Lucknow News: MLA अमनमणि त्रिपाठी के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी, अपहरण मामले की सुनवाई में रहे गैरहाजिर

अमनमणि त्रिपाठी के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट. (File)

अमनमणि त्रिपाठी के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट. (File)

महाराजगंज के नौतनवा से निर्दलीय विधायक अमनमणि त्रिपाठी (Amanmani Tripathi)  के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी कर दिया गया है. अपहरण मामले की सुनवाई के दौरान वे गैरहाजिर रहे. 

  • Share this:
लखनऊ. उत्तर प्रदेश के निर्दलीय विधायक अमनमणि त्रिपाठी (Amanmani Tripathi) की मुश्किलें बढ़ गई हैं. लखनऊ की  एमपी एमएलए कोर्ट ने अमनमणि के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट (Arrest Warrant) जारी कर दिया है. अपहरण के मामले में गैरहाजिर चल रहे अमनमणि के खिलाफ वारंट दिया गया है. बता दें कि अगस्त 2014 में ऋषि पांडे ने गौतमपल्ली थाने में अमनमणि के खिलाफ एफआईआर (FIR) दर्ज कराई थी. 28 जुलाई 2017 को अमनमणि के खिलाफ आरोप तय हो गए थे. अब सुनवाई के दौरान कोर्ट में हाजिर न होने पर गिरफ्तारी वारंट जारी हुआ है. मामले की अगली सुनवाई 11 फरवरी को होगी.

बता दें कि महाराजगंज के नौतनवा से निर्दलीय विधायक अमनमणि त्रिपाठी पर पहली पत्नी की हत्या का आरोप है. अमनमणि ने 2013 में सारा सिंह से शादी की थी. 2015 में संदिग्ध परिस्थितियों में सारा की मौत हो गई थी. इसके बाद साल 2020 में अमनमणि ने दूसरी शादी कर ली थी. अमन मणि नौतनवा सीट से विधायक है और पूर्व विधायक अमरमणि त्रिपाठी के बेटे हैं. अमनमणि त्रिपाठी वर्ष 2012 में चुनाव लड़े लेकिन हार गए थे. वर्ष 2017 में उन्होंने निर्दल चुनाव लड़ा और जीत हासिल की.

ये भी पढ़ें: दिल्ली ब्लास्ट के बाद देशभर में अलर्ट, सभी एयरपोर्ट और सरकारी बिल्डिंगों की बढ़ी चौकसी

लगातार बने रहते हैं सुर्खियों में
वैसे अमनमणि कई बार सुर्खियों में आते रहे हैं. साल 2020 में लॉकडाउन के दौरान वह उत्तराखंड में अपने साथियों के साथ गिरफ्तार किए गए थे. अमनमणि 11 लोगों के साथ बदरीनाथ जा रहे थे, उसी दौरान उन्हें उत्तराखंड के चमोली में पुलिस ने रोक लिया. उन्होंने पुलिस प्रशासन को जो पास दिखाया वह हैरान कर देने वाला था. उन्हें तीन राज्यों में जाने की अनुमति दी गई थी. पास में तीन कारों के नंबर और 11 लोगों को यात्रा की अनुमति थी. पड़ताल में पता चला कि अमनमणि ने यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ के पिता के निधन पर उनके घर जाकर सांत्वना देने जाने के लिए पास बनवाया था. बाद में इस प्रकरण में यूपी सरकार की तरफ से इस तरह की कोई भी अनुमति देने से इंकार कर दिया गया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज