'राम मंदिर की उम्मीद किसी पार्टी से नहीं, प्रचार के लिए अयोध्या पहुंच रहे हैं PM मोदी'

आचार्य सत्येंद्र दास

मुख्य पुजारी कहते हैं कि पीएम मोदी का अयोध्या नहीं आना निराशजनक है. उन्होंने कहा कि राम मंदिर की उम्मीद अब किसी भी पार्टी से नहीं है.

  • Share this:
    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बुधवार को अयोध्या और अंबेडकर नगर के बीच फैजाबाद (अयोध्या) के गोसाईंगंज के मया बाजार इलाके में चुनावी जनसभा को संबोधित करेंगे. पीएम मोदी की रैली को लेकर रामजन्म भूमि के मुख्य पुजारी आचार्य सत्येंद्र दास ने कहा कि पीएम मोदी प्रचार की दृष्टि से अयोध्या पहुंच रहे हैं, धार्मिक दृष्टि से नहीं. आचार्य सत्येंद्र दास ने कहा कि रामलला का दर्शन पूजन पीएम की इच्छा पर निर्भर है. उन्होंने कहा कि पीएम राम नगरी के इतने पास आ रहे हैं तो उन्हें अयोध्या में राम लला का दर्शन करना चाहिए.

    मुख्य पुजारी कहते हैं कि पीएम मोदी का अयोध्या नहीं आना निराशजनक है. उन्होंने कहा कि राम मंदिर की उम्मीद अब किसी भी पार्टी से नहीं है. आचार्य सत्येंद्र दास ने कहा कि जो पार्टी राम के नाम पर सत्ता में आई और मंदिर नहीं बनाया. तो दूसरे पार्टी से भी आशा नहीं है. उन्होंने कहा कि पार्टियां राजनीतिक लाभ लेने के लिए राम मंदिर का नाम लेती है. अब अयोध्या में रामभक्त राम मंदिर बनाएंगे.

    पीएम मोदी की रामलला से दूरी की क्या हैं वजहें?

    ऐसे में लोगों के मन में सवाल उठता है कि आखिर पीएम मोदी श्री रामलला से दूरी का कारण क्या है? बता दें कि राम मंदिर आंदोलन से लेकर अब तक बीजेपी के दो ही ऐसे नेता रहे हैं, जिन्होंने रामलला से दूरी बनाए रखी है. बीजेपी के उन नेताओं में पहला नाम है बीजेपी के संस्थापक सदस्यों में से एक और पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेयी और दूसरा पीएम मोदी का है.

    माना जा रहा है कि पीएम मोदी सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद ही अयोध्या आना चाहते हैं क्योंकि देश में लोकसभा का चुनाव हो रहा है और उनका प्रत्याशियों के लिए रैली करना पार्टी ने तय किया है. ऐसे में फैजाबाद और अंबेडकरनगर की सीमा पर होने वाली रैली को भी वह मना नहीं कर सके.

    (रिपोर्ट-निमिष गोस्वामी)

    Analysis: 'अयोध्या' को ये संदेश देना चाहते हैं PM मोदी?

    अयोध्या आकर भी ‘रामलला’ से दूर रहेंगे पीएम नरेंद्र मोदी!

    आजम खान के खिलाफ EC सख्त, आचार संहिता उल्लंघन में 48 घंटे का लगाया बैन

    एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी WhatsApp अपडेट्स