लाइव टीवी
Elec-widget

अयोध्या: 6 साल की मासूम से गैंगरेप कर हत्या केस में 2 लोगों को फांसी की सजा

KB Shukla | News18 Uttar Pradesh
Updated: November 16, 2019, 4:14 PM IST
अयोध्या: 6 साल की मासूम से गैंगरेप कर हत्या केस में 2 लोगों को फांसी की सजा
अयोध्या में कोर्ट ने मासूम से रेप और उसकी हत्या मामले में दो लोगों को फांसी की सजा सुनाई है.

अयोध्या (Ayodhya) के बीकापुर कोतवाली क्षेत्र स्थित भोजई का पुरवा चौरे चंदौली निवासी 6 वर्षीय बालिका 11 सितंबर 2014 को अपने घर से संदिग्ध हालात में लापता हो गई थी. पिता की ओर से पुलिस में रिपोर्ट दर्ज कराई गई थी कि उनकी मासूम पुत्री संतोष नट और तेजपाल नट के साथ देखी गई है. खोजबीन के बाद बालिका का शव क्षेत्र में ही एक नाले से बरामद हुआ था.

  • Share this:
अयोध्या. जनपद के बीकापुर कोतवाली क्षेत्र में 5 साल पूर्व एक मासूम बालिका कि गैंगरेप (Gangrape) के बाद हत्या (Murder) कर शव नाले में फेंक दिए जाने के मामले में अदालत में दो नामजद आरोपियों को फांसी (Capital Punishment) की सजा सुनाई है. साथ ही दोनों पर 1.35-1.35 लाख का जुर्माना भी लगाया है. कोर्ट ने जुर्माने की आधी रकम पीड़ित परिवार को देने का आदेश दिया है. घटना में प्रकाश में आए 2 अन्य आरोपियों की पत्रावली उच्च न्यायालय के आदेश पर अलग कर दी गई है. शनिवार को यह आदेश पॉक्सो एक्ट के स्पेशल जज असद अहमद हाशमी की अदालत से हुआ है. मामले में सरकारी पद से शासकीय अधिवक्ता विनोद उपाध्याय और वीरेंद्र प्रताप मौर्या ने पैरवी की.

जनपद के बीकापुर कोतवाली क्षेत्र स्थित भोजई का पुरवा चौरे चंदौली निवासी 6 वर्षीय बालिका वर्ष 2014 के सितंबर माह के 11 तारीख को अपने घर से संदिग्ध हालात में लापता हो गई थी. पिता की ओर से पुलिस में रिपोर्ट दर्ज कराई गई थी कि उनकी मासूम पुत्री संतोष नट और तेजपाल नट के साथ देखी गई है. खोजबीन के बाद बालिका का शव क्षेत्र में ही एक नाले से बरामद हुआ था.

पोस्टमार्टम के दौरान मासूम के साथ बलात्कार और अप्राकृतिक दुष्कर्म की पुष्टि होने के बाद बीकापुर पुलिस की ओर से मामले में भारतीय दंड विधान की धारा 376 (ए), (डी), 377, 302 और 201 के तहत मामला दर्ज किया गया था. विवेचना के दौरान घटना में शामिल दो अन्य अभियुक्त संतोष कुमार और इंद्र बहादुर यादव का नाम प्रकाश में आया था.

शासकीय अधिवक्ता विनोद उपाध्याय और वीरेंद्र प्रताप मौर्य ने बताया कि मासूम से जुड़ा होने के चलते मामले की सुनवाई स्पेशल जज पॉक्सो एक्ट की अदालत को सौंपी गई थी. स्पेशल जज पॉक्सो एक्ट असद अहमद हाशमी की अदालत ने दोनों नामजद आरोपियों संतोष और तेजपाल को विचारण के बाद सजा सुनाई है.

उन्होंने बताया कि भादवि की धारा 302 के तहत दोनों को फांसी और 50-50 हजार का जुर्माना, 376ए के तहत उम्र कैद और 25-25 हजार के जुर्माने, 376 डी अर्थात गैंगरेप के तहत उम्र कैद और 25-25 हजार के जुर्माने, 377 के तहत उम्र कैद और 25-25 हजार के जुर्माने और 201 के तहत 7 साल की सजा व 10-10 हजार के जुर्माने की सजा सुनाई है. अदालत ने जुर्माने की रकम का आधा पीड़ित परिवार को देने और दोनों को जेल भेजने का आदेश दिया है.

प्रकरण में पुलिस विवेचना के दौरान प्रकाश में आए दो अभी तो संतोष और इंद्र बहादुर यादव की पत्रावली उच्च न्यायालय के आदेश पर अलग कर दी गई थी, जिसके चलते अभी मामले के केवल नामजद आरोपियों के खिलाफ विचारण पूरा हो पाया है.

ये भी पढ़ेंं:
Loading...

अयोध्या में मस्जिद के लिए इस हिंदू व्यक्ति ने दिया 5 एकड़ जमीन दान देने का ऑफर

अभद्र टिप्पणी मामले में तपस्वी छावनी से निष्कासित किए गए महंत परमहंस दास

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अयोध्या से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 16, 2019, 4:13 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...