राम मंदिर का भूमि पूजन 3 दिन चलेगा, 3 अगस्त को गणेश पूजा से शुरुआत, ये है पूरा कार्यक्रम
Ayodhya News in Hindi

राम मंदिर का भूमि पूजन 3 दिन चलेगा, 3 अगस्त को गणेश पूजा से शुरुआत, ये है पूरा कार्यक्रम
राम मंदिर का मॉडल (File Photo)

श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपाल दास के उत्तराधिकारी महंत कमल नयन दास ने बताया कि भगवान राम के मंदिर का भूमि पूजन का कार्यक्रम 3 दिन तक चलेगा. श्रीराम मंदिर (Ram Temple) के भूमि पूजन का कार्यक्रम 3 अगस्त को शुरू हो जाएगा.

  • Share this:
अयोध्या. उत्तर प्रदेश के अयोध्या (Ayodhya) से राम भक्तों के लिए खुशी भरी खबर है. कई दशकों से राम भक्त राम मंदिर (Ram Mandir) के लिए आस लगाकर बैठे थे और अब उनका यह सपना पूरा होने जा रहा है. 5 अगस्त को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) अयोध्या में राम मंदिर का भूमि पूजन करेंगे. अयोध्या में प्रधानमंत्री के आगमन को लेकर तैयारियां भी जोरों-शोरों से हैं.

बीते दिनों 9 नवंबर को अयोध्या विवाद पर सुप्रीम कोर्ट का निर्णय आने के पश्चात ट्रस्ट का गठन हुआ था और ट्रस्ट ने राम मंदिर निर्माण के लिए राम जन्म भूमि के परिसर में तैयारियां तेज कर दी थी. उसी कड़ी में 25 मार्च को रामलला को अस्थाई मंदिर में शिफ्ट किया गया था. विराजमान रामलला को शिफ्ट करने के बाद जमीन के समतलीकरण का कार्य पूरा हो गया है. भगवान के गर्भ ग्रह 2.77 एकड़ के अंदर ही रहेगा, जिसमें पूरे वैदिक रीति-रिवाजों के साथ काशी के विद्वान और अयोध्या के पुरोहित भूमि पूजन प्रधानमंत्री से कराएंगे.





पीएम के भूमिपूजन को लेकर सरगर्मियां तेज
प्रधानमंत्री के भूमि पूजन की तैयारियां अयोध्या में तेज कर दी गई हैं. लगातार राजनीतिक सरगर्मियां भी बढ़ी हैं. कल भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह अयोध्या आए थे और उन्होंने भी राम मंदिर निर्माण की तैयारियां और प्रधानमंत्री के अयोध्या आगमन को लेकर कारसेवक पुरम में ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय और पदाधिकारियों के साथ बंद कमरे में घंटों वार्ता की. हालांकि इस दौरान मीडिया से दूरी बनाए रहे लेकिन माना जा रहा था कि प्रधानमंत्री के अयोध्या आगमन को लेकर के सरगर्मियां तेज हैं.

उधर ट्रस्ट की बैठक खत्म होने के बाद रविवार को ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने भी सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से लखनऊ में मुलाकात कर उनको भी राम मंदिर निर्माण की तैयारियां और प्रधानमंत्री के आगमन को लेकर चर्चा की.

श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपाल दास के उत्तराधिकारी महंत कमल नयन दास ने बताया कि भगवान राम के मंदिर का भूमि पूजन का कार्यक्रम 3 दिन तक चलेगा. श्रीराम मंदिर के भूमि पूजन का कार्यक्रम 3 अगस्त को शुरू हो जाएगा.

भूमि पूजन का कार्यक्रम

3 अगस्त को प्रथम दिन गणेश पूजन

4 अगस्त को रामर्चन

5 अगस्त को 12:15 बजे प्रधानमंत्री राम मंदिर की आधारशिला रखेंगे. इस दौरान काशी, प्रयागराज और अयोध्या के वैदिक विद्वान और आचार्य पंडितों के द्वारा रामलला के मंदिर का भूमि पूजन कराया जाएगा.

35 किलो चांदी की शिला भेंट करेंगे नृत्य गोपाल दास

राम मंदिर के भूमि पूजन में श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपाल दास की तरफ से 35 किलो की चांदी की शिला रामलला को भेंट की जाएगी जो राम मंदिर में आवश्यकतानुसार लगाई जाएगी. संतो की मांग थी कि राम मंदिर को और भव्य और दिव्य बनाया जाए. इस पर कमल नयन दास ने बताया कि संतों की मांग के अनुरूप अब राम मंदिर के मॉडल में ऊंचाई में परिवर्तन किया गया है. पहले यह तीन शिखर का बनना था अब 5 शिखर होंगे और राम मंदिर में साथ ही ऊंचाई भी 128 फुट से बढ़ाकर के 161 फीट ऊंची की जा रही है.

अभी और जमीन की जाएगी अधिगृहीत

काफी लंबे समय से अयोध्या के संतों की मांग थी कि राम मंदिर को उसकी भव्यता के अनुरूप ऊंचाई दी जाए, साथ ही दाएं और बाएं तरफ शिखर की को बढ़ाया गया है. लेकिन मंदिर का जो मॉडल है वह उसी तर्ज पर रहेगा, जैसा श्रीराम जन्म भूमि न्यास के पूर्व नियोजित मॉडल है. साथ ही 18 जुलाई को अयोध्या में हुई श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के ट्रस्टियों की बैठक में उपस्थित रहने वाले कमल नयन दास ने भी यह भी साफ किया है कि मंदिर के विस्तारीकरण के साथ जो जमीन है, 70 एकड़ के अलावा और भी जमीनों की जरूरत है, इस लिहाज से जल्द ही लोगों से सहमति लेकर के आसपास की जमीन को सहमति के आधार पर श्री राम जन्म भूमि ट्रस्ट लेने की तैयारी कर रहा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज