अयोध्या भूमि पूजन: नरेंद्र मोदी ने बनाया इतिहास, बने राम जन्मस्थान पहुंचने वाले पहले PM

हनुमानगढ़ी में दर्शन पूजन करते हुए पीएम नरेंद्र मोदी

Ayodhya Ram Mandir Bhumi Pujan: आजादी के बाद यह पहला मौका था जब देश का कोई प्रधानमंत्री राम जन्मभूमि पहुंचा हो. वैसे मोदी से पहले इंदिरा गांधी, राजीव गांधी और अटल बिहारी वाजपेयी प्रधानमंत्री रहते अयोध्या पहुंचे थे, लेकिन कोई भी भूमि विवाद की वजह से इस जगह पर नहीं गया.

  • Share this:
    अयोध्या. वैसे तो अयोध्या (Ayodhya) का इतिहास काफी पुराना है. लेकिन पांच अगस्त 2020 को इसके इतिहास में एक और अध्याय जुड़ गया. करीब 500 लंबे इंतजार के बाद करोड़ों राम भक्तों के लिए वह शुभ घड़ी आ गई है जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narednra Modi) राम मंदिर (Ram Mandir) निर्माण के लिए राम जन्मभूमि (Ram Janambhumi) परिसर में शिला पूजन करेंगे. इसी के साथ पीएम मोदी एक नया इतिहास भी रच दिया. आजादी के बाद यह पहला मौका था जब देश का कोई प्रधानमंत्री राम जन्मभूमि पहुंचा हो. वैसे मोदी से पहले इंदिरा गांधी, राजीव गांधी और अटल बिहारी वाजपेयी प्रधानमंत्री रहते अयोध्या पहुंचे थे, लेकिन कोई भी भूमि विवाद की वजह से इस जगह पर नहीं गया.

    28 साल बाद दुबारा अयोध्या पहुंचे मोदी

    दरअसल, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पूरे 28 साल बाद अयोध्या पहुंचे हैं और इससे पहले वो 1992 में अयोध्या आए थे. उस समय वो राम मंदिर आंदोलन का हिस्सा थे और इस समय वो बतौर प्रधानमंत्री अयोध्या में रामलला के दर्शन करने पहुंचे हैं. पहली बार जब वे यहां आए थे तो उन्होंने कहा था कि जब मंदिर निर्माण होगा तो वे दोबारा यहां आएंगे. अब अपने उसी संकल्प को पूरा करते हुए वे आज अयोध्या पहुंचने के बाद हनुमानगढ़ी में पूजा अर्चना की और बजरंग बलि का आशीर्वाद लिया. इसके बाद उन्होंने रामलला के दर्शन किए. दर्शन के पश्चात वे मुख्य भूमि पूजन कार्यक्रम में शामिल होने के लिए राम जन्मभूमि पहुंचे.



    इससे पहले प्रधानमंत्री के तौर पर ये नेता पहुंचे

    ऐसा नहीं है कि आजादी के बाद देश के प्रधानमंत्री अयोध्या गए नहीं. लेकिन अलग-अलग वजहों से इस स्थान से दूरी बनाते हुए गए.  पिछले पांच दशकों में इंदिरा गांधी, राजीव गांधी और अटल बिहारी वाजपेयी बतौर प्रधानमंत्री यहां आए तो लेकिन, जन्मस्थान से दूरी रखी. इंदिरा गांधी दो बार अयोध्या पहुंची. पहली बार 1996 में पहुंची. उसके बाद बाद 1979 में हनुमान गढ़ी दर्शन करने आईं. लेकिन दोनों मौकों पर वे जन्मभूमि नहीं गई. इसके बाद राजीव गांधी भी प्रधानमंत्री रहते दो बार और पूर्व प्रधानमंत्री के रूप में एक बार आए. उन्होंने 1984 में चुनावी सभा को यहां संबोधित किया और फिर 1989 के लोकसभा चुनाव के अभियान की फैजाबाद (अयोध्या) से शुरुआत की. इसके बाद 1990 में सद्भावना यात्रा के सिलसिले में यहां आए.

    मोदी से पहले अटल बिहारी वाजपेयी 2003 में अयोध्या आए थे. वे राम मंदिर आंदोलन के प्रमुख व शीर्ष चेहरे महंत रामचंद्र परमहंस के अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए आए थे. वे भी राम जन्मभूमि नहीं गए थे.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.