Home /News /uttar-pradesh /

अयोध्या के राम मंदिर का अंतिम खाका तय, अन्य देवी-देवताओं के 6 मंदिर बनेंगे परिसर में

अयोध्या के राम मंदिर का अंतिम खाका तय, अन्य देवी-देवताओं के 6 मंदिर बनेंगे परिसर में

अयाेध्या के राम मंदिर परिसर में 6 अन्य देवी-देवताओं के मंदिर भी बनेंगे. (सांकेतिक)

अयाेध्या के राम मंदिर परिसर में 6 अन्य देवी-देवताओं के मंदिर भी बनेंगे. (सांकेतिक)

Final blueprint : अंतिम योजना के अनुसार, जन्मभूमि परिसर में विभिन्न देवी-देवताओं के 6 मंदिरों का निर्माण होगा. इसके अनुसार परिसर में भगवान सूर्य, भगवान गणेश, भगवान शिव, देवी दुर्गा, भगवान विष्णु और भगवान ब्रह्मा के मंदिर बनाए जाएंगे.

अधिक पढ़ें ...

    अयोध्या. अयोध्या में राम मंदिर निर्माण समिति द्वारा तैयार अंतिम योजना के अनुसार राम जन्मभूमि मंदिर परिसर में 6 देवी-देवताओं के मंदिरों का भी निर्माण करवाया जाएगा. राम मंदिर ट्रस्ट के सदस्य अनिल मिश्रा ने कहा कि मंदिर की नींव का निर्माण जोर-शोर से हो रहा है और इसके अक्टूबर के अंत या नवंबर के पहले सप्ताह तक पूरा हो जाने की उम्मीद है.

    अंतिम योजना के अनुसार, जन्मभूमि परिसर में विभिन्न देवी-देवताओं के 6 मंदिरों का निर्माण होगा. इसके अनुसार परिसर में भगवान सूर्य, भगवान गणेश, भगवान शिव, देवी दुर्गा, भगवान विष्णु और भगवान ब्रह्मा के मंदिर बनाए जाएंगे. मिश्रा ने कहा, ‘विभिन्न देवी देवताओं के ये 6 मंदिर राम मंदिर की बाहरी परिधि में लेकिन परिसर के भीतर बनाए जाएंगे. हिंदू धर्म में भगवान राम की पूजा के साथ ही इन देवताओं की पूजा भी बहुत महत्वपूर्ण है.’

    इसे भी पढ़ें : कांग्रेस को छोड़ तमाम पार्टियों ने अयोध्या से ही फूंका अपना चुनावी बिगुल

    अनिल मिश्रा ने कहा कि नींव के पूरा हो जाने के बाद अक्टूबर के अंत से या नवंबर के पहले सप्ताह से मंदिर के आधार का निर्माण शुरू हो जाएगा. उन्होंने कहा कि भव्य मंदिर की संरचना में पत्थरों को लगाने के लिए चार अलग-अलग स्थानों पर चार टावर क्रेन लगाए जाएंगे. मिश्रा ने कहा कि 1 लाख 20 हजार वर्ग फुट चौड़े और 50 फुट गहरी नींव का निर्माण कार्य अक्टूबर के अंत तक पूरा होने की उम्मीद है. उन्होंने कहा कि मंदिर ट्रस्ट ने अब नींव को समुद्र तल से 107 मीटर ऊपर लाने के लिए नींव क्षेत्र पर चार अतिरिक्त परतें बनाने का निर्णय किया है.

    इसे भी पढ़ें : OMG: हरदोई के 200 साल पुराने मंदिर में नीम के पेड़ से प्रकट हुईं देवी! ग्रामीणों का जमघट

    राम जन्मभूमि ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय के मुताबिक, सीमेंट अधिक गर्मी सोखता है, जिससे वातावरण में गर्मी बढ़ेगी. इससे बचने के लिए मंदिर के निर्माण में सीमेंट का कम से कम उपयोग किया जा रहा है. राम मंदिर के ‘सुपर स्ट्रक्चर’ के आधार का निर्माण उत्तर प्रदेश के मिर्जापुर के 3.5 लाख घन फुट पत्थरों से किया जाना है. मिर्जापुर स्थित दो निजी कंपनियों को पत्थर काटने और लगाने का ठेका दिया गया है. सूत्रों ने बताया कि मिर्जापुर में महज 10 से 12 घंटे ही बिजली आपूर्ति होने से पत्थरों की कटाई और घिसाई धीमी हो गई है.

    Tags: Ayodhya ram mandir, Ram Mandir Trust, Sampat Rai

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर