होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /Chhath puja 2022: इन व्यंजनों के बिना अधूरा रहता है छठ का महापर्व, जानें- कैसे किए जाते हैं तैयार

Chhath puja 2022: इन व्यंजनों के बिना अधूरा रहता है छठ का महापर्व, जानें- कैसे किए जाते हैं तैयार

छठ पूजा के व्रती महिलाओं की फाइल तस्वीर

छठ पूजा के व्रती महिलाओं की फाइल तस्वीर

4 दिवसीय छठ पूजा में पहले दिन घर की साफ सफाई के साथ नहाए खाए की परंपरा शुरू होती है, सूर्योपासना के आखिरी दिन दिन उगते ...अधिक पढ़ें

    सर्वेश श्रीवास्तव/अयोध्या. देशभर में छठ पर्व या षष्‍ठी पूजा कार्तिक शुक्ल पक्ष के षष्ठी को मनाया जाने वाला सनातनी त्यौहार है. जिसका सनातन धर्म के लोग विधि-विधान पूर्वक बड़े ही धूमधाम से मनाते हैं. 4 दिवसीय छठ पूजा में पहले दिन घर की साफ सफाई के साथ नहाए खाए की परंपरा शुरू होती है. सूर्योपासना के आखिरी दिन दिन उगते सूर्य को अर्घ्य देकर त्यौहार का समापन किया जाता है.

    36 घंटों के इस लंबे व्रत में हर एक दिन अपने आप में खास मायने रखता है. छठ के इस महापर्व पर कई पारंपरिक और खास पकवान भी बनाए जाते हैं. आइए जानते हैं आखिर छठ पूजा में बनने वाले पकवान के बारे में .

    कद्दू चावल
    चार दिवसीय छठ पूजा में पहले दिन खाए नहाए होता है. जिसमें शुद्ध शाकाहारी भोजन बनता है. परिवार के सभी सदस्य स्नान करके कद्दू और चावल खाते हैं. इसके साथ चने की दाल लौकी और चावल भी खाया जाता है.

    आपके शहर से (अयोध्या)

    अयोध्या
    अयोध्या

    खरना खीर
    वैसे सनातन धर्म के अनेक त्यौहारों में लगभग खीर बनाया जाता है. लेकिन इस महापर्व के दूसरे दिन खरना पर खीर बनाने की परंपरा सदियों से चली आ रही है. इस दिन व्रती महिलाएं समेत परिवार के सदस्य गुण और चावल का खीर बनाकर खाते हैं.

    ठोकवा
    छठ के प्रमुख प्रसाद में से एक ठोकवा का नाम आता है. घर के एक किचन के अलावा एक अलग किचन ठोकवा बनाने के लिए बनाना पड़ता है. जहां अलग चूल्हे पर इसे बनाया जाता है. गेहूं के आटे और गुड़ को एक साथ मिलाकर बनाया जाता है. धार्मिक मान्यता है कि, ठोकवा के बिना छठ का महापर्व अधूरा माना जाता है.

    Tags: Ayodhya News, Uttar pradesh news

    टॉप स्टोरीज
    अधिक पढ़ें