अयोध्या में अचानक बढ़ा सरयु का जलस्तर तो बह गई पुरोहितों की चौकियां और श्मशान की लकड़ी

मॉनसून के पहले ही सरयू का जल स्तर खतरे के निशान के करीब, घाटों पर हुआ काफी नुकसान.

मॉनसून के पहले ही सरयू का जल स्तर खतरे के निशान के करीब, घाटों पर हुआ काफी नुकसान.

Saryu River: पिछले 24 घंटों में सरयु नदी खतरे के निशान के करीब पहुंच रही है. जलस्तर एकाएक बढ़ने से श्मशान घाट पर रखी सैकड़ों कुंतल लकड़ी और सरयु के तट पर पंडा पुरोहित समाज की चौकियां बह गईं. सरयू में 88 सेमी तक पानी बढ़ गया है.

  • Share this:

अयोध्या. रामनगरी में सरयु नदी का जलस्तर एकाएक तेजी के साथ बढ़ रहा है. पिछले 24 घंटों में सरयु खतरे के निशान के करीब पहुंच रही है. सरयु का जलस्तर एकाएक पढऩे से श्मशान घाट पर रखी हुई सैकड़ों कुंतल लकड़ी और सरयू के तट पर पंडा पुरोहित समाज की रखी हुई चौकियां सरयू के धारा में बह गईं. सरयू का जलस्तर खतरे के निशान से महज 2 सेंटीमीटर नीचे है. सरयु के बढ़ते जलस्तर को नजरअंदाज करते हुए अयोध्या में लॉकडाउन के दरमियान अयोध्या पहुंच रहे श्रद्धालु नौका विहार करते नजर आ रहे हैं, जिसको लेकर भी प्रशासन की उदासीनता साफ देखी जा सकती है.

केंद्रीय जल आयोग के लोगों ने कहा है कि सरयू के बढ़ते जलस्तर में नौका विहार बड़ा खतरा हो सकता है. साथ ही सरयू के तट पर श्रद्धालुओं की भीड़ है और वहां पर उसको रोकने वाला कोई भी प्रशासनिक अधिकारी नजर नहीं आ रहा है. बताया गया है कि पहाड़ी क्षेत्रों में लगातार हो रही बारिश और ताऊते तूफान के बाद बारिश होने से एकत्रित जल डैम से खोल दिया गया है. जिसकी वजह से सरयू का जलस्तर तेजी के साथ बढ़ गया. केंद्रीय जल आयोग का अनुमान है कि अभी सरयु का जलस्तर खतरे के निशान को नहीं पार करेगा, लेकिन खतरे के निशान के समीप तक जा सकता है.

Youtube Video

एकाएक बढ़े हुए जलस्तर ने घाट के किनारे पूजा पाठ करने वाले लोगों का जीवन मुश्किल में डाल दिया है. घाट के किनारे तखत रखकर पुरोहित का काम करने वाले पंडा समाज के लोगों की लगभग 100 से ज्यादा चौकियां सरयू के जल में बह गईं. श्मशान घाट पर लकड़ी का टाल लगाने वाले लकड़ी व्यवसायियों की भी कई कुंतल लकड़ी पानी में बह गईं. साथ ही निचले इलाकों में सरयू के जल ने प्रवेश भी किया है. खेतों और घरों में पानी भर गया है.
केंद्रीय जल आयोग के अधिकारी संजय कुमार ने बताया कि पहाड़ों पर लगातार हो रही बारिश और अभी हाल में आए ताऊते तूफान के कारण और आने वाले यस तूफान प्रभावों की आशंका को लेकर डैम खाली किया जा रहा है. जिससे कि आने वाले तूफान में अगर ज्यादा बारिश हो तो फिर पानी पर कंट्रोल रखा जा सके. रविवार की सुबह 8.00 बजे से और सोमवार के सुबह 8 बजे तक 94 सेंटीमीटर जल स्तर में वृद्धि हुई है. अभी भी 1 मीटर सरयू के जलस्तर बढ़ने की संभावना है. सरयू के खतरे का निशान 92.730 है. सरयु का जल स्तर लगभग 91 सेंटीमीटर तक बढऩे की संभावना है. एल्गिन ब्रिज घाघरा नदी का जलस्तर पिछले 2 दिन में 2 मीटर के आसपास बढ़ा है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज