Assembly Banner 2021

बेमौसम गर्मी से एशिया की सबसे बड़ी गुड़मंडी का कारोबार प्रभावित, मार्च के पहले हफ्ते रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचा पारा

मेरठ की गुड़ फैक्ट्री में गर्मी के कारण सारा काम ठप पड़ गया है.

मेरठ की गुड़ फैक्ट्री में गर्मी के कारण सारा काम ठप पड़ गया है.

फरवरी और मार्च के महीने में बेमौसम रिकार्ड गर्मी (Record Heat) पड़ने के कारण पश्चिमी उत्तर प्रदेश(Uttar Pradesh) का गुड़ फैक्ट्रियों में सारा काम ठप हो गया है. इससे लोगों का रोजगार (Job) भी प्रभावित हो रहा है. गर्मी का असर सुगर मिलों पर क्या पड़ा है इस रिपोर्ट में आपको बताते हैं.

  • Share this:
मेरठ. पश्चिमी उत्तर प्रदेश (Western Uttar Pradesh) को गन्ना बेल्ट और गुड़ के लिए जाना जाता है. एशिया की सबसे बड़ी गुड़ मंडी वेस्ट यूपी में है. यहां का बना गुड़ अलग-अलग राज्यों में भेजा जाता है. लेकिन, फरवरी के अंतिम सप्ताह से ही गर्मी जैसे हालात शुरू होने से गुड़ के कारोबार (Jaggery Business) को ख़ासा नुकसान हुआ है. मार्च के पहले हफ्ते में गुड़ का का कारोबार और गति पकड़ता था. लेकिन, अभी बड़े-बड़े कोल्हुओं को छोड़ दें तो इस बेमौसम गर्मी की वजह से कोल्हुओं में गुड़ के कड़ाहे ठंडे पड़े हैं.

कारोबारियों का कहना है कि मार्च महीने में अच्छी खासी ठंड रहती थी, लेकिन इस बार ऐसी गर्मी पड़ रही है, मानों मई जून का महीना चल रहा हो. ऐसे में सर्दियों की दवा कहा जाने वाला गुड़ लोग कम खा रहे हैं. जिसका सीधा असर गुड़ के उत्पादन पर भी पड़ रहा है. कारोबारियों का कहना है कि इस बेमौसम गर्मी की वजह से गुड़ का कारोबार पच्चीस फीसदी तक प्रभावित हुआ है.

OMG! चार लड़कों के साथ घर से भागी लड़की शादी को लेकर हो गई कन्‍फ्यूज, जानिए फिर कैसे लिया फैसला



आमतौर पर जिन कोल्हुओं में गुड़ की सोंधी-सोंधी ख़ुशबू आया करती थी. आज की तारीख में कुछ कोल्हुओं को छोड़ दें तो ज्यादातर में कड़ाहे ठंडे पड़े हैं और भट्ठियां बंद पड़ी हैं. गुड़ कारोबारियों का कहना है कि सरकार ने गुड़ को टैक्स फ्री कर रखा है, जिससे उन्हें फायदा होता है. लेकिन मौसम का वो क्या करें. मौसम तो बेरुखी पर आमादा है, जिसका ख़ामियाजा उन्हें उठाना पड़ रहा है. गुड़ से ही अपनी रोज़ी रोटी कमाने वाले मज़दूर भी इस बेमौसम गर्मी को कोसते हुए ही नज़र आ रहे हैं.
मौसम विभाग के अनुसार सात मार्च तक मेरठ का पारा 33 डिग्री सेल्सियस तक पहुंचने के आसार हैं. 15 मार्च तक मेरठ में अधिकतम तापमान 37-38 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच सकता है. मेरठ में अभी तक अधिकतम तापमान का रिकॉर्ड 39.5 डिग्री सेल्सियस के नाम है जो 29 मार्च 1973 को दर्ज हुआ था. यानी आने वाले दिनों में हमें और तेज गर्मी के लिए तैयार रहना चाहिए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज