लाइव टीवी

Deepawali 2019: इस दिवाली ऐसे करें घर की साज-सज्जा और पूजा, बढ़ेगी सैलरी, होगी धनवर्षा

KB Shukla | News18 Uttar Pradesh
Updated: October 25, 2019, 1:06 PM IST
Deepawali 2019: इस दिवाली ऐसे करें घर की साज-सज्जा और पूजा, बढ़ेगी सैलरी, होगी धनवर्षा
इस तरीके से मनाएं दिवाली घर आएंगी लक्ष्मी

अयोध्या के प्रख्यात ज्योतिषी सुशील कुमार सिंह कहते हैं घर का जो पश्चिम भाग होता है, वह लाभ का भाग होता है. वहां पर आप शुभ-लाभ जरूर लिखिए.

  • Share this:
अयोध्या. दिवाली (Deepawali 2019) भगवान श्रीराम के अयोध्या पहुंचने व उनके राज्याभिषेक को लेकर मनाए जाने की परंपरा है, लेकिन दिवाली धन संपदा और वैभव का भी प्रतीक है. आइए हम आपको बताते हैं अयोध्या के प्रख्यात ज्योतिषी सुशील कुमार सिंह के अनुसार दिवाली कैसे मनाएं. दिवाली (Diwali) मनाने की भी अपनी एक परंपरा है. ज्योतिषी की नजर में दिवाली क्या है और कैसे उसको मनाया जाए?

घर के पश्चिम भाग में जरूर लिखें शुभ-लाभ

अयोध्या के प्रख्यात ज्योतिषी सुशील कुमार सिंह कहते हैं घर का जो पश्चिम भाग होता है, वह लाभ का भाग होता है. वहां पर आप शुभ-लाभ जरूर लिखिए, इससे शुभ-लाभ ही होगा. वहां पर आप अपनी सैलरी स्लिप रख दें तो सैलरी बढ़ेगी या फिर सैलरी में इंक्रीमेंट होगा. पश्चिम भाग को सफेद या नीले रंग में रखें. बेहतर होगा कि पश्चिम भाग को नीला ही रखा जाए, क्योंकि नीला रंग आकाश का तत्व होता है. घर के उत्तर भाग में आप कुबेर को स्थापित कीजिए. खासकर पीले रंग के कुबेर हों, वह भी पीतल के, जो हल्का सा नीला रंग लिए भी हो.

तीन टांगों वाले कुबेर ही घर लाएं

सुशील कुमार सिंह बताते हैं कि कुबेर को चीन ने लाफिंग बुद्धा बना दिया है. कुबेर को उसी तरह लेना है कि जो हमारे पुराणों में उल्लेख है. कुबेर की तीन टांगे थीं कुबेर की जो भी मूर्ति लीजिए उसमें तीन टांगे हों. यही शुभ माना जाता है.

गणेश की मूर्ति ऐसी होनी चाहिए

दिवाली के दिन गणेश-लक्ष्मी की मूर्ति रखी जाती है. गणेश की मूर्ति भी लेना अपने आप में एक अलग अनुभव होता है. जब भी गणेश जी की मूर्ति लीजिए तो पेट से उनका सिर बड़ा हो और बड़े कान वाला ही मूर्ति ढूंढिए. फिर गणेश जी को घर के उत्तर-पूर्व में स्थापित कर दीजिए. हो सके तो सिद्धि विनायक की मूर्तियां स्थापित करें. पश्चिम भाग में महालक्ष्मी को स्थापित करें, जिसमें 4 सफेद हाथी हो और उस दिन खासकर स्त्रियों के लिए विशेष ध्यान देने की जरूरत है कि स्त्री गहरे लाल रंग की साड़ी पहने. दक्षिण पूर्व में लाल बल्ब जलाइये. पूजा दक्षिण पूर्व में कीजिए और कनकधारा स्त्रोत या फिर लक्ष्मी स्त्रोत का उच्चारण जरूर करें.
Loading...

ये भी पढ़ें:

Dhanteras 2019: धनतेरस पर इस शुभ मुहूर्त पर करें खरीददारी, ये है पूजा विधि

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अयोध्या से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 25, 2019, 1:06 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...