राम मंदिर भूमि पूजन: अतिथियों को भेंट किया जाएगा चांदी का सिक्का, ये है खासियत
Ayodhya News in Hindi

राम मंदिर भूमि पूजन: अतिथियों को भेंट किया जाएगा चांदी का सिक्का, ये है खासियत
अतिथियों को भेंट किया जाएगा ये खास चांदी का सिक्का

राम जन्‍म भूमि तीर्थ ट्रस्‍ट (Ram Janma Bhoomi Teerth Trust) के महासचिव चंपत राय (Champat Rai) बताया कि भूमि पूजन कार्यक्रम में कुल 175 आमंत्रित अतिथि ही शामिल होंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 4, 2020, 5:29 PM IST
  • Share this:
अयोध्या. अयोध्या (Ayodhya) राम मंदिर भूमि पूजन (Bhumi Pujan) के लिए तैयारियों जोरों पर है. 5 अगस्त को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) की मौजूदगी में राम मंदिर का शिलान्यास (Ram Mandir Nirmaan) होना है. उधर, अतिथियों के लिए आयोजन को यादगार बनाने के लिएराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट कार्यक्रम में शामिल सभी गणमान्य व्यक्तियों को एक खास चांदी का सिक्का भेंट करेगा, जिसमें राम दरबार व तीर्थ क्षेत्र का प्रतीक चिह्न प्रिंट होगा.

175 लोग आमंत्रित
राम जन्‍म भूमि तीर्थ ट्रस्‍ट (Ram Janma Bhoomi Teerth Trust) के महासचिव चंपत राय (Champat Rai) बताया कि भूमि पूजन कार्यक्रम में कुल 175 आमंत्रित अतिथि ही शामिल होंगे. 135 विशिष्ट साधु-संतों के अलावा अन्य अतिथियों को आमंत्रित किया गया है. उन्होंने बताया कि आमंत्रण पत्र ही प्रवेश पास है. इस पर सुरक्षा के लिए बार कोड लगाया गया है, जो एक बार ही उपयोग में आएगा. ऐसे में यदि कोई बाहर निकला तो दोबारा प्रवेश नहीं कर पाएगा. आमंत्रित अतिथि कार्यक्रम में मोबाइल-कैमरा आदि नहीं ले जा सकेंगे.

ये भी पढ़ें- UPSC सिविल सेवा परीक्षा 2019 रिजल्ट: सुल्तानपुर की प्रतिभा वर्मा ने किया लड़कियों में टॉप
चंपत राय ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ मंच पर संघ प्रमुख मोहन राव भागवत, ट्रस्ट अध्यक्ष महंत नृत्यगोपाल दास, राज्यपाल आनंदीबेन पटेल और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ मौजूद रहेंगे.



CM योगी ने लिया तैयारियों का जायजा
उधर मुख्य कार्यक्रम से दो दिन पहले सोमवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भूमि पूजन की तैयारियों का जायजा लेने अयोध्या पहुंचे. इस दौरान मुख्यमंत्री ने अधिकारियों संग बैठक की. ट्रस्ट के महासचिव चम्पत राय से मुलाक़ात भी की. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि चार और पांच अगस्त को हम लोग दीये जलाएं, मंदिरों को सजाएं, दीपोत्सव मनाएं और रामायण का पाठ करते हुए उन लोगों को याद करें जिन्होंने मंदिर के लिए अपने प्राणों की आहुति दी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज