अयोध्या में राम मंदिर भूमि पूजन: यूपी के दोनों डिप्टी CM का COVID-19 टेस्‍ट, ये रही रिपोर्ट
Ayodhya News in Hindi

अयोध्या में राम मंदिर भूमि पूजन: यूपी के दोनों डिप्टी CM का COVID-19 टेस्‍ट, ये रही रिपोर्ट
यूपी के दोनों डिप्टी सीएम ने अयोध्या पहुंचने से पहले हुआ कोरोना टेस्ट

Ayodhya Ram Mandir Bhumi Pujan: 5 अगस्त को अयोध्या में होने वाले राम मंदिर निर्माण के भूमि पूजन में शामिल होने वाले सभी अतिथियों का कोरोना टेस्ट करवाया जाएगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 4, 2020, 2:57 PM IST
  • Share this:
अयोध्या. रामनगरी अयोध्या में भूमि पूजन से पहले योगी सरकार (Yogi Government) के दोनों डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य (Keshav Prashad Maurya) और डॉ दिनेश शर्मा (Dr Dinesh Sharma) का कोरोना टेस्ट (COVID-19 Test) करवाया गया. दोनों की ही कोरोना टेस्ट रिपोर्ट निगेटिव आई है. दरअसल, जितने भी लोग 5 अगस्त को अयोध्या में होने वाले राम मंदिर निर्माण के भूमि पूजन में शामिल होने वाले हैं, उन सभी का कोरोना टेस्ट करवाया जाएगा. कोरोना टेस्ट रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद ही आमंत्रित अतिथियों को प्रवेश मिलेगा. इतना ही नहीं, मंगलवार को अयोध्या पहुंच रहे आरएसएस के सरसंघचालक मोहन भागवत का भी कोरोना टेस्ट किया गया.

दोनों डिप्टी सीएम को मिली ये जिम्मेदारी
दरअसल, उत्तर प्रदेश सरकार के दोनों ऊपमुख्यमंत्री मंगलवार को अयोध्या पहुंच रहे हैं. डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा और डिप्टी सीएम केशव मौर्य सड़क के रास्ते अयोध्या पहुंचेंगे. दोनों डिप्टी सीएम पीएम मोदी के आगमन की तैयारियों को भी देखेंगे. साथ ही इन्‍हें देश भर से आने वाले संत समाज के लोग और मेहमानों को रिसीव करने की ज़िम्मेदारी दी गयी है. लिहाजा दोनों का कोविड-19 टेस्ट करवाया गया है.


बता दें कि हाईप्रोफाइल नेताओं के कोविड 19 की रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद यह फैसला लिया गया है. गौरतलब है कि गृहमंत्री अमित शाह भी कोरोना संक्रमित पाए जाने के बाद मेदांता अस्पताल में एडमिट हुए हैं. उधर, यूपी बीजेपी अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह भी संक्रमित मिले हैं. यूपी के जलशक्ति मंत्री महेंद्र सिंह भी कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं. इतना ही नहीं रविवार को कैबिनेट मंत्री कमला रानी वरुण की कोरोना संक्रमण की वजह से मृत्यु हो गई.



अभेद्य किले में तब्दील हुई अयोध्या
5 अगस्त को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) के अयोध्या आगमन और राम मंदिर भूमि पूजन कार्यक्रम को देखते हुए पूरे जिले को अभेद्य किले में तब्दील कर दिया गया है. चप्पे-चप्पे पर निगरानी की जा रही है. इतना ही नहीं भूमि पूजन वाले दिन एक साथ पांच लोग इकट्ठे नहीं होंगे. एक दिन पहले ही अयोध्या की सीमाएं सील कर दी जाएगी. यानी जितने भी आमंत्रित मेहमान होंगे वे चार अगस्त को ही अयोध्या पहुंच जाएंगे.

शनिवार को मुख्य सचिव, अपर मुख्य सचिव गृह, डीजीपी सहित अन्य अधिकारियों ने अयोध्या का दौरा कर रामजन्मभूमि सहित पूरी अयोध्या की सुरक्षा का ब्लूप्रिंट तैयार कर अधिकारियों को उस पर अमल का निर्देश जारी कर दिया है. जिसके तहत प्रधानमंत्री के दौरे के दौरान कई प्रोटोकॉल का पालन किया जाना है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज