लाइव टीवी

अयोध्या: श्रीराम एयरपोर्ट के लिए जमीन देने से किसानों का इनकार, ये रही वजह

KB Shukla | News18 Uttar Pradesh
Updated: February 3, 2020, 8:27 AM IST
अयोध्या: श्रीराम एयरपोर्ट के लिए जमीन देने से किसानों का इनकार, ये रही वजह
सपा नेता पवन पांडे ने किसानों संग लगाई चौपाल

किसानों (Farmers) का आरोप है कि एक तरफ श्रीराम एयरपोर्ट के विस्तारीकरण में जनौरा के किसानों को एक बीघे का 75 लाख रुपये मुआवजा दिया जा रहा है, वहीं धरमपुर के किसानों को महज आठ लाख रुपये.

  • Share this:
अयोध्या. रामनगरी अयोध्या (Ayodhya) में प्रस्तावित श्रीराम एयरपोर्ट (Shri Ram Airport) के विस्तारीकरण में अधिग्रहण के दायरे में आ रहे धरमपुर के ग्रामीणों ने मोर्चा खोल दिया है. ग्रामीणों ने 'समान कार्य के लिए समान जमीन का समान मुआवजा' का स्लोगन देते हुए अपनी जमीन सरकार को न देने का ऐलान किया है. किसानों (Farmers) का आरोप है कि एक तरफ श्रीराम एयरपोर्ट के विस्तारीकरण में जनौरा के किसानों को एक बीघे का 75 लाख रुपये मुआवजा दिया जा रहा है, वहीं धरमपुर के किसानों को महज आठ लाख रुपये. जनौरा के किसानों के बराबर मुआवजा न मिला तो किसी भी कीमत पर जमीन नहीं देंगे.

सपा और कम्युनिस्ट पार्टी ने किया किसानों का समर्थन

असमान मुआवजे को लेकर आज धर्मपुर गांव में समाजवादी पार्टी के नेता व पूर्व राज्य मंत्री पवन पांडे व कम्युनिस्ट पार्टी के नेता सूर्यकांत पांडे ने चौपाल लगाई और ऐलान किया कि जब तक ग्रामीणों को समान रूप से मुआवजा नहीं मिल जाता तब तक धर्मपुर गांव के ग्रामीणों के साथ दोनों पार्टियां खड़ी रहेगी. एक तरफ प्रदेश सरकार राम नगरी के सांस्कृतिक और धार्मिक विरासत को फलक पर लाने के लिए योजनाओं के लिए जमीन की तलाश में जुटी है, वही किसानों का विरोध भी तेज हो गया है.

जमीन की जा रही है अधिग्रहित

बता दें राम नगरी के श्रीराम एयरपोर्ट विस्तारीकरण के लिए धर्मपुर गांव के किसानों की जमीन अधिग्रहण के दायरे में है. बीते 7 जनवरी को धरमपुर गांव के ग्रामीणों ने सदर तहसील में समाधान दिवस पर सुनवाई करने पहुंचे जिला अधिकारी अनुज कुमार झा के सामने अपनी समस्या रखी थी. हालांकि राजस्व महकमे की ओर से पहले से तय सर्किल रेट के चलते जिला प्रशासन की ओर से धर्मपुर गांव के किसानों को कोई राहत नहीं मिल पाई. मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री राम के नाम पर बनने वाले इस एयरपोर्ट में हवाई पट्टी क्षेत्र का विस्तारीकरण किया जाना है. इस विस्तारीकरण के लिए हवाई पट्टी के आसपास बसे गांव जनौरा, नंदापुर, गंजा और धरमपुर ग्राम सभा की जमीन अधिग्रहित की जानी है. जिसकी प्रक्रिया शासन प्रशासन स्तर पर जारी है. अधिग्रहित क्षेत्र के किसानों को मुआवजा देकर उनकी जमीन की रजिस्ट्री कराई जा रही है.

किसान कर रहे ठगा महसूस

हालांकि शासन प्रशासन की इस प्रक्रिया में धरमपुर ग्राम सभा के लोग अपने को ठगा महसूस कर रहे हैं. आक्रोशित ग्रामीणों का कहना था कि एयरपोर्ट के विस्तारीकरण के लिए सरकार की ओर से जमीन ली जा रही है. जनौरा, नंदापुर और गंजा के किसानों को उनकी जमीन का अधिक मुआवजा दिया जा रहा है जबकि उतनी ही जमीन का धरमपुर गांव के किसानों को कम मुआवजा हासिल हो रहा है. शासन और प्रशासन ने उनकी बात नहीं सुनी. अगर जनौरा के किसानों जितना मुआवजा नहीं दिया गया तो वह किसी कीमत पर अपनी जमीन एयरपोर्ट विस्तारीकरण के लिए नहीं देंगे.रविवार को सपा के पूर्व मंत्री पवन पांडेय और कम्युनिस्ट नेता सूर्यकांत पांडेय धर्मपुर गांव पहुंचे और किसानों से हालात पर चर्चा की. इस बाबत जिला प्रशासन कुछ भी बोलने से कतरा रहा है.

ये भी पढ़ें:

सामने आई रंजीत बच्‍चन की पोस्‍टमॉर्टम रिपोर्ट, इस वजह से हुई मौत

मोबाइल फोन से खुलेगा हिंदूवादी नेता रंजीत बच्चन की हत्या का राज!

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अयोध्या से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 3, 2020, 8:27 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर