग्निशन' कैमरा लगाने की तैयारी

बता दें कि पूरा मामला चित्रकूट धाम मंडल के मुख्यालय बांदा परिवहन विभाग का है. जहां पर रोडवेज के क्षेत्रीय प्रबंधक लंबे अरसे से अपने ही अधीनस्थ कर्मचारियों के सरकारी कार्य करने की एवज में पैसे की घूस की मांगता था. बिना रिश्वत लिए RM संजीव कुमार कोई भी काम नहीं करता था. इसके बाद  रोडवेज में तैनात कर्मचारियों ने मामले की सूचना एंटी करप्शन टीम को दी थी. इसके बाद टीम ने बांदा पहुंचकर नोटों में पाउडर लगाकर आरएम के पास कर्मचारियों को भेजा. जब RM ने रिश्वत ले ली उसके बाद एंटी करप्शन की टीम ने रंगे हाथों आरोपी क्षेत्रीय प्रबंधक को गिरफ्तार कर लिया. मामले में वैधानिक कार्यवाही करने की बात कह रहे हैं.
सैलरी साइन करने में भी लेता था घूंस

मामले की जानकारी देते हुए एटी करप्शन टीम के इंस्पेक्टर सुरेंद्र कुमार ने बताया कि रमेश कुमार  ने सूचना दी थी कि हमारे रोडवेज विभाग के RM संजीव कुमार सैलरी में साइन करने के लिए  ₹15 हजार रुपए की घूस मांग रहे हैं और बिना घूस लिए काम करने के लिए तैयार नहीं हैं. इसके बाद हम लोग झांसी जनपद से बांदा आए हुए हैं.  बांदा में कलेक्ट्रेट से दो गवाह लेने के बाद रमेश जो रिश्वत की रकम देने जा रहा था उसमें पाउडर लगाया और पाउडर लगाने के बाद जब वहां पहुंचा तो  क्षेत्र प्रबंधक RM ने रिश्वत की रकम 10 हजार ले ली उसके बाद उसको गिरफ्तार कर लिया गया.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज