Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    अयोध्या: सेना में नौकरी दिलाने के नाम पर युवाओं से पैसे ठगने वाला फर्जी कैप्टन गिरफ्तार

    गिरफ्तार फर्जी कैप्टन एनसीसी का कैडेट रह चुका था.
    गिरफ्तार फर्जी कैप्टन एनसीसी का कैडेट रह चुका था.

    आरोपी साल 2017 से सेना (Army) में भर्ती दिलाने के नाम पर युवाओं को ठगना (Cheating) शुरू किया. वह नासिक, देहरादून, बरेली, अमेठी, आगरा, लखनऊ और फैजाबाद में 10 से ज्यादा युवाओं को अपना शिकार बनाया.

    • Share this:
    अयोध्या. मिलिट्री इंटेलिजेंस (Military Intelligence) की सूचना पर अयोध्या की कैंट पुलिस व क्राइम ब्रांच ने फर्जी कैप्टन (Fake Captain) को गिरफ्तार किया. फर्जी कैप्टन के पास से आर्मी की दो वर्दी, बेल्ट, स्टार बैज, नेम प्लेट, नकली मेडल, नकली प्रशंसा चिन्ह, फर्जी सिटी डोरी, शर्ट, टोपी, 8 अदद आई कार्ड, दो फर्जी मुहर व एक मोबाइल बरामद किये गये. फर्जी कैप्टन सोनू लाल उन्नाव के भवरावा थानाक्षेत्र का रहने वाला है.

    एसपी निपुण अग्रवाल ने बताया कि मिलिट्री इंटेलिजेंस की सूचना पर कैंट थाने की पुलिस व क्राइम ब्रांच ने शहर के प्रधान डाकघर के पास से फर्जी कैप्टन सोनू लाल वर्मा को गिरफ्तार किया. वह उन्नाव का रहने वाला है. और लखनऊ विश्वविद्यालय में पूर्व एनसीसी कैडेट रह चुका है. वहीं से उसने स्नातक भी की. स्नातक के बाद आरोपी पुणे के एक कपड़े की दुकान में काम करता था.

    बतौर एसपी साल 2017 से आरोपी सेना में भर्ती दिलाने के नाम पर युवाओं को ठगना शुरू किया. वह नासिक, देहरादून, बरेली, अमेठी, आगरा, लखनऊ और फैजाबाद में 10 से ज्यादा युवाओं को अपना शिकार बनाया. नौकरी दिलाने के नाम पर प्रति युवक 7 लाख रुपये वसूलता था. लेकिन पैसे लेने के बाद अपना मोबाइल नंबर बदल लेता था. रुपये ज्यादातर नकद के रूप में लेता था.




    गिरफ्तार फर्जी कैप्टन की गतिविधि के बारे में काफी दिनों से मिलिट्री इंटेलिजेंस को गुप्त सूचना मिल रही थी. मिलिट्री इंटेलिजेंस काफी दिनों से इसे ट्रैक कर रहा था. पक्की सूचना मिलने पर अयोध्या पुलिस को सूचना दी गई, जिसके बाद कैंट थाने की पुलिस व क्राइम ब्रांच की संयुक्त टीम ने फर्जी कैप्टन को गिरफ्तार कर लिया. गिरफ्तारी के बाद आरोपी को न्यायालय में पेश किया गया, जहां से उसे जेल भेज दिया गया.
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज