Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    अयोध्या में यमद्वितीया पर हुई यमराज की पूजा, सरयू तट पर लोगों ने की दीर्घायु होने की कामना

    दिवाली के तीसरे दिन अयोध्या में सरयू तट पर श्रद्धालु यमराज की पूजा-अर्चना कर रहे हैं
    दिवाली के तीसरे दिन अयोध्या में सरयू तट पर श्रद्धालु यमराज की पूजा-अर्चना कर रहे हैं

    प्राचीन मान्यताओं को संजोए हुए सरयू तट पर स्थित यमराज की तपोस्थली माने जाने वाले यमथरा घाट पर कार्तिक शुक्ल पक्ष द्वितीया के अवसर पर परंपरागत ढंग से यम द्वितीया का मेला लगता है. यहां महाराज यमराज की पूजा होती है

    • News18Hindi
    • Last Updated: November 16, 2020, 9:43 PM IST
    • Share this:
    अयोध्या. भगवान राम (Lord Ram) की नगरी में वैसे तो उनकी पूजा रोज होती है लेकिन साल में एक दिन ऐसा आता है जब यमराज (Yamraj) की यहां पूजा होती है. काल देवता माने जाने वाले यमराज की पूजा दिवाली (Diwali 2020) के तीसरे दिन यमद्वितीया को सरयू घाट (Saryu Bank) के यमथरा घाट पर होती है. यहां बड़ी संख्या में श्रद्धालु पहुंचकर महाराज यमराज की तपोस्थली पर पूजा-अर्चना कर खुद को भयमुक्त करने की कामना करते है. प्राचीन मान्यताओं को संजोए हुए सरयू तट पर स्थित यमराज की तपोस्थली माने जाने वाले यमथरा घाट पर कार्तिक शुक्ल पक्ष द्वितीया के अवसर पर परंपरागत ढंग से यम द्वितीया का मेला लगता है. यहां महाराज यमराज की पूजा होती है.

    सोमवार सुबह से श्रद्धालु सरयू में स्नान कर दीर्घायु होने की कामना लेकर यमराज की पूजा-अर्चना कर रहे हैं. विशेषकर यम द्वितीया को बहनें व्रत रखकर अपने भाई के कल्याण और दीर्घायु होने की भी कामना लेकर यमथरा घाट पर स्नान और यमराज की पूजा-अर्चना कर रही हैं. प्राचीन मान्यताओं के अनुसार यमराज ने इस तपोस्थली को अयोध्या माता से प्राप्त किया था और मान्यता है कि यमराज महाराज की पूजा-अर्चना करने वालों को मृत्यु का भय नहीं लगता. इन्हीं कामनाओं को लेकर यमथरा घाट पर महाराज यमराज की पूजा-अर्चना होती है.





    इसके साथ ही दीपावाली पर स्थापित गणेश और लक्ष्मी की मूर्तियों को सरयू में विसर्जित किया जाता है. यमराज मंदिर के पुजारी पंडित अवध किशोर शास्त्री ने बताया कि एक दिन ऐसा भी होता है जब हेमराज की भी पूजा होती है. दीपावली के तीसरे दिन यमद्वितीया के दिन सरजू के जमथरा घाट पर स्थित यमराज के मंदिर में लोग पूजा-पाठ करते हैं और भयमुक्त होने की कामना करते हैं. मान्यता है कि आज के दिन यमराज की पूजा करने से लोग दीर्घायु भी होते हैं. (कृष्णा शुक्ला की रिपोर्ट)
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज