अयोध्या में Corona गाइडलाइन्स की हो रही है अनदेखी, बड़ी संख्या में हनुमानगढ़ी आ रहे श्रद्धालु

प्रदेश में बढ़ते कोरोना संक्रमण के कारण मुख्यमंत्री ने संपूर्ण प्रदेश के धार्मिक स्थलों पर एक बार में केवल 5 व्यक्तियों के प्रवेश की इजाजत दी है.

प्रदेश में बढ़ते कोरोना संक्रमण के कारण मुख्यमंत्री ने संपूर्ण प्रदेश के धार्मिक स्थलों पर एक बार में केवल 5 व्यक्तियों के प्रवेश की इजाजत दी है.

हनुमानगढ़ी (Hanumangarhi) पर बड़ी संख्या में श्रद्धालु कोविड-19 के दिशानिर्देशों का उल्लंघन करते नजर आए. श्रद्धालुओं को जागरूक करने वाला न ही कोई प्रशासन का व्यक्ति वहां पर मौजूद है और न ही जिम्मेदार लोग.

  • Share this:
अयोध्या. कोरोना वायरस (Corona virus) के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए उत्तर प्रदेश सरकार ने सभी धार्मिक स्थलों पर एक बार में 5 व्यक्तियों के प्रवेश की अनुमति दी है. बावजूद इसके धर्म नगरी अयोध्या (Ayodhya) में मुख्यमंत्री के आदेशों की खुलेआम धज्जियां उड़ रही हैं. हनुमानगढ़ी पर बड़ी संख्या में श्रद्धालु कोविड-19 के दिशानिर्देशों का उल्लंघन करते नजर आए. श्रद्धालुओं को जागरूक करने वाला न ही कोई प्रशासन का व्यक्ति वहां पर मौजूद है और न ही जिम्मेदार लोग. बिना मास्क के और बिना शारीरिक दूरी के ही हनुमानगढ़ी (Hanumangarhi) पर श्रद्धालु पहुंच रहे हैं और दर्शन पूजन कर रहे हैं. इसको देखते हुए अयोध्या के संतों ने प्रशासन पर लापरवाही का आरोप लगाया है.  उनका साफ कहना है कि इससे संक्रमण फैलने का खतरा है. प्रशासन अनदेखा कर लोगों की जान जोखिम में डाल रहा है. स्थानीय प्रशासन की वजह से मंदिर प्रशासन श्रद्धालु और आम जनमानस सबकी जान जोखिम में है. संतो ने प्राचीन मेले को लेकर भी चिंता व्यक्त की है.

बताते चलें कि प्रदेश में बढ़ते कोरोना संक्रमण के कारण मुख्यमंत्री ने संपूर्ण प्रदेश के धार्मिक स्थलों पर एक बार में केवल 5 व्यक्तियों के प्रवेश की इजाजत दी है. जबकि राम की नगरी के हनुमानगढ़ी मंदिर में बड़ी संख्या में श्रद्धालु कोविड के दिशा निर्देशों की धज्जियां उड़ा रहे हैं. हनुमानगढ़ी के महंत राजू दास ने कहा पूरे देश के लोगों से मेरा विनम्र निवेदन है कि इस बार का संक्रमण बहुत तेजी के साथ फैल रहा है. सभी से मेरी अपील है कि कोविड-19 के नियमों का पालन करें. महंत राजू दास ने कहा कि हनुमानगढ़ी पर प्रतिदिन 20 हजार से ज्यादा श्रद्धालु दर्शन करने आते हैं. यह संख्या शनिवार और मंगलवार को और भी बढ़ जाती है. स्थानीय स्तर पर प्रशासन की लापरवाही है. महंत राजू दास ने जिला अधिकारी और एसएसपी को उदासीन बताते हुए कहा कि कोविड-19 का संक्रमण तेजी के साथ बढ़ रहा है और प्रशासन के लोगों को इस पर ध्यान देना चाहिए. आम जनमानस लापरवाह हैं और उनको जागरूक जिला प्रशासन को ही करना पड़ेगा.

20 लाख से ज्यादा श्रद्धालु रहते हैं

मुख्यमंत्री के द्वारा दिए गए गाइडलाइन का पालन प्रशासन को कराना चाहिए, जिससे कि संक्रमण के फैलने का खतरा कम हो सके. राम नगरी में प्रदेश के विभिन्न कोनो से लोग आते हैं. यहां पर यदि कंट्रोल नहीं हुआ और संक्रमण फैलने लगा तो फिर भयावह स्थिति होगी. मंदिर प्रशासन जनमानस और श्रद्धालु सभी के लिए खतरा बना रहेगा. हनुमानगढ़ी के महंत राजू दास में राम भक्तों से अपील की है कि इस बार भी राम भक्त अपने घरों के आसपास के मठ, मंदिरों में श्री राम नवमी का पर्व मनाए. सोशल डिस्टेंसिंग और कोविड-19 के नियमों का पालन करते हुए भगवान श्रीराम का जन्मोत्सव मनाएं. महंत राजू दास ने कहा कि प्रशासन के लिए भी बहुत बड़ी चुनौती है रामनवमी के मौके पर अयोध्या में 20 लाख से ज्यादा श्रद्धालु रहते हैं. प्रशासन से निवेदन है मुख्यमंत्री जी के द्वारा जारी शासनादेश का पालन करें.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज