लाइव टीवी

अयोध्या राम जन्मभूमि- बाबरी मस्जिद विवाद: मुस्लिम पक्ष के वकीलों ने कहा- मध्यस्थता के खिलाफ

News18 Uttar Pradesh
Updated: October 18, 2019, 1:35 PM IST
अयोध्या राम जन्मभूमि- बाबरी मस्जिद विवाद: मुस्लिम पक्ष के वकीलों ने कहा- मध्यस्थता के खिलाफ
अब अयोध्या विवाद पर मध्यस्थता को लेकर आमने सामने मुस्लिम पक्ष और सुन्नी सेन्ट्रल वक्फ बोर्ड

सुप्रीम कोर्ट में मुस्लिम पक्ष (Muslim Side) की तरफ से सुन्नी सेंट्रल वफ्फ बोर्ड के वकील एमआर शमसाद ने बड़ा बयान दिया है.

  • Share this:
अयोध्या. सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में 40 दिन की सुनवाई पूरी होने के बाद अयोध्या (Ayodhya) के राम जन्मभूमि (Ram Janambhoomi) और बाबरी मस्जिद (Babri Mosque) जमीन विवाद (Property Dispute) में फैसला सुरक्षित रख लिया गया है. लेकिन सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड (Sunni Central Waqf Board) द्वारा कथित तौर पर मध्यस्थता पैनल के माध्यम से दिए गए हलफनामे को लेकर रार शुरू हो गई है. सुप्रीम कोर्ट में मुस्लिम पक्ष (Muslim Side) की तरफ से सुन्नी सेंट्रल वफ्फ बोर्ड के वकील एमआर शमसाद ने बड़ा बयान दिया है. उन्होंने कहा है कि हम मध्ययस्था के खिलाफ है. सुन्नी सेंट्रल वफ्फ बोर्ड के चैयरमैन का क्या बयान है और क्या मांग है इसकी जानकारी हमें नहीं हैं. हम मध्ययस्था के खिलाफ हैं.

मुस्लिम पक्ष ने मध्यस्थता पैनल पर भी आरोप लगाए और कहा कि जानबूझकर रिपोर्ट मीडिया में लीक की गई. मुस्लिम पक्ष के एजाज मकबूल ने स्टेटमेंट जारी कर कहा, "मुस्लिम पक्ष ने साफ कहा कि जो प्रस्ताव दिया गया है, उसको स्वीकार नहीं करते. मध्यस्थता में सीमित लोगों ने हिस्सा लिया था. निर्वाणी अखाड़ा से महंत घर्मदास, सुन्नी वक्फ बोर्ड से जफर फ़ारूक़ी और हिन्दू महासभा से चक्रपाणि सहित अन्य दो लोगों ने हिस्सा लिया था. जब हिन्दू पक्ष खुले तौर पर कह चुके है कि मध्यस्थता में भाग नहीं लेंगे तो आखिर मध्यस्थता कैसे हो सकती है मध्यस्थता कमिटी ने जो प्रयास किया था उसमें उनका कोई आदमी शामिल नहीं है."

दूसरी तरफ सुन्नी वक्फ बोर्ड के वकील शकील अहमद ने कहा, " मध्यथता में मुस्लिम पक्षकार की तरफ से  6 से  7 पक्षकार हैं. इसमें से सिर्फ एक पक्षकार ने पहल दिखाई है. लेकिन हमसे कोई सम्पर्क नहीं किया गया. पार्टीज का अपना समझना है, हमारी तरफ से ऐसा कोई प्रपोजल नहीं था. हम आपस में बंटे नहीं है. सभी पार्टी शामिल होंगे तभी मीडिएशन  सफल होगा. हम चाहते हैं कि कोर्ट से फैसला आए.​

हिंदू महासभा ने बताया बड़ा ट्रैप

उधर अयोध्या मामले में सुन्नी वफ्फ बोर्ड द्वारा जारी उस प्रेस नोट पर जिसमे उन्होंने मध्ययस्था से इनकार किया है, हिन्दू महासभा के वकील विष्णु जैन ने कहा कि यह लोगों का ध्यान भटकाने की कोशिश है. यह बड़ा ट्रैप है. इस स्टेज पर अब यह संभव नहीं हैं. सबसे बड़ी बात है कि मध्ययस्था की बात मीडिया में कैसे लीक हुई. यह भी जांच का विषय हैं.

ये भी पढ़ें:

अयोध्या मामले में सुन्नी वक्फ बोर्ड के वकील ने की समझौते की पुष्टि
Loading...

अयोध्या में इस दलित ने किया था राम मंदिर का शिलान्यास, अब कही ये बड़ी बात!

(इनपुट: सुशिल पांडेय)

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अयोध्या से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 18, 2019, 1:27 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...