Home /News /uttar-pradesh /

बाबरी बरसी: हाजी महबूब बोले- कार्यक्रम नहीं, मारे गए मुसलमानों के लिए मस्जिद में होगी कुरान खानी

बाबरी बरसी: हाजी महबूब बोले- कार्यक्रम नहीं, मारे गए मुसलमानों के लिए मस्जिद में होगी कुरान खानी

बाबरी मस्जिद की बरसी पर पूर्व बाबरी पक्षकार हाजी महबूब ने 6 दिसंबर को कोई भी कार्यक्रम न किए जाने के आश्वासन दिया है.

बाबरी मस्जिद की बरसी पर पूर्व बाबरी पक्षकार हाजी महबूब ने 6 दिसंबर को कोई भी कार्यक्रम न किए जाने के आश्वासन दिया है.

6th December Ayodhya Security Alert: बाबरी मस्जिद की बरसी पर पूर्व बाबरी पक्षकार हाजी महबूब ने 6 दिसंबर को कोई भी कार्यक्रम न किए जाने के आश्वासन दिया है. उन्होंने कहा कि अब फैसला राम जन्मभूमि के पक्ष में आ चुका है, इसलिए कार्यक्रम नहीं किया जाएगा. 6 दिसंबर 1992 को मारे गए मुस्लिम समाज के लोगों की आत्मा की शांति के लिए मस्जिदों में कुरान खानी का कार्यक्रम किया जाएगा. इसके साथ ही उन्होंने मथुरा का मामला उठाए जाने पर कहा कि अगर हिंदू मथुरा पर आगे बढ़ेंगे तो फिर मुस्लिम समाज भी पीछे नहीं रहेगा. मुंह तोड़ जवाब दिया जाएगा.

अधिक पढ़ें ...

अयोध्या. पूर्व बाबरी पक्षकार हाजी महबूब (Haji Mehboob) ने 6 दिसंबर को लेकर कोई भी कार्यक्रम न किए जाने के आश्वासन दिया है. उन्होंने कहा है कि अब फैसला राम जन्मभूमि के पक्ष में आ चुका है, तो उसमें कोई भी कार्यक्रम नहीं किया जाएगा. 6 दिसंबर 1992 को मारे गए मुस्लिम समाज के लोगों की आत्मा की शांति के लिए मस्जिदों में कुरान खानी का कार्यक्रम किया जाएगा. साथ ही हाजी महबूब ने कहा कि जब मस्जिद गिराई गई थी, उसके बाद चले मुकदमे के दरमियान यह आश्वासन दिया गया था कि आगे कोई ऐसी पुनरावृत्ति नहीं होगी, मगर मथुरा का मामला फिर उठा रहे हैं. अगर हिंदू मथुरा पर आगे बढ़ेंगे तो फिर मुस्लिम समाज भी पीछे नहीं रहेगा मुंह तोड़ जवाब देगा.

आपको बताते चलें कि 6 दिसंबर 1992 को बाबरी ढांचा विध्वंस हुआ था, जिसका 28 साल तक मुकदमा चला और फैसला भगवान राम लला के पक्ष में आया. रामलला का भव्य मंदिर निर्माण शुरू हो गया है, लेकिन 6 दिसंबर 1992 की घटना के बाद मुस्लिम समाज 6 दिसंबर को काला दिवस मनाते हैं और शोक संवेदना व्यक्त करते हैं. मस्जिद को गिराए जाने के लिए उस दरमियान हुए विवाद में मारे गए मुस्लिम समाज के लोगों के लिए.

वहीं, हिंदू समाज के लोग 6 दिसंबर को शौर्य दिवस के रूप में मनाते रहे, जिसको लेकर के तमाम कार्यक्रम भी आयोजित किए जाते थे मगर पिछले 2 सालों से अयोध्या विवाद पर फैसला आने के बाद इस पर लगाम लग गई है. अब किसी तरीके का कोई भी कार्यक्रम अयोध्या में मनाने पर पाबंदी है. मुस्लिम समाज के लोग 6 दिसंबर 1992 को मारे गए मुस्लिमों की आत्मा की शांति के लिए मस्जिदों में कुरान खानी का कार्यक्रम करते हैं.

बाबरी मस्जिद के पूर्व हाजी महबूब ने कहा कि कल 6 दिसंबर है और हम कोई आयोजन नहीं करेंगे. पहले 6 दिसंबर के दिन मीटिंग होती थी, लेकिन अब जब फैसला हो चुका है और मुकदमे में राम जन्मभूमि के पक्ष में फैसला हुआ है इसलिए अब कोई कार्यक्रम करने से कोई फायदा नहीं है. 6 दिसंबर 1992 की घटना में मारे गए मुस्लिम समाज के लोगों के आत्मा की शांति के लिए मस्जिदों में कुरान खानी का कार्यक्रम होगा. यह मारे गए मुस्लिम समाज के लोगों की यादें ताजा करना जरूरी है.

मथुरा को लेकर दिए गए बड़े बयान और मंदिर निर्माण की घोषणा पर बोलते हुए उन्होंने कहा कि जब बाबरी मस्जिद शहीद हुई थी और उस पर मुकदमा चला था तो इस बात का आश्वासन दिया गया था कि अब आगे कोई भी इस तरह की घटना की पुनरावृत्ति नहीं होगी, लेकिन एक बार फिर नया विवाद खड़ा कर रहे हैं. इस पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए हाजी महबूब ने कहा कि जो होगा देखा जाएगा. मथुरा मामले पर हम भी पीछे नहीं हटेंगे. अगर हिंदू समाज मथुरा के मामले पर आगे बढ़ेगा तो मुस्लिम समाज भी पीछे नहीं हटेगा. उनको मुंहतोड़ जवाब दिया जाएगा. जो भी कदम आगे बढ़ाएंगे उसका जवाब दिया जाएगा.

Tags: Ayodhya Security Alert, Babri Masjid demolition anniversary, Haji Mehboob Bayan, Mathura Krishna Janmabhoomi Controversy

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर