Ayodhya Ram Mandir Bhumi Pujan: हरे रंग के रत्न जड़ित वस्त्र पहनकर तैयार हुए रामलला, देखिए पहली तस्वीर
Ayodhya News in Hindi

Ayodhya Ram Mandir Bhumi Pujan: हरे रंग के रत्न जड़ित वस्त्र पहनकर तैयार हुए रामलला, देखिए पहली तस्वीर
हरे रंग का वस्त्र पहनकर तैयार हुए रामलला

Ayodhya Ram Mandir Bhumi Pujan: आज बुधवार है, लिहाजा रामलला को हरे रंग का वस्त्र पहनाया गया है. भगवान रामलला के अलावा उनके सबसे बड़े भक्त हनुमानजी को भी नया वस्त्र पहनाया जाएगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 5, 2020, 9:05 AM IST
  • Share this:
अयोध्या. 5 अगस्त को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) राम मंदिर निर्माण (Ram Mandir) के लिए भूमि पूजन करेंगे. इसके लिए अयोध्या (Ayodhya) सज-धजकर तैयार है. कुछ ही घंटों में पीएम नरेंद्र मोदी अयोध्या पहुंचेंगे. इससे पहले भगवान रामलला (Ramlala) को रत्न जड़ित हरे रंग के वस्त्र पहनाकर तैयार किया गया है. बता दें कि सप्‍ताह के सातों दिन के लिए अलग-अलग रंगों के वस्त्र रामलला को पहनाए जाते हैं. आज बुधवार है, लिहाजा रामलला को आज हरे रंग का वस्त्र पहनाया गया है. भगवान रामलला के अलावा उनके सबसे बड़े भक्त हनुमानजी को भी नया वस्त्र पहनाया जाएगा.

इसके अलावा राम जन्मभूमि परिसर के जिस जगह पर भूमि पूजन होना है उस जगह को भी सजाया संवारा गया है. खूबसूरत रंगोली के साथ वहां पंडाल और मंच बनाए गए हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इसी जगह वैदिक रीति-रिवाज के अनुसार शुभ मुहूर्त में चांदी की ईंट रखकर शिला पूजन करेंगे.

21 ब्राह्मणों की टीम करवाएगी भूमि पूजन
आज होने वाले भूमि पूजन के कार्यक्रम को पूरा कराने के लिए काशी, अयोध्या, दिल्ली व प्रयागराज के विद्वानों को बुलाया गया है. अलग-अलग पूजा के अलग-अलग एक्सपर्ट हैं. पूरी टीम 21 ब्राह्मणों की है जो अलग अलग तरीकों से पूजा कराएगी. यह एक वक्त में नहीं होगी बल्कि अलग-अलग कालखंड में अलग-अलग ब्राह्मण पूजा कराएंगे.
भूमि पूजन के लिए रामलला को किया गया तैयार




भूमि पूजन को देखने के लिए लगाई गई है बड़ी-बड़ी स्क्रीन
अयोध्या में राम मंदिर के लिए भूमि पूजन और वहां मौजूद करीब 200 मेहमानों को देखने के लिए बड़ी-बड़ी स्क्रीन लगाई गई हैं. इसके अलावा, राम मंदिर के अगुवा रहे लालकृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर जैसे कद्दावर नेता आज इस कार्यक्रम में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए शामिल होंगे. साथ ही पूरे कार्यक्रम का लाइव प्रसारण किया जाएगा, ताकि देश दुनिया  लाखों भक्त इस इतिहास के साक्षी न सकें.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज