होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /राममंदिर के साथ अयोध्या के प्राचीन मंदिर भी बनेंगे आकर्षण का केंद्र, जानिए क्या है योगी सरकार का प्लान

राममंदिर के साथ अयोध्या के प्राचीन मंदिर भी बनेंगे आकर्षण का केंद्र, जानिए क्या है योगी सरकार का प्लान

Facade Light: अभी तक रामनगरी अयोध्या के प्रमुख मंदिर कनक भवन, जानकी महल, दिगंबर अखाड़ा, हनुमानगढ़ी, गुप्तार घाट और दशरथ ...अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated :

हाइलाइट्स

धर्मनगरी अयोध्या के कई मंदिरों में फसाड लाइट लगाई जा चुकी. कुल 20 मंदिरों में लगाए जाने की योजना है.
फसाड लाइट लगाने का मकसद मंदिरों और पौराणिक भवनों के आर्किटेक्टचर को हाइलाइट किया जाना है.

रिपोर्ट: सर्वेश श्रीवास्तव

अयोध्या. ‘राम काजु कीन्हें बिनु मोहि कहां विश्राम’ माता सीता को ढूंढ़ने निकले रामभक्त हनुमान को जिस तरह अपने आराध्य का काज किए बिना विश्राम करना स्वीकार नहीं था. उसी तरह राम नगरी अयोध्या को त्रेता युग के अयोध्या बनाने का जो संकल्प मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का है वह निरंतर चल रहा है.

यही वजह है कि एक तरफ जहां प्रभु श्रीराम का भव्य मंदिर का निर्माण चल रहा है, तो वहीं दूसरी तरफ आयोध्या को त्रेता युग की नगरी के रूप में विकसित करने की योजनाओं पर भी प्रदेश की योगी सरकार प्रयत्नशील है. धर्मनगरी अयोध्या में प्राचीन और प्रसिद्ध मंदिरों को सुरक्षित और संरक्षित करने के लिए अब फसाड लाइट से सजाया जाएगा. जिसका उद्देश्य है कि अयोध्या आनेवाले श्रद्धालु या पर्यटक उस मंदिर में जब जाएं तो उन्हें त्रेतायुग की झलक देखने को मिले.

आपके शहर से (अयोध्या)

अयोध्या
अयोध्या

पौराणिकता को जीवंत करेगी फसाड लाइट

NEWS18 LOCAL से बात करते हुए अयोध्या विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष विशाल सिंह बताते हैं कि प्रसिद्ध और प्राचीन मंदिरों के टूटे स्थलों को प्राचीन वैदिक रूप से बनाया जा रहा है. इसकी वजह है कि मंदिरों का जो इतिहास है वह जीवंत बना रहे. अभी तक रामनगरी अयोध्या के प्रमुख मंदिर कनक भवन, जानकी महल, दिगंबर अखाड़ा, हनुमानगढ़ी, गुप्तार घाट और दशरथ महल समेत राम की पैड़ी पर फसाड लाइट लगाई गई है. इसी योजना के तहत धर्मनगरी के 20 मंदिरों में फसाड लाइट लगाए जाने की योजना है. इसके साथ ही उपाध्यक्ष विशाल सिंह बताते हैं कि फसाड लाइट लगने के बाद जो मंदिरों में बनाए गए चित्र हैं, वे हाइलाइट होंगे. साथ ही मंदिरों और पौराणिक भवनों के जो आर्किटेक्टचर रहे हैं, उन्हें भी हाइलाइट किया जाएगा. ताकि यहां आने वाले श्रद्धालु भी मंदिरों के पौराणिकता से रूबरू हो सकें.

ऐसी होती है फसाड लाइट

आपने मंदिरों में झूमर देखे होंगे. ये झूमर मंदिर की खूबसूरती में चार चांद लगाते हैं. ऐसे झूमरों के छोटे रूप घर के ड्राइंग रूम में भी लगाना पसंद करते हैं. इन झूमरों के अलावा फ्लड लाइट का इस्तेमाल भी लोग चीजों का हाइलाइट करने के लिए करते हैं. इस फ्लड लाइट से विशाल होते हैं फसाड लाइट. अयोध्या के 20 मंदिरों पर फसाड लाइट का इस्तेमाल किया जाएगा. इस खबर के साथ लगी तस्वीर दशरथ महल की है. इस महल पर फसाड लाइट लगाई जा चुकी है.

Tags: Ayodhya News, Ayodhya ram mandir, UP news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें