अयोध्या: राम मंदिर के लिए विस्तारीकरण का काम शुरू, निर्माण स्थल से सटे हुए गिराए जाएंगे कई भवन
Ayodhya News in Hindi

अयोध्या: राम मंदिर के लिए विस्तारीकरण का काम शुरू, निर्माण स्थल से सटे हुए गिराए जाएंगे कई भवन
पहले चरण में राम जन्म स्थान, सीता रसोई, साक्षी गोपाल और मानव भवन के भाग को गिराया जाएगा. (फाइल फोटो)

राम जन्मभूमि के मुख्य पुजारी आचार्य सत्येंद्र दास (Acharya Satyendra Das) के मुताबिक, मंदिर निर्माण के लिए अधिग्रहित परिसर में स्थित कई मंदिरोंं को गिरायाा जाएगा.

  • Share this:
अयोध्या. राम जन्मभूमि (Ram janmabhoomi) पर मंदिर निर्माण के लिए भूमि के विस्तारीकरण (Expansion) का काम शुरू कर दिया है. मंदिर निर्माण स्थल से सटे जर्जर मंदिरों के भवनों को हटाए जाने का कार्य के लिए भी एलएंडटी को ही जिम्मेदारी दी गई है, जिसमें सबसे पहले राम जन्म स्थान व सीता रसोई के जर्जर हो चुके भवन को ध्वस्त करने का निर्णय लिया गया है. राम जन्मभूमि मंदिर निर्माण के लिए अधिग्रहित (Acquired) परिसर में 67 एकड़ भूमि के साथ 13 अन्य मंदिरों को भी अधिकृत किया गया था. लंबे अरसे से अधिग्रहित होने के कारण सभी भवन जर्जर हालात में हैं. वहीं, मंदिर निर्माण के लिए आसपास की भूमि को खाली कराए जाने की आवश्यकता थी, जिसके कारण अब जर्जर हालात के इन सभी मंदिरों को गिराए जाने की प्रक्रिया शुरू की जाएगी. इसके लिए एलएंडटी (L&T) को जिम्मेदारी दी गई है.

राम जन्मभूमि के मुख्य पुजारी आचार्य सत्येंद्र दास के मुताबिक, मंदिर निर्माण के लिए अधिग्रहित परिसर में स्थित कई मंदिरोंं को गिरायाा जाएगा. इसके लिए पहले चरण में राम जन्म स्थान, सीता रसोई, साक्षी गोपाल और मानव भवन के भाग को गिराया जाएगा. इसके बाद अन्य मंदिरों के जर्जर भवनों को गिराए जाने के साथ ही परिसर का विस्तार होगा. साल 1992 में हुए राम जन्म भूमि परिसर के अधिग्रहण के दरमियान 13 मंदिरअधिग्रहण में चले गए थे. प्रमुख रूप से अधिग्रहण में गए मंदिरों में राम खजाना, सीता रसोई, सुमित्रा भवन, मानस भवन, लक्ष्मण मंदिर और आनंद भवन का नाम शामिल है. इनमें जीर्ण शीर्ण हुए मंदिरों को दोबारा से जीर्णोद्धार कराया जाएगा.

5 अगस्त को पीएम मोदी ने किया था भूमि पूजन
बता दें कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी बीते पांच अगस्त को राम मंदिर के निर्माण के लिए भूमि पूजन किया था. इसके लिए वे सुबह 9:30 बजे दिल्ली से लखनऊ के लिए रवाना हुए थे. फिर वहां से करीब 10:30 बजे चॉपर से अयोध्या पहुंचे. यहां सीएम योगी आदित्यनाथ ने पीएम मोदी का स्वागत किया था. फिर, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण के लिए भूमि पूजन किया था. भूमि पूजन से पहले पीएम मोदी ने सबसे पहले 10वीं शताब्दी के प्राचीन मंदिर हनुमानगढ़ी के दर्शन किए थे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज