होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /Mauni Amavasya 2023: मौनी अमावस्या पर बन रहा 'शनि' का शुभ संयोग, इस जाप से चमकेगा आपका का भाग्‍य

Mauni Amavasya 2023: मौनी अमावस्या पर बन रहा 'शनि' का शुभ संयोग, इस जाप से चमकेगा आपका का भाग्‍य

मौनी अमावस्या

मौनी अमावस्या

Ayodhya News: ज्योतिषाचार्य पंडित कल्कि राम बताते हैं कि माघ मास में पड़ने वाली अमावस्या को मौनी अमावस्या कहा जाता है. ...अधिक पढ़ें

रिपोर्ट- सर्वेश श्रीवास्तव

अयोध्या: सनातन धर्म में मौनी अमावस्या का बड़ा महत्व है. यह पर्व हर वर्ष माघ माह की अमावस्या तिथि को मनाया जाता है. इस बार मौनी अमावस्या 21 जनवरी दिन शनिवार को मनाया जाएगा. इस साल शनिवार के दिन पड़ रही मौनी अमावस्या ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक बेहद खास मानी जा रही है. शनिवार दिन पड़ने की वजह से इस बार शनिदेव का मौनी अमावस्या पर शुभ संयोग बन रहा है. ऐसी स्थिति में मौनी अमावस्या के दिन शनि देव की विधिवत पूजा आराधना करने से कई तरह के शुभ परिणाम की प्राप्ति हो सकती है. तो चलिए जानते हैं आखिर वह कौन सा कार्य है जिसको करने से शनिदेव खुश होंगे और अपने भक्तों को झोली भरेंगे .

ज्योतिषाचार्य पंडित कल्कि राम बताते हैं कि माघ मास में पड़ने वाली अमावस्या को मौनी अमावस्या कहा जाता है. इस साल शनिवार के दिन मौनी अमावस्या पड़ने से इसका शुभ संयोग और बढ़ जाता है. इस बार मौनी अमावस्या के साथ-साथ भगवान शनिदेव को प्रसन्न करने का दिव्य अवसर प्राप्त हो रहा है. जिन बंधुओं को साढ़ेसाती भगवान शनि से कोई परेशानी हो रही है. उनको इस दिन भगवान शनि को प्रसन्न करने का खास अवसर मिल रहा है.

आपके शहर से (अयोध्या)

अयोध्या
अयोध्या

जानिए कैसे करें शनि देव को प्रसन्न
ज्योतिषाचार्य पंडित कल्कि राम बताते हैं कि इस दिन स्नान ध्यान कर काली उड़द लोहे की कील कोयला काले कपड़े में बांधकर बहते हुए नदी में प्रवाहित करें. इसके साथ गही सायकाल में पीपल के वृक्ष के नीचे सरसों के तेल का दीपक जलाएं. काले कुत्ते को रोटी अथवा बिस्किट खिलाएं. इसके अलावा सुंदरकांड और हनुमान चालीसा का पाठ करें.

इन मंत्रों का करें जप
ॐ शं शनिश्चराय नम:अपराधसहस्त्राणि क्रियन्तेऽहर्निशं मया।
दासोऽयमिति मां मत्वा क्षमस्व परमेश्वर।।
गतं पापं गतं दु:खं गतं दारिद्रय मेव च।
आगता: सुख-संपत्ति पुण्योऽहं तव दर्शनात्।।
ऊँ त्रयम्बकं यजामहे सुगंधिम पुष्टिवर्धनम।
उर्वारुक मिव बन्धनान मृत्योर्मुक्षीय मा मृतात ।
ॐ शन्नोदेवीरभिष्टय आपो भवन्तु पीतये।शंयोरभिश्रवन्तु नः।
ऊँ शं शनैश्चराय नमः।
ऊँ नीलांजनसमाभासं रविपुत्रं यमाग्रजम्‌।
छायामार्तण्डसम्भूतं तं नमामि शनैश्चरम्‌।

नोट: यहां दी गई जानकारी मान्यताओं पर आधारित है न्यूज 18 इसकी पुष्टि नहीं करता है.

Tags: Ayodhya News Today, Hindu Temples, River Ganga, UP news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें