PM मोदी से मिले अयोध्या श्रीराम जन्मभूमि ट्रस्ट के सदस्य, भूमि पूजन में शामिल होने का दिया न्योता
Ayodhya News in Hindi

PM मोदी से मिले अयोध्या श्रीराम जन्मभूमि ट्रस्ट के सदस्य, भूमि पूजन में शामिल होने का दिया न्योता
PM मोदी से मिले श्रीराम जन्मभूमि ट्रस्ट के सदस्य

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, श्री राम मंदिर जन्म भूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की अगली बैठक अयोध्या में 15 दिन के भीतर होगी. राम मंदिर निर्माण की तिथि उसी बैठक में तय होगी. बता दें, इस ट्रस्ट का गठन केन्द्र की मोदी सरकार ने 5 फरवरी को किया था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 21, 2020, 7:22 AM IST
  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
अयोध्या. अयोध्या के राम जन्म भूमि तीर्थक्षेत्र ट्रस्ट (Ram Mandir Trust) के सदस्यों ने गुरुवार शाम दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) से मुलाकात की. ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपाल दास (Nitya Gopal Das) की अगुवाई में चंपत राय, के परासरण और गोविंद देव गिरी महाराज ने पीएम मोदी से मिलने 7 लोक कल्याण मार्ग पहुंचे थे. सूत्रों के मुताबिक, ट्रस्ट के पदाधिकारियों ने प्रधानमंत्री मोदी को मंदिर निर्माण के लिए कुछ संभावित मुहूर्त दिए हैं और अयोध्या आने का निमंत्रण भी दिया है. प्रधानमंत्री ने इस पर विचार करने की बात कही. इससे पहले बुधवार को राम मंदिर निर्माण के लिए गठित श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की पहली बैठक हुई थी. इस बैठक में नृत्य गोपाल दास को राम मंदिर ट्रस्ट का अध्यक्ष चुना गया था.

गौरतलब है कि शीर्ष अदालत द्वारा राम मंदिर के पक्ष में फैसला देने व मंदिर निर्माण के लिए न्यास के गठन के आदेश पर पांच फरवरी को केंद्र सरकार ने ट्रस्ट का ऐलान किया था. ट्रस्ट का प्रमुख वरिष्ठ अधिवक्ता के. परासरण को बनाया गया था. इसके अन्य सदस्य हैं जगदगुरु शंकराचार्य, ज्योतिषपीठाधीश्वर स्वामी वासुदेवानंद सरस्वती जी महाराज (इलाहाबाद), जगदगुरु माधवाचार्य स्वामी विश्व प्रसन्नतीर्थ जी महाराज (उडुपी के पेजावर मठ से), युगपुरुष परमानंद जी महाराज (हरिद्वार), स्वामी गोविंददेव गिरि जी महाराज (पुणे) और विमलेंद्र मोहन प्रताप मिश्र (अयोध्या) शामिल हैं.





अगली बैठक 15 दिन के अंदर अयोध्या में होगी
सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, श्री राम मंदिर जन्म भूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की अगली बैठक अयोध्या में 15 दिन के भीतर होगी. राम मंदिर निर्माण की तिथि उसी बैठक में तय होगी. बता दें, इस ट्रस्ट का गठन केन्द्र की मोदी सरकार ने 5 फरवरी को किया था.

अयोध्या के संतों को मिली प्राथमिकता
हालांकि शुरुआत में श्री राम जन्मभूमि न्यास के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपाल दास का नाम ट्रस्‍ट में ना होने से संतों में निराशा भी थी, लेकिन अयोध्या के संतों को प्राथमिकता मिलने से लोग बहुत खुश हैं. ट्रस्ट में प्रमुख रूप से निर्मोही अखाड़ा के महंत दिनेन्द्र दास, महंत नृत्य गोपाल दास और दो प्रमुख संतों के साथ राजा बिमलेंद्र मोहन प्रताप मिश्र अयोध्या से हैं, जो कि सभी के लिए गौरव का विषय है. आचार्य सत्येंद्र दास ने कहा कि इन लोगों के माध्यम से अब वह दिन दूर नहीं जब रामलला के भव्य मंदिर का निर्माण शुरू होगा.

ये भी पढ़ें:

इलाहाबाद जंक्शन का नाम बदला, अब मिली है ये नई पहचान

 
First published: February 21, 2020, 6:41 AM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading