अपना शहर चुनें

States

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए दान देने वालों को ट्र्स्ट से मिलेगी ऑनलाइन रसीद

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण की नींव का कार्य जनवरी से शुरू होगा (न्यूज़ 18 ग्राफिक्स)
अयोध्या में राम मंदिर निर्माण की नींव का कार्य जनवरी से शुरू होगा (न्यूज़ 18 ग्राफिक्स)

राम मंदिर निर्माण (Ram Temple Construction) में दानदाताओं के पैसे की पारदर्शिता और उनके साथ किसी तरीके का फ्रॉड (Fraud) ना हो सके इसलिए सोमवार से श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट राम मंदिर मॉडल की छाया चित्र वाली रसीद श्रद्धालुओं को उपलब्ध करा रहा है

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 28, 2020, 7:36 PM IST
  • Share this:
अयोध्या. श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट अयोध्या (Ayodhya) में मंदिर निर्माण में सहयोग देने वाले राम भक्तों को ऑनलाइन रसीद (Online Receipt) की सुविधा उपलब्ध कराएगा. राम भक्त (Ram Bhakt) विभिन्न तरीकों से राम मंदिर निर्माण (Ram Temple Construction) में अपना सहयोग दे सकते हैं, वो फिलहाल ऑनलाइन ट्रांजैक्शन (आरटीजीएस) और नकद भुगतान की प्रक्रिया से राम मंदिर निर्माण के लिए दान दे रहे हैं. अब घर बैठे ऑनलाइन ट्रांजैक्शन (Online Transaction) करने वालों को ट्रस्ट के खाते में पैसा आते ही इसकी रसीद भेजी जाएगी, यह उनके द्वारा दिए गए पोस्टल एड्रेस और ईमेल एड्रेस पर भेजी जाएगी.

इसके अलावा ट्रस्ट के कैंप कार्यालय पर जो लोग नकद धनराशि का भुगतान कर रहे हैं उनको भी अब बारकोड से सुसज्जित कंप्यूटराइज डिजिटल सिग्नेचर युक्त रसीद उपलब्ध कराया जाएगा. मंदिर निर्माण में दानदाताओं के पैसे की पारदर्शिता और उनके साथ किसी तरीके का फ्रॉड ना हो सके इसलिए सोमवार से श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट राम मंदिर मॉडल की छाया चित्र वाली रसीद श्रद्धालुओं को उपलब्ध करा रहा है.

इस रसीद में और भी कई खासियत है. यह रसीद केवल श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के द्वारा ही जारी की जा सकती है, इसमें डिजिटल सिग्नेचर और बार कोड दिया गया है जिससे कि इसकी डुप्लीकेट कॉपी ना तैयार की जा सके. यह सब इसलिए किया गया है कि श्रद्धालुओं के साथ किसी भी तरीके की ठगी ना हो सके.



श्रीराम जन्मभूमि कैंप कार्यालय पर नकद दान देने वाले दानदाताओं को कंप्यूटराइज्ड रसीद, जिसमें सुरक्षा के मानक रहते हैं, उपलब्ध कराई जा रही है. इसमें बारकोड के साथ-साथ डिजिटल सिग्नेचर भी होती है

राम भक्त तीन तरह से मंदिर निर्माण में कर रहे हैं सहयोग

ट्रस्ट के सदस्य अनिल मिश्रा ने बताया कि राम मंदिर निर्माण में राम भक्त तीन तरीकों से सहयोग कर रहे हैं. वो ऑनलाइन ट्रांजैक्शन, आरटीजीएस के माध्यम से बैंक ऑफ बड़ौदा, भारतीय स्टेट बैंक और पंजाब नेशनल बैंक के खाते में रकम भेज सकते हैं. उन सभी लोगों को रसीद तत्काल ईमेल पर पैसा प्राप्त होते ही उपलब्ध कराई जा रही है. ट्रस्ट के द्वारा जारी की गई वेबसाइट पर जाकर भुगतान करने वाले लोगों को अपनी सारी डिटेल देनी होगी, खाते में भुगतान होते ही तत्काल रसीद दानदाताओं को प्रेषित कर दी जाएगी. ऐसे लोग जो चेक के माध्यम से रामलला के मंदिर निर्माण में सहयोग कर रहे हैं, उनका चेक प्राप्त होने पर एक्नॉलेजमेंट मैसेज उनको भेज दिया जाता है. चेक कैश होने के पश्चात उनके द्वारा दिए गए विवरण पर इसकी रसीद प्रेषित कर दी जाएगी.

इसके अलावा श्रीराम जन्मभूमि कैंप कार्यालय पर नकद भुगतान करने वाले दानदाताओं को कंप्यूटराइज्ड रसीद, जिसमें सुरक्षा के मानक रहते हैं, उपलब्ध कराई जा रही है. इसमें बारकोड के साथ-साथ डिजिटल सिग्नेचर भी होती है ताकि श्रद्धालुओं के साथ कोई ठगी ना की जा सके.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज