लाइव टीवी
Elec-widget

रामलला के मुख्य पुजारी सत्येंद्र दास बोले- सोने का बने राम मंदिर का गर्भगृह, पैसे की कोई कमी नहीं

News18Hindi
Updated: November 12, 2019, 1:50 PM IST
रामलला के मुख्य पुजारी सत्येंद्र दास बोले- सोने का बने राम मंदिर का गर्भगृह, पैसे की कोई कमी नहीं
राम जन्मभूमि के मुख्य पुजारी सत्येंद्र दास का कहना है कि जो मंदिर बने उसका गर्भगृह सोने का बने. (प्रतीकात्मक चित्र)

रामलला (Ramlala) के मुख्य पुजारी सत्येंद्र दास (Satyendra Das) कहते हैं, 'नई व्यवस्था में भी मैं पूजा करता रहूं ऐसी कोई चाह नहीं है. मेरी जो चाहत थी भव्य मंदिर बनने की वह अब पूरी हो गई. उसका आदेश हो गया. मैं पूजा करूं या ना करूं लेकिन अपने भगवान राम (Lord Rama) का दर्शन करता रहूंगा.'

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 12, 2019, 1:50 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. रामलला (Ramlala) विराजमान की लगभग 3 दशक से सेवा करने वाले राम जन्मभूमि (Ram Janam Bhumi) के मुख्य पुजारी सत्येंद्र दास (Satyendra Das) का कहना है कि जो मंदिर (Temple) बने, उसका गर्भगृह सोने (Gold) का बने. सत्येंद्र दास न्यूज 18 हिंदी के साथ बातचीत में कहते हैं, 'पैसे की कोई कमी नहीं है. बड़े-बड़े पूंजीपति और भक्त हैं, जो पैसा देने के लिए तैयार हैं. मैं यह घोषणा करता हूं कि भगवान का जो गर्भगृह बने वह सोने का बने. भगवान को जो मिलता है, ग्रहण कर लेते हैं. पत्र, पुष्प, फल सभी खा लेते हैं. भक्त जो प्रेम से देते हैं, वही खा लेते हैं.'

'भगवान राम का गर्भगृह सोने का बने'
मुख्य पुजारी सत्येंद्र दास आगे कहते हैं, 'मेरी पहली इच्छा थी कि मेरे प्रभु राम का भव्य मंदिर बने. यह अब इच्छा पूरी होने जा रही है. जल्दी से जल्दी मंदिर बन जाए यही इच्छा है. न्यूज 18 हिंदी ने सवाल किया कि क्या नई व्यवस्था में भी आप ही रहेंगे पुजारी? इस पर दास का जवाब था, 'नई व्यवस्था में भी मैं पूजा करता रहूं, ऐसी मेरी कोई चाह नहीं है. मेरी जो चाहत थी, भव्य मंदिर बनने की वह अब पूरी हो गई. उसका आदेश हो गया. मैं पूजा करूं या ना करूं लेकिन अपने भगवान का दर्शन करता रहूंगा.'

ayodhya ram janambhoomi property dispute
मुख्य पुजारी सत्येंद्र दास आगे कहते हैं, 'मेरी पहली इच्छा थी कि मेरे प्रभु राम का भव्य मंदिर बने.


बता दें, बीते शनिवार को ही सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने अयोध्या (Ayodhya) पर ऐतिहासिक फैसला सुनाते हुए मंदिर बनाने का रास्ता साफ कर दिया था. सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार और राज्य सरकार को तीन महीने के अंदर एक ट्र्स्ट बनाने का भी आदेश दिया है. कोर्ट ने सुन्नी वक्फ बोर्ड को मस्जिद के लिए अयोध्या में कहीं भी पांच एकड़ जमीन देने को कहा है. इससे पहले 30 सितंबर 2010 को इलाहाबाद हाईकोर्ट (Allahabad High Court) की लखनऊ (Lucknow) पीठ ने राम मंदिर बाबरी मस्जिद विवादित परिसर को तीन हिस्सों में बांटने का आदेश दिया था.

ये भी पढ़ें: 

Ayodhya Verdict: जानिए कौन हैं वो 5 जज, जिन्होंने देश के सबसे बड़े मुकदमे का ऐतिहासिक फैसला सुनाया

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अयोध्या से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 11, 2019, 3:35 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com