LIVE NOW

अयोध्या विवाद: नाबालिग हैं भगवान राम, संपत्ति न छीनी जा सकती है और न बेची

वकील वैद्यनाथन ने सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में कहा अयोध्या (Ayodhya) के भगवान रामलला (Lord Rama) नाबालिग हैं. नाबालिग की संपत्ति को न तो बेचा जा सकता है और न ही छीना जा सकता है.

Hindi.news18.com | August 22, 2019, 2:09 PM IST
facebook Twitter Linkedin
Last Updated August 22, 2019

हाइलाइट्स

2:09 pm (IST)

वकील रंजीत कुमार ने कहा कि 1949 में मुस्लिम पक्ष ने कहा था कि वह 1935 से वहां पर नमाज नहीं पढ़ रहे हैं, ऐसे में अगर जमीन को हिंदुओं को दिया जाता है तो कोई परेशानी नहीं होगी. जिस पर सुप्रीम कोर्ट ने हलफनामे की वैधता को लेका पूछा कि क्या यह हलफनामे वेरिफाई हैं? जस्टिस बोबड़े ने कहा कि यह हलफनामा तब दिया गया था जब सरकार विवादित जमीन को रिसीवर को देना चाहती थी, क्या यह बातें कभी मजिस्ट्रेट के सामने साबित हो पाई थी?

12:18 pm (IST)

वकील रंजीत कुमार ने कुछ मुसलमानों द्वारा फैजाबाद जिला मजिस्ट्रेट के समक्ष 1950 में दायर किये गए कुछ हलफनामों को रखा. जिसमें सभी ने कहा है कि विवादित जमीन पर मंदिर था और उसे मस्जिद बनाने के लिए तोड़ा गया.

11:45 am (IST)

रंजीत कुमार ने कहा- मेरी दलीलें वकील पराशरन और वैद्यनाथन द्वारा दिये गए उन तर्कों से सहमत हैं जो ये साबित करते हैं कि उक्त जमीन खुद में दैवीय भूमि है. भगवान राम का उपासक होने के नाते मेरा वहां पर पूजा करने का अधिकार है. यह मेरा सामाजिक अधिकार है, जिसे हटाया नहीं जा सकता. ये वो जगह है, जहां भगवान राम का जन्म हुआ था. मैं यहां पर पूजा करने का अधिकार मांग रहा हूं.

11:36 am (IST)

गोपाल सिंह विशारद के वकील रंजीत कुमार ने अब्दुल गनी द्वारा दायर हलफनामे को कोर्ट के सामने रखते हुए कहा कि गनी ने अपने हलफनामे में कहा था कि मस्जिद का निर्माण राम मंदिर को तोड़कर किया गया था. मस्जिद के गिरने के बाद मुसलमानों ने वहां नमाज पढ़ना बंद कर दिया. लेकिन हिंदुओं ने जन्मस्थान की पूजा जारी रखी.

11:33 am (IST)

अयोध्या राम जन्मभूमि मामले में 10वें दिन की सुनवाई सुप्रीम कोर्ट में शुरू. गोपाल सिंह विशारद की ओर से रखा जा रहा है पक्ष. विशारद की ओर से 1950 मे मुक़दमा दाखिल किया गया था. इनका मुक़दमा सूट नंबर एक है.

11:24 am (IST)

नौवें दिन शीर्ष अदालत ने स्पष्ट कहा कि ये मामला किसी आस्था का नहीं है बल्कि विवादित जमीन से जुड़ा है. इस मामले पर अब गुरुवार को सुनवाई होगी.

4:03 pm (IST)

पीएन मिश्रा ने कहा कि हमारा मानना है कि कि बाबर ने वहां कभी कोई मस्जिद नहीं बनवायी और हिन्दू उस स्थान पर हमेशा पूजा करते रहे है. हम इसको जन्मभूमि कहते हैं. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि हम आस्था को लेकर लगातार दलीलें सुन रहे है, जिन पर हाईकोर्ट ने विश्वास भी जताया है. इस पर जो भी स्पष्ट साक्ष्य हैं वह बताएं. सीजेआई ने कहा कि मानचित्र में यह साफ करिए कि मूर्तियां कहां हैं? सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि हिंदू ग्रंथों में आस्था का आधार विवादित नहीं है, हमको मंदिर के लिए दस्तावेजी सबूत पेश करिए.

3:36 pm (IST)

सुप्रीम कोर्ट ने पूछा कि स्कंद पुराण कब लिखा गया था? राम जन्मस्थान पुनरुद्धार समिति के वकील पीएन मिश्रा ने कहा कि ब्रिटिश लिखक के अनुसार गुप्त समय मे लिखा गया, यह भी कहा जाता है 4-5 AD में लिखा गया.

 

3:29 pm (IST)

रामजन्म स्थान पुनरुद्धार समिति के वकील पीएन मिश्रा ने स्कंद पुराण का जिक्र किया, जिसमें लोग सरयू नदी में स्नान करने के बाद जन्मस्थान का दर्शन करते थे. इसमें मंदिर का जिक्र नही है, लेकिन जन्मस्थान का दर्शन करते थे.

3:21 pm (IST)

रामलला के वकील सीएस वैद्यनाथन ने अपनी दलील पूरी की. रामजन्म स्थान पुनरोधान समिति के वकील पीएन मिश्रा ने दलील रखना शुरू किया. सुप्रीम कोर्ट ने पूछा कि क्या आप इस में पार्टी हैं? पीएन मिश्रा ने कहा कि हां, मैं सूट नम्बर 4 में प्रतिवादी नम्बर 20 हूं. मिश्रा ने कहा कि मैं तर्क दूंगा कि वह हमारे सिद्धांत, आस्था और विश्वासों के आधार पर एक मंदिर है. मैं अथर्व वेद से आरंभ करूंगा.

LOAD MORE
अयोध्या (Ayodhya)के राम जन्मभूमि (Ram Janambhoomi) और बाबरी मस्जिद जमीन विवाद (Babri Mosque Land Dispute) की सुनवाई सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) के संविधान पीठ के समक्ष बुधवार को भी जारी है. 6 अगस्त से शुरू हुई सुनवाई के नौवें दिन आज रामलला विराजमान (Ramlala Virajman) की तरफ से वरिष्ठ वकील एसएन वैद्यनाथन ने फिर से बहस शुरू की. विवादित जमीन पर रामलला का दावा बताते हुए उन्होंने कई दलील पेश की. वैद्यनाथन ने कहा, ' अगर वहां पर कोई मंदिर नहीं था, कोई देवता नहीं है तो भी लोगों की जन्मभूमि के प्रति आस्था काफी है. वहां पर मूर्ति रखना उस स्थान को पवित्रता प्रदान करता है. उन्होंने आगे कहा, " अयोध्या के भगवान रामलला नाबालिग हैं. नाबालिग की संपत्ति को न तो बेचा जा सकता है और न ही छीना जा सकता है. उन्होंने कहा कि अगर जन्मस्थान देवता है, अगर संपत्ति खुद में एक देवता है तो भूमि के मालिकाना हक का दावा कोई और नहीं कर सकता. कोई भी बाबरी मस्जिद के आधार पर उक्त संपत्ति पर अपने कब्जे का दावा नहीं कर सकता.
Loading...