लाइव टीवी

अयोध्या: लॉक डाउन के बीच 25 मार्च को ब्रह्म मुहूर्त में अस्थाई मंदिर में विराजमान होंगे रामलला, सीएम योगी भी होंगे शामिल
Ayodhya News in Hindi

News18 Uttar Pradesh
Updated: March 24, 2020, 7:07 PM IST
अयोध्या: लॉक डाउन के बीच 25 मार्च को ब्रह्म मुहूर्त में अस्थाई मंदिर में विराजमान होंगे रामलला, सीएम योगी भी होंगे शामिल
अयोध्या में रामलला को अस्थाई मंदिर में ले जाने की तैयारी शुरू हो गई है.

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath)का कार्यक्रम भी रामलला को शिफ्ट करने के समय मौजूदगी में होना था, कोरोना अलर्ट के चलते मुख्यमंत्री के कार्यक्रम में संशय खड़ा हो गया था. लेकिन अब पता चला है कि सीएम आज रात्रि विश्राम अयोध्या सर्किट हाउस में करेंगे. रामलला की पूजा-अर्चना व शिफ्टिंग के बाद सीएम योगी कल गोरखपुर जाएंगे.

  • Share this:
अयोध्या. एक तरफ उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस (COVID-19) के चलते लॉक डाउन की घोषणा हो चुकी है. उधर अयोध्या (Ayodhya) में रामलला (Ramlala) को उनके नए अस्थाई मंदिर में शिफ्ट करने के लिए पूजा-पाठ चालू है. मंगलवार सुबह 7 बजे से ही 15 वैदिक विद्वान रामलला के गर्भ गृह में पूजा अनुष्ठान शुरू किए गए, जो आज देर रात 11 बजे तक चलेंगे. इसके बाद अर्ध रात्रि (25 मार्च) में 2 बजे रामलला को जगाया जाएगा. उनका पूजन पाठ होगा और रास्ते का शुद्धिकरण होगा. इसके बाद फिर भोर में ही ब्रह्म मुहूर्त में रामलला को अपने नए मंदिर में विराजमान कराया जाएगा.

इसके बाद सुबह 7 बजे राम लला की आरती होगी. इस आरती का प्रसारण भी कराने के लिए ट्रस्ट के पदाधिकारियों ने स्थानीय प्रशासन से अनुरोध किया है. माना जा रहा है कि कल सुबह लाइव आरती भी और रामलला के भक्तों को घर बैठे ही देखने को मिल सकती है. नवरात्र के प्रथम दिन रामलला अपने नए मंदिर में नए आसन पर विराजमान होंगे. चांदी के सिंहासन पर भगवान रामलला अपने चारों भाइयों के साथ बाल स्वरूप दर्शन देंगे. हालांकि ट्रस्ट के पदाधिकारी इस पूरे कार्यक्रम को बहुत भव्य तरीके से करने के इच्छुक थे मगर देश में व्याप्त कोरोना वायरस के अलर्ट के चलते अब पूरे कार्यक्रम को सीमित कर दिया गया है.

दरअसल राम जन्मभूमि फैसले के बाद राम मंदिर निर्माण के लिए एक कदम और आगे बढ़ते हुए ट्रस्ट के पदाधिकारियों ने रामलला को मंदिर निर्माण के निमित्त अस्थाई मंदिर में शिफ्ट करने की कवायद शुरू कर दी है. कल से ही रामलला के गर्भ गृह में पूजन शुरू हो गया है जिसमें 15 वैदिक विद्वान जो दिल्ली, प्रयागराज, मथुरा, काशी और अयोध्या के वहां पर पूजन कर रहे हैं. कल देर शाम तक पूजन वहां पर चला और आज सुबह फिर 7 बजे से वैदिक विद्वान रामलला के गर्भ गृह में पूजन कर रहे हैं. रात्रि 11 बजे तक यह पूजन चलेगा. कल भोर में 2 बजे रामलला को दोबारा से जगाया जाएगा और 4 बजे भगवान रामलला को शिफ्ट करने की प्रक्रिया को पूरा किया जाएगा. इस दरमियान ट्रस्ट के पदाधिकारी और पूजन करा रहे हैं. वैदिक ब्राह्मणों के अलावा सीमित लोग ही वहां पर रहेंगे.

सीएम भी पहुंचेंगे



हालांकि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का कार्यक्रम भी रामलला को शिफ्ट करने के समय मौजूदगी में होना था, कोरोना अलर्ट के चलते मुख्यमंत्री के कार्यक्रम में संशय खड़ा हो गया था. लेकिन अब पता चला है कि सीएम  आज रात्रि विश्राम अयोध्या सर्किट हाउस में करेंगे. रामलला की पूजा-अर्चना व शिफ्टिंग के बाद सीएम योगी कल गोरखपुर जाएंगे. कल नवरात्र के प्रथम दिन सीएम योगी गोरखपुर में पूजा अर्चना करेंगे.

का कार्यक्रम नहीं होगा.  राम जन्म भूमि तीर्थ क्षेत्र टेस्ट के महामंत्री चंपत राय ने कहा कि कल सुबह 4 बजे रामलला अपना टेंट का मंदिर छोड़ करके तैयार किए गए अस्थाई मंदिर में विराजमान होंगे. अयोध्या के वरिष्ठ संतो की स्थानीय जनप्रतिनिधि और ट्रस्ट के पदाधिकारी की मौजूदगी में रामलला को नया स्थाई भवन में विराजमान कराया जाएगा.

भव्य है रामलला के चांदी का सिंहासन
रामलला नए अस्थाई मंदिर में चांदी के सिंहासन पर विराजमान होंगे. यह सिंहासन अयोध्या राजपरिवार के द्वारा राम लला को भेंट किया गया है. यह सिंहासन 25 इंच लंबा 15 इंच चौड़ा और 24 इंच ऊंचा है. रामलला का दर्शन कल सुबह 7 बजे से नए अस्थाई मंदिर में होगा.

ramlala1
रामलला के लिए विशेष चांदी का सिंहासन


चंपत राय ने कहा कि कोरोना से चलते जिन भी मंदिरों के कपाट बंद हैं, उन सभी संतो को धन्यवाद देते हुए कहा कि यह भी एक तरीके की भगवान की ही सेवा है क्योंकि यह संक्रमण से फैलने वाली बीमारी है. उस सभी संतो को साधुवाद के पात्र हैं, जिन्होंने आम श्रद्धालुओं के लिए मंदिरों के कपाट बंद किए हैं. यदि मंदिरों में श्रद्धालु नहीं आएंगे तो इस संक्रमण को फैलने से रोका जा सकता है.

अयोध्या के सभी मंदिरों के कपाट बंद
बताते चलें कि कल से ही सिद्धपीठ हनुमानगढ़ी, दशरथ महल, कनक भवन, बड़ी देवकाली मंदिर, छोटी देवकाली मंदिर समेत अयोध्या के कई बड़े मंदिरों के पट श्रद्धालुओं के लिए बंद कर दिए गए हैं. इस दरमियान अंदर पूजा-पाठ और आरती के कार्यक्रम में अनवरत होते रहेंगे लेकिन उसमें आम जनमानस को शामिल होने की अनुमति नहीं है.

126 लोगों ने किया रामलला का दर्शन
वहीं रामलला के दर्शन को रोकने पर बोले कि ऐसी कोई व्यवस्था नहीं की गई है. रामलला के दर्शन को आने वाले समस्त श्रद्धालुओं जागरूक हैं. कल मात्र 3 अंकों में श्रद्धालुओं ने दर्शन किया था और आज सुबह से वह भी कम है लेकिन एक और दो करके जो श्रद्धालु आ रहे हैं उनको नॉर्मल दर्शन मिल रहा है. किसी तरीके की रोक दर्शन पर रामलला के नहीं है.

ये भी पढ़ें:

COVID-19 Lock Down: दिल्ली से कंटेनर में छिपकर आ रहे 60 लोग पकड़े गए

अखिलेश का ट्वीट- सिर्फ डॉक्टर ही नहीं इन्हें भी प्रोटेक्शन किट दे सरकार

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अयोध्या से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 24, 2020, 3:10 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर