लाइव टीवी

अयोध्या विवाद पर फैसला आने के बाद अखिल भारत हिन्दू महासभा ने रखी ये मांग

News18 Uttar Pradesh
Updated: November 27, 2019, 6:29 PM IST
अयोध्या विवाद पर फैसला आने के बाद अखिल भारत हिन्दू महासभा ने रखी ये मांग
अयोध्या फैसले के बाद अखिल भारत हिन्दू महासभा ने रखी ये मांग

अखिल भारत हिंदू महासभा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रविंद्र कुमार द्विवेदी के नेतृत्व में एक दल अयोध्या दौरे पर है. राष्ट्रीय उपाध्यक्ष के साथ दल में शामिल पदाधिकारियों ने आज रामनगरी पहुंच विभिन्न संत धर्माचार्य से मुलाकात की.

  • Share this:
अयोध्या. अयोध्या विवाद (Ayodhya Dispute) पर 9 नवंबर को सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने अपना ऐतिहासिक फैसला सुना दिया है. इसी क्रम में बुधवार को अखिल भारत हिंदू महासभा ने राम जन्मभूमि के संघर्ष में बलिदान होने वाले कारसेवकों की स्मृति में रामनगरी में स्मारक बनाने की मांग रखी है. साथ ही महासभा की ओर से प्रस्तावित राम जन्मभूमि मंदिर निर्माण में मंदिर के एक भवन का नाम सबसे पहले मामला अदालत की चौखट पर ले जाने वाले गोपाल सिंह विशारद के नाम पर रखने की मांग उठाई गई है.

महासभा की ओर से संगठन विस्तार के लिए महंत परशुराम दास को उत्तर भारत क्षेत्र का प्रभारी बनाने के साथ विभिन्न पदाधिकारियों का मनोनयन किया गया है. सभा की महिला शाखा के पदाधिकारियों को भी नियुक्त पत्र बांटा गया है. अखिल भारत हिंदू महासभा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रविंद्र कुमार द्विवेदी के नेतृत्व में एक दल अयोध्या दौरे पर है. राष्ट्रीय उपाध्यक्ष के साथ दल में शामिल पदाधिकारियों ने आज रामनगरी पहुंच विभिन्न संत धर्माचार्य से मुलाकात की थी और सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद आगे की रणनीति पर विचार विमर्श किया.

संगठन के पदाधिकारी सांगठनिक विस्तार को लेकर संगठन के जिला कार्यालय ककरही बाजार में थे। राष्ट्रीय पदाधिकारियों की ओर से संगठन में विभिन्न पदों पर लोगों का मनोनयन किया गया और उनको नियुक्ति पत्र बांटा गया. महासभा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रवीण कुमार द्विवेदी ने बताया कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद 492 वर्षों से राम जन्म भूमि को लेकर चले आ रहे संघर्ष पर विराम लग गया है. अब सभी को राम जन्म भूमि पर भव्य राम मंदिर के निर्माण की आकांक्षा है. या निर्माण सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर केंद्र सरकार की ओर से एक ट्रस्ट बनाकर किया जाना है.

ट्रस्ट केंद्र सरकार को बनाना है लेकिन संगठन की कोशिश है कि ट्रस्ट में अच्छे लोगों को रखा जाए और भव्य तथा दिव्य राम मंदिर का निर्माण कराया जाए. उन्होंने कहा कि सबका साथ सबका विकास की बात करने वाली भारतीय जनता पार्टी ने विकास तो किया है, लेकिन उनको सुरक्षा की कमी नजर आती है.

प्रवीण कुमार द्विवेदी ने कहा कि विकास को लेकर सुरक्षा मानकों की अनदेखी नहीं की जानी चाहिए. सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद बलिदानी कारसेवकों की स्मृति में रामनगरी में स्मारक बनवाए जाने की मांग का उन्होंने समर्थन किया और कहा कि पहली बार राम जन्मभूमि से जुड़ा मुकदमा अदालत में ले जाने वाले गोपाल सिंह विशारद के नाम पर प्रस्तावित राम मंदिर में एक भवन का निर्माण कराया जाना चाहिए.

ये भी पढे़ं:

लैपटॉप में सिमट गया अलीगढ़ को 'स्मार्ट सिटी' बनाने का सपना, ये रही वजहBJP को रोकने के लिए 'दुश्मनी' भुला शिवसेना के साथ खड़े हैं महाराष्ट्र सपा अध्यक्ष अबू आजमी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अयोध्या से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 27, 2019, 6:28 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर