अयोध्या: पास हुआ राम मंदिर का नक्शा, विकास शुल्क के तौर पर रामलला जमा करेंगे 2 करोड़ रुपये
Ayodhya News in Hindi

अयोध्या: पास हुआ राम मंदिर का नक्शा, विकास शुल्क के तौर पर रामलला जमा करेंगे 2 करोड़ रुपये
राम जन्मभूमि ट्रस्ट ने सौंपा मंदिर का नक्शा (file photo)

Ayodhya Ram Mandir: अयोध्या जनपद में विकास प्राधिकरण को सबसे ज्यादा विकास शुल्क देने वाले रामलला होंगे. प्राधिकरण ने राम मंदिर का नक्‍श भी पास कर दिया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 2, 2020, 2:51 PM IST
  • Share this:
अयोध्या. अयोध्या विकास प्राधिकरण (Ayodhya Development Authority) ने बुधवार को बोर्ड की बैठक में सर्वसम्मति से राम मंदिर (Ram Temple) परिसर का लेआउट और राम मंदिर का नक्शा पास कर दिया. अब राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट को दो करोड़ 11 लाख 33 हज़ार 184 रुपए जमा करने होंगे. इसमें विकास शुल्क एक करोड़ 79 लाख 45 हज़ार 477 रुपए, विकास शुल्क एक लाख 50 हज़ार, भवन निर्माण अनुज्ञा शुल्क 64 हज़ार 400 रुपये और पर्यवेक्षण शुल्क 29 लाख 73 हजार 307 रुपये जमा करने होंगे. इससे पहले ट्रस्ट 65 हज़ार रुपये मैप के आवेदन के समय ही जमा करवा चुका है.

राम मंदिर निर्माण में अतिरिक्त लेबर सेस के रूप में 15 लाख 363 रुपए उत्तर प्रदेश भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड के नाम जमा करना होगा. इस तरह से अयोध्या जनपद में अयोध्या विकास प्राधिकरण को सबसे ज्यादा विकास शुल्क देने वाले रामलला होंगे. बोर्ड की बैठक में अध्यक्ष कमिश्नर एमपी अग्रवाल, उपाध्यक्ष डॉ नीरज शुक्ला, पदेन सदस्य डीएम अनुज झा और अन्य सदस्य मौजूद रहे.

अगस्त में हुआ था शिला पूजन
बता दें कि 5 अगस्त को पीएम नरेंद्र मोदी द्वारा राम मंदिर के लिए शिला पूजन कार्यक्रम के बाद से ही है निर्माण कार्य युद्ध स्तर पर जारी है. बताया जा रहा है कि सितंबर के दूसरे सप्ताह में राम मंदिर निर्माण कार्य शुरू हो सकता है. विकास प्राधिकरण से मानचित्र स्वीकृति के बाद नियाद की खुदाई का काम शुरू हो जाएगा. इसके लिए अत्याधुनिक मशीनें राम जन्मभूमि परिसर में पहुंच चुकी हैं.
रामलला के मंदिर निर्माण के लिए पत्थरों को परिसर में पहुंचाने का काम भी अब जल्द ही शुरू होगा. आपको बता दें रामलला के मंदिर की मजबूती के लिए मंदिर निर्माण में स्टील या लोहे का इस्तेमाल नहीं होगा. यही नहीं पत्थरों को आपस में जोड़ने के लिए सरकार की स्टैंडर्ड कंपनी का ही तांबा श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट दान में लेगा, जिससे की तांबे की गुणवत्ता बनी रहे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज